Khula Sach
कारोबारताज़ा खबरदेश-विदेश

टीआईई मुंबई के प्रेसिडेंट बनें डॉ. अपूर्व शर्मा

मुंबई : द इंडस आंत्रप्रेन्योर्स (टीआईई) मुंबई ने आज यह घोषणा की है कि डॉ. अपूर्व शर्मा मार्च 2023 से दो वर्षों की अवधि के लिये टीआईई मुंबई के प्रेसिडेंट इलेक्ट होंगे। रानु वोहरा भी इसी अवधि के लिये टीआईई मुंबई के प्रेसिडेंट होंगे।

टीआईई मुंबई के प्रेसिडेंट इलेक्ट डॉ. अपूर्व शर्मा ने कहा, “हम भारत के स्टार्टअप सेक्टर में वृद्धि की तेज गति देख रहे हैं। मैं टीआईई मुंबई में अपनी नई भूमिका से बहुत उत्साहित हूँ, जिससे कि मुझे इस गति में योगदान देने में सहायता मिलेगी। मैं अमित मूकिम को टीआईई मुंबई में बेहद सफल कार्यावधि के लिये बधाई देता हूँ। मुझे रानु वोहरा और बोर्ड के साथ मिलकर काम करने का इंतजार है, ताकि संरचित संरक्षण पर केन्द्रित होकर इस गति को जारी रखूं और उद्यमिता, नवाचार, ज्ञान के आदान-प्रदान तथा वित्तपोषण को बढ़ावा देकर विभिन्न साझीदारों के लिये महत्व बढ़ा सकूं। यह टीआईई मुंबई की यात्रा में एक मोड़ का वक्त है और वह विस्तार करने तथा ज्यादा पहलें करने के लिये तैयार है, ताकि हमारे पारितंत्र के बड़े मुद्दों को हल कर सके।”

टीआईई मुंबई ने पिछले 24 महीनों में उद्यमियों के लिये अपने परिचालन और पहुँच के सभी आयामों में महत्वपूर्ण सकारात्मक कदम उठाये हैं। महामारी के बाद टीआईई मुंबई ने डिजिटल के क्षेत्र से बाहर जाने में सफलता पाई और फिजिकल मीटिंग्स, इवेंट्स और कैच अप्स की दुनिया में दोबारा कदम रखा।

रानु वोहरा और डॉ. अपूर्व शर्मा का स्वागत करते हुए, टीआईई मुंबई के भूतपूर्व प्रेसिडेंट अमित मूकिम ने कहा, “पिछले 2 वर्षों में टीआईई मुंबई के चार्टर मेम्बर्स की संख्या आज 70 से बढ़कर 140 से ज्यादा हो गई है। टाइकॉन, ओपन इनोवेशन प्रोग्राम्स और मेम्बरशिप को मिलाकर टीआईई मुंबई का राजस्व आधार दोगुना बढ़ा है और इस साल के अंत तक यह तीन गुना हो जाएगा। आज हम अपनी संचालन संरचनाओं को चुस्त कर रहे हैं, एक मजबूत टीम बना रहे हैं, जिसमें 3 से 5 साल तक के विजन और नेतृत्व को ध्यान में रखते हुए बोर्ड और चार्टर मेम्बर्स हैं। रानु और अपूर्वा टीआईई मुंबई के नेतृत्व और टीआईई नेटवर्क का लंबे वक्त तक हिस्सा रहे हैं। वे दोनों मिलकर टीआईई मुंबई को नई ऊँचाई पर पहुँचाने और वृद्धि को जारी रखने के लिये अच्छी स्थिति में हैं।”

Related posts

लासा ने प्रतिस्पर्धी कंपनी के विरुद्ध मुकदमा दायर किया

Khula Sach

एकमुश्त निवेश या एसआईपी : शुरुआत के लिए बेहतर विकल्प

Khula Sach

काव्य-संग्रह ‘एक अकेला पेड़’ का विमोचन

Khula Sach

Leave a Comment