Khula Sach
ताज़ा खबर मनोरंजन

poem : “व्याकुल नैन ताकते अम्बर”

नमी नहीं बाकी तलअन्तस, वसुधा जल बिन तरसे।
व्याकुल नैन ताकते अम्बर, जाने कब घन बरसे।

फटी बिवाई लेकर घिसटें, सड़क बनीं अंगारा।
सूरज का चाबुक है चलता, चढ़ता नित नित पारा।
पोखर कूप होठ पपड़ाये, प्यास ढूंढती पनघट।
सूखे तृण सी छांह जली है, प्राण हारते जीवट।

सहमे से घर द्वार विलपते, तप्त पवन के डर से।
व्याकुल नैन ताकते अम्बर, जाने कब घन बरसे।

मोर नृत्य करना हैं भूले, मौन सुबकती कोयल।
खग मग हाँफ रहे हैं व्याकुल, जल बिन ढोतेकश्मल।
पर्ण विहीन विटप पंजर सम, गात लता कुम्हलाए।
धूसर रंग दिखे चहुं दिस में, सुखद हरित बिसराए।

घन रव सुने हृदय को अब तो, सीसी बीत गए हैं अरसे।
व्याकुल नैन ताकते अम्बर, जाने कब घन बरसे।

धरती विरहन करे प्रतीक्षा, कब संदेशा पाए।
नव जीवन देने को प्रीतम, मेघ दूत भिजवाए।
इंद्र धनुष चूनर सतरंगी, श्यामल श्वेत उड़ें घन।
स्वाति बूंद पी करता चातक, वर्षा का अभिनंदन।

दबे पांव से सरके सूखा, हर्षित हो वन सरसे।
व्याकुल नैन ताकते अम्बर, जाने कब घन बरसे।

Related posts

Kalyan : राष्ट्रवादी युवक काँग्रेस के जिलाध्यक्ष ने महाराष्ट्र विधानसभा अध्यक्ष नामदर नरहरी झिरवाळ को दी जन्मदिन की बधाई

Khula Sach

अपनी नई फिल्म-‘राम सेतु’ को लेकर अभिनेता अक्षय कुमार काफी उत्साहित हैं

Khula Sach

Varanasi : मिशन शक्ति के तीन मुख्य उद्देश्य नारी सुरक्षा, सम्मान एवं स्वावलंबन – डॉ मनोज कुमार तिवारी

Khula Sach

Leave a Comment