Khula Sach
कारोबार ताज़ा खबर

ऑडी ई-ट्रॉन बैटरी मॉड्युल्स की शक्ति ने भारत में रिक्शा का विद्युतीकरण किया

मुंबई : इलेक्ट्रिक कार बैटरियों के लिए सेकंड लाइफ (दूसरा जीवन) : जर्मन- इंडियन स्टार्ट-अप नूनम भारत की सडकों पर तीन इलेक्ट्रिक रिक्शा उतार रही है। वे यूज्ड बैटरियों से चलती हैं, जिन्हें ऑडी ई-ट्रॉन टेस्ट फ्लीट से लिया गया है। इस प्रोजेक्ट का लक्ष्य यह पता करना है कि उच्च वोल्टेज वाली बैटरियों से निर्मित मॉड्युल्स को किस प्रकार उनकी कार लाइफ साइकिल के बाद दोबारा प्रयोग किया जा सकता है और वह एक व्यावहारिक सेकंड-लाइफ यूज केस बन सकता है। इस प्रोजेक्ट का लक्ष्य भारत में महिलाओं के लिए नौकरी की संभावनाओं को मजबूत करना भी है, विशेषकर : उन्हें अपने सामान के परिवहन के लिए ई-रिक्‍शा दिया जाएगा। बर्लिन और बंगलोर में स्थित इस लाभ-निरपेक्ष स्टार्ट-अप को ऑडी एनवायरमेंटल फाउंडेशन से फंडिंग मिलती है। नूनम ने ऑडी के नेकर्सुल्म साईट में ट्रेनिग टीम के सहयोग से तीन प्रोटोटाइप विकसित किया है, जो बदले में सघन अंतर-सांस्कृतिक आदान-प्रदान से लाभान्वित होती है।

सेकंड-लाइफ बैटरियों द्वारा चालित ई-रिक्शा एक पायलट प्रोजेक्ट के तहत वर्ष 2023 की शुरुआत में पहली बार भारत की सडकों पर दिखाई देने लगेंगी। भारत में उन्हें लाभ-निरपेक्ष संगठन को उपलब्ध कराया जाएगा। विशेषकर महिलाएँ बाजार में अपने सामानों को बिक्री के लिए ले जाने में ऑल-इलेक्ट्रिक रिक्शा का प्रयोग कर सकेंगी, जिसमें कोई बिचौलिया नहीं होगा। ये ई-रिक्शा यूज्ड बैटरी मॉड्युल्स द्वारा संचालित हैं जिनका पहला जीवन चक्र ऑडी ई-ट्रॉन* में बीत चुका है। नूनम के को-फाउंडर, प्रदीप चटर्जी ने कहा कि, “पुरानी बैटरियां अभी भी काफी शक्तिशाली हैं। अगर उनका प्रयोग उचित तरीके से किया जाए तो सेकंड-लाइफ बैटरियों का जबरदस्त प्रभाव हो सकता है। उनसे लोगों जीवन की चुनौतीपूर्ण परिस्थितियों में कमाई करने और आर्थिक आत्मनिर्भरता पाने में मदद मिल सकती है – और सब होगा सस्टेनेबल तरीके से।

इस स्टार्ट-अप का प्राथमिक लक्ष्य है पुरानी बैटरियों को सेकंड-लाइफ पावर स्टोरेज सिस्टम के रूप में प्रयोग करने की विधि विकसित करना और इस प्रकार उनका जीवन बेहतर बनाना तथा संसाधनों को अधिक कार्यकुशलता के साथ इस्तेमाल करना।

चटर्जी ने आगे बताया कि, “कार की बैटरियों को कार के जीवन तक टिकने योग्य बनाया जाता है। लेकिन वाहन में उनके शुरुआती प्रयोग के बाद भी उनमें काफी पावर बची रहती है। न्यून रेंज और पावर वाले और न्यूनतर समग्र भार वाले वाहनों के लिए वे अत्यंत संभावनाशील हैं।”

“ई-अपशिष्ट का दोबारा इस्तेमाल” 31-वर्षीय चटर्जी के शब्दों में “ई-रिक्शा में एक उपयुक्त इको-एफिशिएंसी होती है।“ उच्च ऊर्जा घनत्व वाली बैटरी और तुलनात्मक रूप से कम वाहन भार के साथ इलेक्ट्रिक मोटर को खास पावरफुल होने की आवश्यकता नहीं होती है, क्योंकि भारत में रिक्शा ड्राईवर न तो बहुत तेज चलाते हैं, न बहुत दूर तक। जहाँ आज इस उपमहाद्वीप की सडकों पर इलेक्ट्रिकली पावर्ड रिक्शा आम बात है, वहीं वे अक्सर लेडएसिड बैटरियों पर चलती हैं जिनमें अपेक्षाकृत कम सर्विस लाइफ होती है और उनका निपटान प्रायः उचित विधि से नहीं किया जाता है।

इसके साथ ही, रिक्शा ड्राइवर्स अपने वाहनों को मुख्यतः पब्लिक ग्रिड इलेक्ट्रिसिटी से चार्ज करते हैं, जिसमें भारत में कोयला के उत्पन्न बिजली का अनुपात ज्यादा होता है। नूनम के पास इसका भी समाधान है : ई-रिक्शा सोलर चार्जिंग स्टेशनों से बिजली का प्रयोग करके चार्ज किये जाते हैं। सोलर पैनल्स स्थानीयसाझेदारों के परिसरों की छतों पर स्थित हैं। दिन के समय सूर्य की किरणें ई-ट्रॉन बैटरी को चार्ज करती हैं, जो एक बफर स्टोरेज यूनिट (मध्यवर्ती भंडारण यूनिट) का काम करती है। और शाम में पावर रिक्शा में भेज दिया जाता है।

इस दृष्टिकोण से स्थानीय ड्राइविंग व्यापक रूप से कार्बन मुक्त हो जाती है। परिणाम: इलेक्ट्रिक रिक्शा को दिन भर इस्तेमाल किया जा सकता है और शाम या रात के वक्त हरित बिजली से चार्ज किया जा सकता है। भारत में, जहाँ सूर्य की किरणें पूरे साल चमकती है, इसलिए छत पर सोलर पैनल्स लगाना बुद्धिमानी है। चार्जिंग स्टेशन को भी आतंरिक स्रोतों से विकसित किया गया था।

नूनम ई-रिक्शा के परफॉरमेंस और रेंज को लगातार मॉनिटर करता है। सामाजिक उद्यम सभी ई-रिक्शा के डेटा संकलित करते हैं और संकलित डेटा को सर्वसुलभ (ओपन-सोर्स) प्लैटफॉर्म circularbattery.org पर संभावित इमिटेटर्स के लिए उपलब्ध कराते हैं। असल में अनुकृति को स्पष्टतः प्रोत्साहित किया जाता है। ऑडी एनवायरमेंटल फाउंडेशन के डायरेक्टर रुडिगर रेक्‍नागेल ने कहा कि, “नूनम ने जिस पहल का प्रवर्तन किया है, ई-अपशिष्ट के लिए नए उपयोग के मामलों का पता लगाने के लिए उस तरह की पहल की ज़रुरत है – न केवल भारत में, बल्कि पूरे विश्व में भी। इसलिए, नूनम सेकंड-लाइफ कंपोनेंट्स के साथ उत्पादों ने निर्माण के लिए ज्यादा पहलों को प्रेरित करने के लिए अपने ज्ञान को शेयर करता है जिससे कि इको-सोशल परिवर्तन को आगे बढ़ाया जा सके।” यह फाउंडेशन वर्ष 2019 से नूनम को फण्ड मुहैया करा रहा है।

इसके अलावा, बैटरी के ऑडी ई-ट्रॉन* में प्रथम जीवन चक्र और ई-रिक्शा में दूसरा जीवन समाप्त हो जाने के बाद, ज़रूरी नहीं है कि इसकी कहानी पूरी तरह समाप्त हो चुकी है ई-ट्रॉन तीसरे चरण में बैटरियों की शेष शक्ति को एलईडी लाइटिंग जैसे स्थिर अनुप्रयोगों के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है। को-फाउंडर प्रदीप चटर्जी ने बताया, “हम रीसाइक्लिंग के पहले हर एक बैटरी से हर संभव चीज प्राप्त करना चाहते हैं।”

Related posts

यूजर की डेटा प्राइवेसी से जुड़ी प्रथाओं पर बिहेवियरल रिसर्च

Khula Sach

भारतीय सूचकांक गिरावट के साथ बंद ; निफ्टी 8 अंक, सेंसेक्स 80 अंकों की गिरावट के साथ बंद

Khula Sach

ओरिफ्लेम ने दो नए उत्पाद लॉन्च किए

Khula Sach

Leave a Comment