Khula Sach
कारोबारताज़ा खबरदेश-विदेशराज्य

भारत सरकार ने पेटीएम पेमेंट्स बैंक को पुरस्कृत किया

पेटीएम को यूपीआई में सबसे कम तकनीकी खराबी के लिये किया सम्मानित

मुंबई : भारत के अपने पेटीएम पेमेंट्स बैंक लिमिटेड (पीपीबीएल) को यूपीआई ट्रांजैक्शंस में तकनीकी खराबी में औसतन सबसे कम दर बनाये रखने के लिये इलेक्ट्रॉनिक्स एवं सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय (एमईआईटीवाय) के डिजिधन मिशन के डिजिटल पेमेंट्स उत्सव में ‘श्रेष्ठ पुरस्कार’ प्रदान किया गया है। यह पुरस्कार पेटीएम यूपीआई से पावर्ड काफी तेज और सुरक्षित लेन-देन का सम्मान है। यह पुरस्कार रेल्वे, संचार और इलेक्ट्रॉनिक्स एवं सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री श्री अश्विनी वैष्णव ने दिया।

पीपीबीएल ने यूपीआई लेन-देनों की सफलता दर के मामले में एक बार फिर भारत के सभी प्रमुख बैंकों से बेहतर प्रदर्शन किया है। अपने मजबूत इन-हाउस टेक्नोलॉजी इंफ्रा के कारण इसकी टेक्निकल डिक्लाइन रेट सबसे कम है।

यूपीआई में यह बैंक पी2एम (व्यक्ति से व्यापारी) लेन-देनों में अग्रणी है और इसके परितंत्र में सबसे ज्यादा व्यापारी भागीदार हैं। पेटीएम पेमेंट्स बैंक सबसे बड़े लाभार्थी बैंक, अधिग्राहक बैंक और अग्रणी विप्रेषक बैंक के रूप में यूपीआई में अग्रणी बना हुआ है।

पेटीएम पेमेंट्स बैंक बिना किसी थर्ड पार्टी ऐप प्रदाता के, खुद से ही यूपीआई लेन-देन करवाता है। यह देश में व्यापारी भुगतानों और छोटे शहरों तथा कस्‍बों में ज्यादा स्वीकार्यता के चलते डिजिटल पेमेंट्स में अग्रणी है। ग्राहक और व्यापारी, दोनों ही यूपीआई के द्वारा पैसा भेजने और प्राप्‍त करने के लिये पेटीएम पेमेंट्स बैंक का इस्तेमाल पसंद कर रहे हैं, क्योंकि इसकी अत्याधुनिक इन-हाउस टेक्नोलॉजी सबसे तेज भुगतान और सफलता की उच्चतम दरें सुनिश्चित करती है।

पेटीएम पेमेंट्स बैंक यूपीआई में अग्रणी बना हुआ है। एनपीसीआई की नई रिपोर्ट के अनुसार, पीपीबीएल ने लाभार्थी बैंक के रूप में जनवरी 2023 में 1765.87 मिलियन से ज्यादा लेन-देन दर्ज किये और विप्रेषक बैंक के तौर पर 389.61 मिलियन से ज्यादा लेन-देन दर्ज किये हैं।

Related posts

World Human Rights Day 2021: आज है विश्व मानवाधिकार दिवस, बारीकी से जानें अपने अधिकार

Khula Sach

टीम वाइटेलिटी ने कॉल ऑफ ड्यूटी मोबाइल रोस्‍टर की घोषणा की

Khula Sach

Mirzapur : लगभग 6 साल से खराब है नेशनल हाईवे 7 से टांडा फाल जाने वाली लिंक रोड

Khula Sach

Leave a Comment