Khula Sach
ताज़ा खबरमनोरंजन

सोनी सब ने नये साल 2021 के लिये एक सेहतमंद और खुशहाल साल की शुभकामनाएं दीं

चैनल के नवीनतम ब्रांड कैंपेन में मनुष्य की तंदुरुस्ती और बेहतरी पर खुशियों के असर को दर्शाया गया है

मुंबई : भारत के प्रमुख हिन्‍दी जनरल एंटरटेनमेन्ट चैनलों में से एक सोनी सब ने हमेशा ही दर्शकों को खुश रहने के लिये प्रेरित किया है। उन्होंने अपने खासतौर से तैयार किये गये हल्के-फुलके, पॉजिटिव कंटेंट के साथ यह प्रयास किया है। अपने ब्रांड की सोच और विश्वा‍स को आगे बढ़ाते हुए, सोनी सब ने 2020 को उम्मीदों और अच्छी् सेहत के संदेश के साथ विदाई दी है। डॉ. अंजलि छाबरिया, एमडी मनोचिकित्सक द्वारा दिये गये इस संदेश में यह बताया गया है कि क्योंकि हर किसी को 2021 में खुश रहने का संकल्प लेने की जरूरत है।

इस नये ब्रांड वीडियो में दर्शकों को नए साल में प्रवेश के साथ अपनी सेहत पर दोबारा ध्यान देने के लिये कहा गया है। आगे इस बात को प्रमुखता से बताया गया है कि किस तरह पॉजिटिव कंटेंट सकारात्मेक सोच को प्रेरित करने वाले माध्यम के रूप में काम करता है। इससे तनाव को कम करने में मदद मिलती है, इम्युेनिटी के साथ-साथ मानसिक सेहत को बेहतर बनाने में भी यह मदद करता है। वीडियो का लिंक यहां दिया गया है- https://www.youtube.com/watch?v=6jnMjZpon54

अपने नये-नये कार्यक्रमों और मूल्यों से प्रेरित हल्के-फुलके कंटेंट के साथ यह चैनल परिवार के साथ बैठकर टीवी देखने का अनुभव देने के लिये समर्पित है, जिससे उनके दर्शकों को एक सेहतमंद और खुशहाल जिंदगी जीने का मौका मिल रहा है। उन कार्यक्रमों में पारिवारिक कॉमेडी से लेकर फैंटेसी फिक्शन और मार्गदर्शन करने वाले कॉन्सेप्ट सब में शामिल हैं।

एक अकल्पनीय साल में, टेलीविजन ने परिवारों को करीब आने का मौका दिया। लॉकडाउन के दौरान टेलीविजन देखने वालों की संख्या 40 प्रतिशत बढ़ गयी (बीसीजी-सीआईआई रिपोर्ट)। लिविंग रूम ब्रांड माने जाने वाले सोनी सब ने 2020 में काफी अनूठे और बेहतरीन शोज़ लॉन्च किये। ‘तेरा यार हूं मैं’ में पिता-बेटे के रिश्ते को दर्शाया गया है, भारतीय परिवार के वास्तविक चित्रण की वजह से इसे काफी लोकप्रियता मिली, वहीं ‘काटेलाल एंड संस’ दो ऐसी लड़कियों की कहानी है, जो दूसरे जेंडर की भूमिका निभा रही हैं। दर्शकों को ये शोज़ अभी भी पसंद आ रहे हैं। अभी हाल ही में आई साइंस-फिक्शन कहानी ‘हीरो गायब मोड ऑन’ एक लड़के की कहानी है। उसे बुरी ताकतों से लड़ने के लिये एक अद्भुत शक्ति मिल जाती है और इसकी नई तरह की कहानी और शानदार विजुअल्स की वजह से दर्शकों ने इसे हाथोंहाथ लिया। अब यह चैनल ‘वागले की दुनिया’ लॉन्च करने की तैयारी कर रहा है। यह आज के दौर के मध्यमवर्गीय परिवार की इच्छाओं की कहानी है। इस कहानी में लीप लिया गया है और यह आज की पृष्ठभूमि में नई पीढ़ी के साथ वागले और उसके परिवार पर बनी है।

सोनी सब के बिजनेस हेड नीरज व्यालस कहते है, ‘’सोनी सब में हम ऐसे शोज़ तैयार करते हैं जो केवल मनोरंजन ही नहीं करते, बल्कि लोगों को खुशियां भी देते हैं। 2020 ने यदि हमें कुछ सिखाया है तो वह है, आशावादी, खुशमिजाज और सेहतमंद बने रहने का मंत्र। चूंकि, हम नये साल में प्रवेश कर रहे हैं तो हमें कुछ ऐसा चाहिये जिससे हम तनावमुक्तं हो पायें। साथ ही अपनी सेहत और तंदुरुस्ती पर फिर से ध्यान दें। डॉ. अंजलि छाबरिया के साथ जुड़कर हमें बेहद खुशी का अनुभव हो रहा है। उन्होंने भी यह माना है कि अच्छी‍ और सकारात्मक सोच में ही बेहतर सेहत, मस्तिष्क और शरीर का राज छुपा है। हम अपने कंटेंट के माध्यम से अपने दर्शकों को इसी तरह परिवार के साथ रिश्तों को मजबूत बनाने, परिवार के करीब आने, उनके साथ हंसने का मौका देते रहेंगे। सरल शब्दों में कहा जाये तो खुशियां बिखेरने का मौका यूं ही देते रहेंगे।‘’

एमडी साइकैट्रिस्ट डॉ. अंजलि छाबरिया कहती है, ‘’ऐसे समय में जब हम चारों ओर नकारात्मीकता और अत्यंत तनाव से घिरे हुए हैं, खुश रहने से काफी मदद मिल सकती है। खुशी तनाव के एंटीडॉट की तरह काम करती है और कई बार हमें खुश रहने के लिये किसी प्रेरक की जरूरत होती है। मजेदार कहानी का आनंद लेते हुए, दिल खोलकर हंसने, अपनों के साथ वक्तु बिताने से किसी को भी खुश रहने में मदद मिल सकती है और कई सारे अध्ययनों में भी यह बात बार-बार साबित हुई है कि खुश रहने वाले लोग सेहतमंद भी होते हैं। खुशी और सेहत साथ-साथ चलती है। और जबकि हम नये साल में प्रवेश कर रहे हैं तो हमें इसकी जरूरत है। खुशहाली और सेहत से भरपूर एक भविष्य आगे हमें बीते मुश्किल साल से उबरने में मदद करेगा।‘’

Related posts

शोध समस्या बनाम शोधार्थी समस्या

Khula Sach

12 से 15 साल के बच्चों के टीकाकरण के लिए ‘कोर्बेवैक्स’ वैक्सीन के 30 करोड़ डोज तैयार

Khula Sach

मास्टरशेफ संजीव कपूर की बाढ़ पीड़ितों को मदद

Khula Sach

Leave a Comment