Khula Sach
अन्यताज़ा खबर

कविता : “सच्ची तस्वीर “

– इन्दु सिन्हा “इन्दु”

सहमी हुई आँखों से,
विवश होकर,
क्यो देख रहे हो मेरे लाल,
पत्थर तोड़ तोड़ कर,
मेरा ह्रदय पाषाण ना हुआ,
तपती दोपहरी में,
बस पानी ही मिलता है,
सूखी छातियों से क्या,
कभी दूध निकलता है ?
इसी तरह सड़क के किनारे,
खपच्चियों के झूले में,
बिताने होंगे कई साल,
गर्मी से झुलसे होठों पर ,
आ गयी मुस्कान उदास,
तुम्हारे नसीब का भी,
यही होगा हाल,
तुम्हे नही मालूम,
तुम अनमोल हो,
तुम्हारा चेहरा, मेरी विवशता
कैमरे की रोशनी है,
दीवारों की शोभा है,
ये ही भारत की सच्ची तस्वीर है,
——————–

Related posts

कुबरा सेठ ने डॉली सिंह के साथ कोलेबरेशन से एक यूनिक यूट्यूब लाइव सेशन के साथ उत्तराखंड राज्य के लिए धन जुटाया, जिसमें अपारशक्ति खुराना, साइरस साहूकार जैसी हस्तियां शामिल हैं

Khula Sach

Mumbai : COVID-19 से पीड़ित मरीजों का सफल इलाज कर रहे हैं मुम्बई के डॉ. स्वामी पवार, जानिए उनकी सलाह

Khula Sach

आकाशवाणी (मुम्बई) के कार्यक्रम में भगवान बुद्ध और बोधगया की महत्ता पर चर्चा करेंगे अभिनेता राजन कुमार

Khula Sach

Leave a Comment