Khula Sach
अन्यकारोबारताज़ा खबर

शहरों से बाहर टाउनशिप के विकास से बुनियादी ढांचे की वृद्धि को बढ़ावा मिलेगा और स्थायी शहरों का मार्ग प्रशस्त होगा

♦अनूप कुमार भार्गव, सीईओ और डायरेक्‍टर, एम्पायर सेंट्रम

शहर के बाहरी इलाके में आवासीय परियोजनाओं और टाउनशिप का निर्माण बेहद सामान्य बात है। बड़े संदर्भ में देखा जाए तो यह समग्र बुनियादी ढांचा विकास पर भी सकारात्मक प्रभाव डाल रहा है। नई इमारतों के साथ शहर के क्षेत्र का विस्तार करते हुए नई सड़कों का निर्माण किया जाता है। साथ ही बहुत अधिक सार्वजनिक सुविधाएं जैसे मनोरंजन स्थल, शैक्षणिक संस्थान और स्वास्थ्य सुविधाएं भी अस्तित्व में आ रही हैं।

सबसे महत्वपूर्ण पहलुओं में से एक यह है कि आवासीय परिसरों को फैलाने से घनी आबादी वाले क्षेत्रों में जनसंख्या का घनत्व भी कम हो जाता है, इस प्रकार शहरी क्षेत्रों में भीड़भाड़ और प्रदूषण में कमी आती है। यह कहने के बाद, शहरों और कस्बों के स्‍थायी विकास के लिए नियोजन करने की सख्‍त आवश्यकता है ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि वे पर्यावरण के अनुकूल तरीके से डिजाइन और निर्मित किए गए हैं जो क्षेत्र के पर्यावरण, सामाजिक और आर्थिक क्षेत्रों को बढ़ावा देते हैं।

इसमें यह सुनिश्चित करना शामिल है कि टाउनशिप सार्वजनिक परिवहन से अच्छी तरह से जुड़े हुए हैं, पर्याप्त हरित क्षेत्रों के साथ-साथ हरित स्थानों तक उचित पहुंच है, और सबसे महत्वपूर्ण रूप से इस तरह से इनका निर्माण किया जाता है जो विकास के पर्यावरणीय प्रभाव को कम करता है।

शुरुआती दिशा में सार्वजनिक परिवहन के उपयोग को बढ़ावा देकर स्थायी परिवहन को प्रोत्साहित करना, जिसके लिए अच्छी तरह से जुड़ी सड़कों और जंक्शनों की आवश्यकता होगी। साथ ही साइकिल के उपयोग को प्रोत्साहित करना या समर्पित साइकिल ट्रैक और उचित फुटपाथ के निर्माण के साथ आगे बढ़ा जा सकता है।

इसी प्रकार ऐसे बुनियादी ढांचे का निर्माण करना जो पर्यावरण के अनुकूल परिवहन जैसे इलेक्ट्रिक और हाइब्रिड वाहनों के उपयोग को बढ़ावा दे सके। इससे पर्यावरण पर सकारात्मक प्रभाव पड़ेगा और साथ ही वहां रहने वाले निवासियों के लिए ईंधन की लागत भी बचेगी।

अगला महत्वपूर्ण पहलू स्‍थायी निर्माण प्रणालियों को प्रोत्साहित करना है, जैसे कि ऊर्जा-कुशल डिजाइन, नवीकरणीय ऊर्जा स्रोतों का उपयोग और स्थानीय स्तर पर निर्माण सामग्री जो शहरी विकास के पर्यावरणीय प्रभाव को कम कर सकती हैं। जैसे, मिश्रित उपयोग के विकास को बढ़ावा देना और एकल विकास में आवासीय, वाणिज्यिक और औद्योगिक उपयोगों के मिश्रण को प्रोत्साहित करना। यह परिवहन की आवश्यकता को कम करने और अधिक जीवंत और रहने योग्य समुदायों को बनाने में मदद करेगा और स्थानीय रोजगार भी पैदा करेगा। इसी प्रकार उद्यानों और बगीचों जैसे हरित स्थानों के विकास और हरित पट्टी से हवा और पानी की गुणवत्ता में सुधार हो सकता है, मनोरंजन के अवसर मिल सकते हैं और साथ ही वनस्पतियों के साथ-साथ जीव-जंतुओं के लिए आवास का निर्माण भी हो सकता है।

एक और बहुत महत्वपूर्ण तत्व एक मजबूत अपशिष्ट प्रबंधन प्रणाली है। अपशिष्ट निपटान के पर्यावरणीय प्रभाव को कम करने के लिए पुनर्चक्रण और खाद बनाने सहित प्रभावी अपशिष्ट प्रबंधन नीतियों को लागू करके इसे सुनिश्चित किया जा सकता है। साथ ही सिंगल-यूज प्लास्टिक के उपयोग को कम करना और पर्यावरण के अनुकूल उत्पादों और विकल्पों के उपयोग को बढ़ावा देते हुए स्‍थायी खपत को प्रोत्साहित किया जा सकता है।

जब नया निर्माण किया जाता है, तो कई पहलुओं की पूर्व-योजना बनाई जा सकती है जैसे कि ऐसे भवन बनाना जो जलवायु परिवर्तन और अन्य पर्यावरणीय चुनौतियों के प्रति अधिक लचीले हों। पर्यावरण के अनुकूल इंफ्रास्‍ट्रक्‍चर और अनुकूल डिजाइन शहरी क्षेत्रों की दीर्घकालिक स्थिरता सुनिश्चित करने में मदद कर सकते हैं।

एम्पायर सेंट्रम का लॉन्च सही मायनों में उपरोक्त सभी पहलुओं का वास्‍तविक प्रमाण है। मुंबई शहर की सीमा से 35 किमी दूर अंबरनाथ में एक नई टाउनशिप बनाई गई है। पिछले लगभग आधे दशक में एम्पायर सेंट्रम को सभी ग्राहकों की मजबूत प्रतिक्रिया मिली है और अपनी पेशकशों के साथ पूरे एमएमआरडीए में अपनी पहचान बनाने में सक्षम रहा है। एम्पायर सेंट्रम भी महाराष्ट्र में अपनी तरह का पहला प्रोजेक्ट है जो ‘वॉक टू वर्क’ कॉन्सेप्ट पेश करता है। हाल ही में इस टाउनशिप को महाराष्ट्र के राज्यपाल के कर-कमलों द्वारा ‘द प्राइड ऑफ महाराष्ट्र प्रोजेक्ट अवार्ड’ से सम्मानित किया गया।

Related posts

लक्ष्मी और मिर्जापुर 2 के बाद, अमिका शैल ट्रैप्ड और मास्क मैन के साथ 2020 को कर रही है अलविदा

Khula Sach

क्रिएटिसिटी की निर्मिति ‘फ्यूचर ऑफ़ होम्स’ ई-बुक का दूसरा संस्करण लॉन्च

Khula Sach

हैप्पी लाइफ के लिए जरूरी है प्यार, स्पर्श, हग और सेक्स 

Khula Sach

Leave a Comment