Khula Sach
ताज़ा खबरदेश-विदेश

टाटा-कंपनी ने महामारी कोरोना संक्रमण आपदा की चपेट में आने वाले अपने स्टाफ-कर्मियो के पीडित परिजनो को (60) साल तक पूरा वेतन व अन्य सुविधाएं देने का किया बड़ा ऐलान

✍️ अनीता गुलेरिया

दिल्ली : वैश्विक-महामारी कोरोना संक्रमण आपदा के चलते हैं यहां बड़ी बड़ी कंपनी बंद होने की कगार पर आ गई है और कुछ कंपनियों ने अपने कर्मचारियों का या तो वेतन घटा दिया और कईयो ने कहा जब तक काम नहीं है,तब तक आप बिना वेतन घर बैठ जाइए व आपको नौकरी से नहीं निकाला जा रहा है ।

वहीं दूसरी तरफ टाटा कंपनी द्वारा कोरोना महामारी की चपेट में आए कंपनी के सभी स्टाफ कर्मचारियों की मृत्यु के बाद भी उनकी (60) साल की उम्र होने तक उनके परिजनों को पूरा वेतन दिया जाएगा । इसके अलावा परिवार के सदस्यों को मेडिकल सुविधाए व रहने का खर्च बकायदा मिलेगा इसका ऐलान (टाटा-कंपनी) के चेयरमैन ने खुद किया है । उन्होंने कहा मैं इस आपदा से की मार से टूट चुके कंपनी कर्मचारियों परिजनों लिए यह (आर्थिक-मदद) दयनीय भाव से नहीं बल्कि उनके परिवार के भविष्य (बच्चों) के सशक्तिकरण के लिए यह फैसला लिया है । हमारे द्वारा एक-दो दिन के लिए दी गई सहायता से यह पीड़ित परिवार की भविष्य में समाज में आगे बढ़ सके,उन्हें यह ना लगे परिवार का मुखिया जाने के बाद अब हमारा क्या होगा क्योंकि देश को आगे बढ़ने के लिए उसकी जनता का आर्थिक तौर पर मजबूत होना बहुत जरूरी होता है । इन सभी चीजों को मद्देनजर रखते हुए मैंने यह फैसला लिया है क्योंकि यदि समाज सशक्त होगा तो देश का सशक्तिकरण अपने आप हो जाएगा । इस तरह टाटा कंपनी कर्मियों के लिए यह एक बहुत बड़ी राहत की बात है ।

बता दें,टाटा कंपनी ने शुरुआती दिनों से लेकर आज तक एक सोशल-वर्क की भावना से अपने बिजनेस को आगे बढ़ाया है जिसमें उसे काफी हद तक बड़ी कामयाबी हासिल की है । आज टाटा कंपनी की देश-दुनिया में डेढ़ सौ के करीब कंपनियां हैं ।रहा एक और देश-दुनिया के बड़े बड़े बिजनेसमैन का मकसद सिर्फ और सिर्फ अपने बिजनेस को बढ़ाना व पैसा कमाना ही होता है लेकिन इसके विपरीत टाटा कंपनी एक ऐसी कंपनी है जिसके आज तक जितने भी चेयरमैन रहे है,हर किसी ने अपने समय दौरान बिज़नेस को देश-दुनिया में फैलाने के अलावा एक अच्छे समाजसेवी के रूप में अपने-आप को हमेशा निखारा है ।

यही वजह है कि टाटा-कंपनी की अपनी एक उच्च-छवि जो उसे सबसे अलग व (उच्त्तम-श्रेणी) के दायरे में रखती है । जहां देश की सरकारें भी कर्मचारियों की मौत के बाद महेश घोषणा करने के अलावा उनके पीड़ित परिजनों को सुविधाएं देने में कतराती हुई नजर आती हैं,वहीं टाटा-कंपनी ने देश में हर विपदा के समय सबसे आगे खड़े होकर निष्ठावान तरीके से (देश-भक्ति) व मानवता की सच्ची मिसाल को हमेशा पेश किया है । जिसके लिए समस्त देश की तरफ से टाटा-कंपनी को तहेदिल से सलाम है,जिसने मुसीबत की घड़ी में देश व समाज का हर पल अग्रसर तौर पर आगे बढ़कर हर कार्यशैली में एक अच्छे (संहयोग-कर्ता) अभिसर के रूप में हमेशा अपना अत्यंत सराहनीय योग्यदान दिया है ।

Related posts

Mirzapur : बोलेरो के धक्के से तीन बाइक क्षतिग्रस्त, घटना में मां बेटी घायल

Khula Sach

यप्पटीवी की बीएसएनएल के साथ साझेदारी

Khula Sach

टेक्नोलॉजी ने किस तरह फाइनेंसेस को मैनेज करने के तरीकों में क्रांति लाई है

Khula Sach

Leave a Comment