Khula Sach
कारोबारताज़ा खबर

टेक मोबिलिटी स्टार्टअप ऑटोमोविल ने पुणे में रखा कदम

~ शहर में कंपनी के स्वामित्व वाले 3 हब्स जोड़े और 20 वर्कशॉप्‍स के साथ साझेदारी की

मुंबई : फुल-स्टैक मोबिलिटी स्टार्टअप, ऑटोमोविल ने पुणे में अपना परिचालन शुरू किया है। शहर में विस्तार के पहले चरण में, ब्रांड ने 20 कार रिपेयर वर्कशॉप्‍स के साथ साझेदारी की है और कंपनी के स्‍वामित्‍व वाले 3 हब्‍स स्‍थापित किये हैं। नया लॉन्च ब्रांड की हाल ही में घोषित पश्चिम भारत विस्तार रणनीति के अनुरूप है। इस लॉन्च के साथ, ऑटोमोविल ने 16 से अधिक शहरों- बेंगलुरु, हैदराबाद, गुरुग्राम, फरीदाबाद, नोएडा, गाजियाबाद, गुवाहाटी, हैदराबाद, पटना, अहमदाबाद, लखनऊ, चेन्नई, जयपुर, मुंबई, पुणे और कलकत्ता में अपनी खुदरा उपस्थिति को भी मजबूत किया है।

ऑटोमोविल के सह-संस्थापक और सीबीओ, श्री रमना साम्बू ने कहा, “वाहन स्वामित्व के मामले में पुणे भारत का 7 वां सबसे बड़ा शहर और महाराष्ट्र का दूसरा सबसे बड़ा शहर है। हम शहर में संभावित ग्राहकों की जरूरतों को पूरा करने के लिए शानदार गुंजाइश देखते हैं। जैसा कि हमारे पास पहले से ही देश भर में 10 से अधिक हब के सफलतापूर्वक संचालन का अनुभव है, हम पुणे के ग्राहकों को परेशानी मुक्त, सुविधाजनक और पारदर्शी लागत प्रभावी सेवाएं प्रदान करने की पुष्टि करते हैं। वर्तमान में, ब्रांड हर महीने 300 ऑर्डर्स पूरे कर रहा है और चालू वित्त वर्ष के अंत तक यह आंकड़ा 1.5 लाख ऑर्डर्स हो जाने का अनुमान है।”

महामारी के बाद ब्रांड की मांग में 250% की वृद्धि की प्रतिक्रिया में, इसने जारी वित्‍त वर्ष के लिए हाल ही में अपनी विस्तार योजना जाहिर की थी। स्टार्ट-अप का लक्ष्य पश्चिम भारत और पूर्वी भारत में अपनी मौजूदगी बढ़ाने की है। इस वित्तीय वर्ष के भीतर ही 5 और शहरों में परिचालन शुरू करने की योजना है। ब्रांड ने पुणे में अपनी आरंभिक अवधि के दौरान बी2बी क्लाइंट्स को पिछले 6 महीने में कुशलतापूर्वक कार मरम्मत सेवाएं प्रदान की है और लक्षित ग्राहकों की ओर से बढ़ती पूछताछ के साथ, इसने बी2सी परिचालन भी शुरू किया।

ऑटोमोविल ने पुणे शहर के पिम्परी, काडनगर एवं सौदागर में महत्वपूर्ण रूप से अपने हब्स स्थापित किए हैं और यहाँ के विशाल ग्राहक आधार को सेवा प्रदान करने के लिए 20 वर्कशॉप्स के साथ साझेदारी की है। अकेले 3 हब्स ही प्रति दिन 200 से अधिक कारों को सेवा प्रदान करने में सक्षम हैं।

Related posts

Mumbai ” श्रीयम न्यूज नेटवर्क ” ने हिंदी साहित्य से जुड़े लोगों की प्रतिभा को निखारने के लिए किया प्रतियोगिता का आयोजन

Khula Sach

यूनिवर्सिटी लिविंग का सोशल स्कॉलरशिप्स प्रोग्राम, विद्यार्थियों को मिलेगी 5000 यूरो की छात्रवृत्ति

Khula Sach

अध्ययन के अनुसार 8% से भी कम विचाराधीन कैदियों ने कानूनी सेवाओं का इस्तेमाल किया

Khula Sach

Leave a Comment