Khula Sach
ताज़ा खबरमनोरंजन

Poem : नूतन वर्ष का अभिनंदन

  • अंशिता त्रिपाठी, लंदन

चांदनी मुस्कुराई तुम्हारे लिए,
बांसुरी गुन गुनाई तुम्हारे लिए,
इस नये वर्ष के आगमन पर सखे,
मेरे मन की बधाई तुम्हारे लिए।

चांद बन तुम जियो,
किरण बन तुम जियो,
नेह की इक नूतन छुवन बन जियो,
भावना से भरे इस नये वर्ष पर,
हमारे नयन में तुम सुमन बन जियो।

परिचय बन तुम जियो,
मुकाम बन तुम जियो,
जिंदगी अपनी पूरी सफल बन जियो,
नूतन वर्ष का अभिनंदन करके,
अपने कर्मों का अभिमान बन जियो।

गीत बन तुम जियो,
गजल बन तुम जियो,
अनुपम सृजन का भाव बन जियो,
प्यार की राशि मन में समेटे हुए,
तुम हमारे लिए राशिफल बन जियो।

Related posts

वायरल हो रहा है अमर मौर्या व पल्लवी गिरी का वीडियो गाना “नव लाख क लहंगा”

Khula Sach

शरणागति की तस्वीर और पाकिस्तान के गाल पर तमाचा 

Khula Sach

आने वाले दिनों में कैसा होगा वर्कप्‍लेस का भविष्य: कर्मचारी हों या अधिकारी रखते हैं लचीलेपन की चाहत

Khula Sach

Leave a Comment