Khula Sach
अन्यताज़ा खबरमनोरंजन

Poem : कुछ इस तरह

✍️  मनीषा कुमारी, विरार, महाराष्ट्र

आपकी याद भी आयेगी मेरे आंसू भी बहेंगे,
रातों को उठ उठ कर रोयेंगे पर आपको ना भूल पायेंगे।

अपना दर्द ना हम जमाने से कहेंगे,
और ना कभी किसी से कहेंगे।

बिना गुनाहों की सजा भी काटेंगे जो कभी किया ही नही,
भुलाना तो आसान ना होगा, पर फिर भी भूला देंगें उस जख्म को।

आपके बिना ना कोई सहारा होगा,
न कोई कभी अपना आपके जैसा होगा।

न कोई दिल को अजीज को होगा,
खुद के अस्तित्व को भी भुला दी हमने आपके लिए।

क्या क्या नहीं किए मैंने तुझे अपना बनाने के लिए,
एक ऐसा तूफान भी मेरी जिंदगी मे आएगी।

सोची नही थी कभी भी हर एक ख़्वाब पल में टूट जाएगी,
हम आपसे इस तरह बिछड़ जाएंगे, इस तरह आपसे हम दूर हो जाएंगे।

Related posts

पिछले हफ्ते सोने के दरों में 0.9 प्रतिशत की बढ़त

Khula Sach

कपिल पांचाल ने पूर्व राष्ट्रपति ज्ञानी जैल सिंह व पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की समाधि पर पुष्प अर्पित

Khula Sach

नेक्स्ट एजुकेशन भारत का अग्रणी के-12 शैक्षणिक समाधान प्रदाता बना

Khula Sach

Leave a Comment