Khula Sach
ताज़ा खबरमनोरंजन

Poem : ” संघर्ष “

✍️ चांदनी गुप्ता, संगम विहार, दिल्ली

तू ना साथ किसी का मांगना,
ना राह किसी की निहारना,
लक्ष्य की तलाश में,
संघर्ष को ललकारना।

तू चल पग पग पर ,
पथ नहीं निहारना।
है राह में ठोकर कई ,
इससे न हार मानना।
कर खुद को मजबूत यू ,
बवंडर को भी लांधना

तू सुुन कटाक्ष को,
खुद को नहीं नकारना।
शब्दों के कड़वे जाल को,
अमृत तुझे है मानना।
निराशाओ की राह में,
आशा का दामन थामना।

तू चल अकेली राह पर,
हुजूम भारी राह नहीं है साधना।
अंधियारी भरी राह में,
जुगनू सा खुद को मानना।
टूटी उम्मीद से बाहर निकल,
नई रहा है तलाशना।

तू ना साथ किसी का मांगना,
ना राह किसी की निहारना,
लक्ष्य की तलाश में,
संघर्ष को ललकारना।

Related posts

पहलाज निहलानी की फिल्म में नज़र आएंगे सज्जाद शेख़

Khula Sach

Mirzapur : नए साल के जश्न में भी याद रहे कोविड प्रोटोकाल : डाक्टर अजय

Khula Sach

एंजल ब्रोकिंग ने अपने प्लेटफॉर्म पर ‘स्मॉलकेस’ सेवाएं पेश की

Khula Sach

Leave a Comment