Khula Sach
खेलताज़ा खबरदेश-विदेशराज्य

अपनी टैगलाइन “लेट्स मेक इंडिया सेफ” को बनाए रखने के लिए जंपिन हाइट्स ने प्रतिष्ठित मान्यता अर्जित की है:”-निहारिका निगम

मुंबई /दिल्ली: जंपिन हाइट्स ने अपने सेफ्टी स्टैंडर्ड्स (सुरक्षा मानकों) के लिए बहुत सारे प्रशंसापत्र प्राप्त किये हैं। इसके अलावा कम्पनी ने कई पुरस्कार भी अपने बेहतरीन संचालन के लिए प्राप्त किये हैं। वीडियोग्राफी और फोटोग्राफी सुविधाओं ने सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर कम्पनी को काफी लोकप्रिय बना दिया है। मिलेनियल्स और जेन ज़ी आबादी के बीच जम्पिन हाइट्स काफी लोकप्रिय है। सामान्यतः हर कोई अपने डर का सामना करने के लिए उत्साहित रहता है, लेकिन सुरक्षा मानक को लोग ज्यादा चिंतित रहते हैं। जब वे सुरक्षा मानकों से संतुष्ट हो जाते हैं तभी ऐसे एडवेंचर्स एक्टिविटी में हिस्सा लेते हैं। जंपिन हाइट्स ने भारत में एडवेंचर खेलों को सुरक्षित बनाने में कोई कोर-कसर नहीं छोड़ी है।

भारतीय पर्यटन मंत्रालय के अनुसार देश में राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय पर्यटकों की संख्या हर साल बढ़ रही है। साल 2018 को दुनिया के अलग-अलग हिस्सों से हो रहे एडवेंचर में हो रहे जबरदस्त उछाल को देखते हुए ‘एडवेंचर टूरिज्म ईयर’ घोषित किया गया था। इसी ट्रेंड के कारण ऋषिकेश और गोवा एडवेंचर डेस्टिनेशन के रूप में लोकप्रियता प्राप्त कर रहे हैं। इन दोनों स्थानों पर जंपिन हाइट्स ने अपने सुरक्षित बंजी जम के माध्यम से लोकप्रियता बढ़ाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। साल 2010 से जंपिन हाइट्स ने एडवेंचर के शौकीन लोगों के बीच सुरक्षा की भावना पैदा की है

जम्पिन हाइट्स की बिजनेस डेवलपमेंट – डायरेक्टर श्री निहारिका निगम ने कहा, “जब से जम्पिन हाइट्स की स्थापना हुई तब से कम्पनी ने अपनी टैगलाइन “लेट्स मेक इंडिया सेफ” का पालन करते हुए कई प्रतिष्ठित पुरस्कार जीते हैं। मेरे पिता सेना में रह चुके हैं। उन्होंने भारत के सबसे ऊंचे बंजी की स्थापना 2010 में ऋषिकेश में की थी। यहाँ पर सुरक्षा मानकों को विश्व स्तरीय रखा गया। हम पर्यटकों के लिए वर्ल्ड क्लास अनुभव देने के लिए सबसे अच्छे संसाधनों का उपयोग करते हैं। जम्प जोन की डिजाइन न्यूजीलैंड के एक्सपर्ट्स ने आकर की है। शुरूआत में पहले इस जम्प ज़ोन की प्रैक्टिस एक फॉर्मल स्केल पर की गयी। हमने ऑस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड के सुरक्षा मानकों का पालन किया है और उनके साथ बंजी जंपिंग के भारतीय मानक स्थापित करने के लिए साझेदारी की है। हमारा इरादा हमेशा भारतीय गुणवत्ता और सुरक्षा के बारे में हमारे युवाओं में आत्मविश्वास और गर्व की भावना पैदा करना था। हमने 1,50,000 से ज्यादा जम्प पूरी की है। यह भारतीय एडवेंचर पर्यटन के लिए एक ऐतिहासिक रिकॉर्ड है। आने वाले समय में भी ऐसे कई सारे रिकॉर्ड बनेंगे।”

ऋषिकेश को आध्यात्मिक और भक्ति के लिए जाना जाता है और गोवा जगमगाती नाइटलाइफ़ के लिए जाना जाता है। इन दोनों जगहों पर जंपिन हाइट्स ने बंजी जंपिंग प्लेटफॉर्म स्थापित करके इन शहरों की लोकप्रियता में नया आयाम जोड़ा है। एडवेंचर पार्कों में उपलब्ध जॉयराइड्स से खेल को अलग करने के लिए कंपनी ने अपनी मानक प्रक्रियाओं को पेशेवर रूप से निर्धारित किया है। भारत में जंप मास्टर्स के हाइएस्ट स्टैंडर्ड्स में इंडिपेंडेंट जम्प को संभालने से पहले विभिन्न पदों पर 3 सालों के लिए 25,000 से ज्यादा जम्प में मदद करने के बाद ही यहां जंप मास्टर्स को जम्प के लिए प्रमाणित किया जाता है। इस स्टैण्डर्ड से कोई भी अपनी जम्प को लेकर आश्वस्त हो सकता है कि उसे जम्पिंग का आनंद उठाने में किसी भी ख़तरे की चिंता करने की जरूरत नहीं है।

इसके अलावा सभी प्रोटोकॉल फाउंडर और पूर्व-सैन्य कप्तान राहुल निगम द्वारा निर्धारित किए गए हैं। सभी प्रोटोकॉल सर्वोत्तम वैश्विक प्रथाओं के आधार पर हैं। साइट पर सुरक्षा अभ्यास नियमित रूप से आयोजित किए जाते हैं और आपात स्थिति से निपटने के लिए पूरा स्टाफ फर्स्ट ऐड (प्राथमिक चिकित्सा) में पारंगत है और रेड क्रॉस द्वारा प्रमाणित है।

Related posts

Mirzapur : टीका आने के साथ ही हम समस्या से समाधान की ओर बढ़ रहे : सीएमओ

Khula Sach

संगीतकार दिलीप सेन द्वारा चीता यज्ञेश शेट्टी को ’12वें महाराष्ट्र प्रेस्टीजियस रत्न अवार्ड-2021′ से सम्मानित किया गया

Khula Sach

Mumbai : राजस्थानी समाज द्वारा पधारों म्हारे देश कार्यक्रम का सफल आयोजन सम्पन्न

Khula Sach

Leave a Comment