Khula Sach
ताज़ा खबरमनोरंजन

Poem : “मन की लहरें”

✍️ चांदनी गुप्ता, संगम विहार, दिल्ली

समुद्र से गहरे मन में
न जाने है कितने विचार।
कभी शीतल जल सी शांत, खुद में एकांत
ना जाने मन की ये कैसी पुकार।

कभी धाराओं से बहती
कभी तूफ़ानों सी लेती उड़ान।
समुद्र से गहरे मन में
ना जाने है कितने विचार।

आशाओं का समुंदर भरा
मन के अंदर, हर एक लहर
उम्मीद के गोते खाती
फिर नीचे गिर जाती।

मन की आशाओं में
एक किरण फिर भी रह जाती,
हारे मन में उम्मीद की
एक किरण फिर से जागती।

जगमग दुनिया से
एकान्त, समुद्र सी शांत,
समुद्र से गहरे मन में
ना जाने है कितने विचार।

Related posts

‌खजुराहो‌ ‌इंटरनेशनल‌ ‌फिल्म‌ ‌फेस्टिवल‌ : सिनेमा‌ ‌की‌ ‌विश्व‌ ‌विरासत‌ ‌को‌ ‌बचाने‌ ‌का‌ ‌अथक‌ ‌प्रयास‌‌

Khula Sach

Mirzapur : ट्रैक्टर-ट्रॉली व जीप की टक्कर में एक की मौत, एक घायल

Khula Sach

टाटा-कंपनी ने महामारी कोरोना संक्रमण आपदा की चपेट में आने वाले अपने स्टाफ-कर्मियो के पीडित परिजनो को (60) साल तक पूरा वेतन व अन्य सुविधाएं देने का किया बड़ा ऐलान

Khula Sach

Leave a Comment