Khula Sach
ताज़ा खबरदेश-विदेशराज्य

विद्युत अभियन्ताओं ने राज्यपाल को कहा धन्यवाद!

‘उपभोक्ता देवो भव’ सिद्धांत अपनाने पर दृढ़ अभियन्ता-संघ- वी पी सिंह/प्रभात सिंह

लखनऊ, (उ.प्र.) : विद्युत अभियन्ताओं ने राज्यपाल द्वारा बजट सत्र के अभिभाषण में ऊर्जा निगमों में हुए अभूतपूर्व सुधारों की सराहना किये जाने पर विद्युत अभियन्ताओं ने आभार प्रकट किया: ऊर्जा निगम प्रबन्धन के उत्पीड़नात्मक रवैये से विद्युत अभियन्ताओं में गम्भीर रोष एवं आक्रोश : अभियन्ता संघ ने की आपात बैठक : यदि उत्पीड़नात्मक कार्यवाहियां जारी रहीं एवं अभियन्ताओं को धरातल पर कार्य करने हेतु समय न दिया गया तो विद्युत अभियन्ता करेंगे आन्दोलन: उपभोक्ता देवो भव के संकल्प में बाधक बन रहा है उच्च प्रबन्धन:

अभियन्ताओं के प्रति पावर कारपोरेशन प्रबन्धन के विद्वेषपूर्ण रवैये, उत्पीड़नात्मक कार्यवाहियों का अभियान चलाने, तरह-तरह की सूचनाओं एवं वी0सी0 में उलझाये रखने, धरातल पर कार्य करने हेतु समय न देने, भय का वातावरण देकर अभियन्ताओं को हतोत्साहित करने, अभियन्ताओं की न्यायोचित समस्याओं पर कोई ध्यान न देने आदि जैसी समस्याओं से आक्रोशित विद्युत अभियन्ताओं के दबाव में अभियन्ता संघ की शुक्रवार को लखनऊ में हुई आपात बैठक में निर्णय लिया गया कि यदि ऊर्जा निगमों में स्वस्थ कार्य का वातावरण तथा धरातल पर कार्य करने हेतु समय व संसाधन न दिये गये तो शीघ्र ही प्रदेश के विद्युत अभियन्ता आन्दोलन करने हेतु बाध्य होगे जिसकी सीधी जिम्मेदारी प्रबन्धन की होगी। विद्युत अभियन्ताओं ने मा0 ऊर्जा मंत्री जी से अपील की कि ऊर्जा निगमों में भय का वातावरण समाप्त करने एवं कार्य का स्वस्थ वातावरण प्रदान करने हेतु सार्थक हस्तक्षेप करें।

विद्युत अभियन्ता संघ के अध्यक्ष वी0पी0 सिंह एवं महासचिव इं0 प्रभात सिंह ने जारी बयान में कहा कि जहां एक ओर विद्युत अभियन्ता मैन, मेटीरियल एवं सुरक्षा किट की कमी से जूझते हुए पूर्ण मनोयोग से कार्य कर रहे हैं जिसकी भूरि-भूरि प्रशंसा महामहिम राज्यपाल आनन्दी बेन पटेल ने उ0प्र0 विधान सभा के बजट सत्र में अपने अभिभाषण में करते हुए कहा है कि विद्युत के क्षेत्र में अभूतपूर्व सुधार हुआ है। राज्यपाल महोदया ने अपने अभिभाषण में आगे कहा है कि ग्रामीण क्षेत्रों को प्राथमिकता देते हुए 121.32 लाख मजरों का विद्युतीकरण किया और 138.01 लाख लोगों को नये कनेक्शन दिए हैं तथा मार्च 2017 से अब तक 110 ट्रांसमिशन उपकेंद्रों और उससे जुड़ी लाइनों का ऊर्जीकरण, 656 नए 33/11 केवी विद्युत उपकेन्द्रों का निर्माण तथा 1216 उपकेन्द्रों की क्षमता वृद्धि की गयी है। न सिर्फ बिजली का उत्पादन बढ़ाया है, बल्कि इंफ्रास्ट्रक्चर बढ़ाने के साथ नए कनेक्शन भी दिए गये हैं।

स्पष्ट है कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी की कुशल नेतृत्व एवं ऊर्जा मंत्री पं0 श्रीकान्त शर्मा जी के मार्ग दर्शन में उ0प्र0 सरकार के संकल्पों को ऊर्जा निगमों में कार्यरत अभियन्ताओं एवं अधीनस्थों ने कठिन मेहनत करके पूर्ण किया है। वर्तमान में जिला मुख्यालयों पर 24 घंटे, तहसील मुख्यालयों पर 21 घंटे 30 मिनट और गांवों में 18 घंटे आपूर्ति का रोस्टर निर्धारित है। वहीं दूसरी ओर ऊर्जा निगमों का उच्च प्रबन्धन अभियन्ताओं को छोटी-छोटी बातों पर परेशान करने, दण्डित करने का अभियान चलाकर उनका मनोबल तोड़ने का काम कर रहा है तथा कार्य का स्वस्थ वातावरण न देकर भय का वातावरण बनाकर अभियन्ताओं को हतोत्साहित कर उ0प्र0 सरकार के संकल्पों को पूर्ण होने में बाधायें उत्पन्न कर रहा है। ऊर्जा क्षेत्र के उच्च प्रबन्धन में कार्यरत बाबू विद्युत अभियन्ताओं के द्वारा किये गये कार्यों तथा प्रदेश के विद्युत उपभोक्ताओं के प्रति विद्युत अभियन्ताओं के समर्पण को नजरंदाज करते हुए नित नये तरीकों से विद्युत अभियन्ताओं को प्रताड़ित करने के तरीके निकाल कर अनवरत रूप से प्रताड़ित किया जा रहा है जिस कारण से प्रदेश के ऊर्जा क्षेत्र में कार्यरत समस्त विद्युत अभियन्ता अपने आप को कुंठित तथा हतोत्साहित महसूस कर रहे हैं।

पदाधिकारियों ने आगे कहा कि बिजली क्षेत्र में समस्त कार्यरत बिजली अभियन्ताओं द्वारा अथक प्रयास के पश्चात उ0प्र0 को बिजली के क्षेत्र में स्वावलंबी बनाने, घर-घर तथा जन-जन तक बिजली पहुंचाने में सफलता प्राप्त हुई एवं भविष्य में भी उपभोक्ता देवो भव के नारे के अनुपालन में अपना योगदान देने के लिए कृतसंकल्प हैं। लाॅकडाउन तथा कोरोना महामारी के काल में विद्युत अभियन्ताओं ने अपने जीवन को जोखिम में डालकर उपभोक्ताओं की सेवा की एवं निर्बाध विद्युत आपूर्ति को बनाये रखा जिसका उल्लेख महामहिम राज्यपाल ने अपने अभिभाषण में 18 फरवरी 2021 को विधानसभा और विधान परिषद के संयुक्त सत्र में किया।

आज लखनऊ में विद्युत अभियन्ता संघ की सम्पन्न आपात बैठक में विद्युत अभियन्ताओं ने महामहिम राज्यपाल महोदया के प्रति आभार प्रकट करते हुए कहा कि ऊर्जा निगमों में हुआ अभूतपूर्व सुधार योगी जी के कुशल नेतृत्व एवं ऊर्जा मंत्री पं0 श्रीकान्त शर्मा जी के मार्ग दर्शन से सम्भव हुआ है एवं आगे भी जारी रहेगा। साथ ही प्रदेश भर के अभियन्ताओं में पनप रहे रोष एवं आक्रोष के दृष्टिगत यह निर्णय लिया गया कि यदि विद्युत अभियन्ताओं की प्रताड़ना का क्रम उच्च प्रबन्धन द्वारा जारी रहा तो शीघ्र ही प्रदेश भर के विद्युत अभियन्ता लोकतांत्रिक आन्दोलनात्मक कदम उठाने हेतु बाध्य होंगे जिसकी सीधी जिम्मेदारी उच्च प्रबन्धन की होगी। पदाधिकारियों ने मा0 ऊर्जा मंत्री से सार्थक हस्तक्षेप की अपील की।

Related posts

पेटीएम ने 6.8 मिलियन उपकरण तैनात किए

Khula Sach

Mirzapur : वृद्ध दम्पत्ति ने सहेज कर रखा पोटली रामकाज में किया अर्पित

Khula Sach

डायमंड ड्रॉप्स की डेनमार्क की कंपनी एक्वापोरिन के साथ साझेदारी

Khula Sach

Leave a Comment