Khula Sach
ताज़ा खबर मनोरंजन

Poem : हम अपनों के बिन अधूरे हैं

✍️ चेतनाप्रकाश चितेरी, प्रयागराज, (उ.प्र.)

हम अपनों के बिन अधूरे हैं,
छोटा–सा जीवन!

देखा है हमने
अपनों के बिन ए! जिंदगी! अधूरी है,
हम अपनों के बिन अधूरे हैं।

छोटा-सा जीवन!
सपने हैं मेरे बस इन्हीं से,

देखा है हमने,
बिन इनके मेरे सपने अधूरे हैं,
अपनों के बिना ए! जिंदगी! अधूरी है,
हम अपनों के बिन अधूरे हैं।

छोटा–सा जीवन!
मेरी ख़ुशियांँ इन्हीं से,
बिन इनके घर कैसा?

देखा है हमने,
वह घर ही अधूरा है,
जिस घर में मेरे अपने ना हों,
हम अपनों के बिन अधूरे हैं।

छोटा–सा जीवन!
चेतना अपनों के बिन यह जीवन अधूरा है,

देखा है हमने
अपनों के बिन ए! जिंदगी! अधूरी है,
हम अपनों के बिन अधूरे हैं।

Related posts

भाई-बहन का प्यार, रक्षाबंधन का त्योहार

Khula Sach

2021 का स्वागत : यह एक नई शुरुआत होगी !

Khula Sach

मोदी सरकार इतनी निर्दयी हो चुकी है कि वह हाड़ कपा देने वाली भयंकर सर्दी में किसानों की तरफ नहीं देख रही है – आरिफ राजा

Khula Sach

Leave a Comment