Khula Sach
ताज़ा खबरमनोरंजन

Poem : हम अपनों के बिन अधूरे हैं

✍️ चेतनाप्रकाश चितेरी, प्रयागराज, (उ.प्र.)

हम अपनों के बिन अधूरे हैं,
छोटा–सा जीवन!

देखा है हमने
अपनों के बिन ए! जिंदगी! अधूरी है,
हम अपनों के बिन अधूरे हैं।

छोटा-सा जीवन!
सपने हैं मेरे बस इन्हीं से,

देखा है हमने,
बिन इनके मेरे सपने अधूरे हैं,
अपनों के बिना ए! जिंदगी! अधूरी है,
हम अपनों के बिन अधूरे हैं।

छोटा–सा जीवन!
मेरी ख़ुशियांँ इन्हीं से,
बिन इनके घर कैसा?

देखा है हमने,
वह घर ही अधूरा है,
जिस घर में मेरे अपने ना हों,
हम अपनों के बिन अधूरे हैं।

छोटा–सा जीवन!
चेतना अपनों के बिन यह जीवन अधूरा है,

देखा है हमने
अपनों के बिन ए! जिंदगी! अधूरी है,
हम अपनों के बिन अधूरे हैं।

Related posts

बसंत पंचमी : महत्व, मुहूर्त एवम् पूजन विधि

Khula Sach

Mirzapur : नाबालिक को बहला फुसलाकर भगा ले जाने व दुष्कर्म करने का आरोपी वांछित अभियुक्त गिरफ्तार

Khula Sach

टाटा मोटर्स ने बीएस6 फेज 2 उत्‍सर्जन नियमों से पहले अपने व्‍यावसायिक वाहनों की कीमतें बढ़ाईं 

Khula Sach

Leave a Comment