Khula Sach
अन्यताज़ा खबर

कविता : ” राही चला चल “

– प्रतिभा दुबे

अपने ही पथ पर चला चल
ए राही रुक मत ना देख कहीं,
संभल के जरा सा चला चल
लोग मिलेंगे तुझको कई जो
कमजोर करेंगे जो लक्ष्य तेरा
उन सब से बाहर निकल कर
बस चला चल ॥

ईश्वर ने दिया है तुझे जीवन
उसमें सच्ची राह पकड़ कर
अपने जीवन का लक्ष्य समझ,
इन ढलती परिस्थितियों में
तप कर जब निखर जाएगा
तब जीवन में और मजा आएगा
बस चला चल ॥

जो तेरा है वो लौट आएगा
बाकी सब यहीं झूट जाएगा
ले कर बस अपना ही असर
करना है तुझको जो भी वो
तू अपना काम तो कर ,
बस चला चल ॥

गीता से लेकर ज्ञान प्रभु का
सत्कर्म के सहारे आगे बढ़,
परिभाषा है यही ज्ञान की
क्षमा दान की बात तू कर
अहंकारी मानव जीवन में
प्रभु प्रेम के रंग तू भर कर
बस चला चल ॥

Related posts

Uttar Pradesh : “डॉक्टर जाहिद मैमोरियल ट्रस्ट” के तत्वावधान में एक दिवसीय निशुल्क चिकित्सा एवं परामर्श शिविर का आयोजन

Khula Sach

Mirzapur : SE, PWD अनिल कुमार मिश्र पदोन्नत होकर हुए मुख्य अभियंता

Khula Sach

LIC ठाणे मंडल ने 14 अगस्त को विभाजन विभीषिका स्मृति दिवस के रूप में याद किया और दी श्रद्धांजलि

Khula Sach

Leave a Comment