Khula Sach
अन्यकारोबारताज़ा खबर

एपीएसईज़ेड ने सीडीपी 2020 में मैनेजमेंट बैंड हासिल किया

जलवायु परिवर्तन में सीडीपी स्कोर बी के साथ एपीएसईज़ेड वैश्विक औसत सी और एशिया क्षेत्रीय औसत डी से ऊपर पहुंचा

अहमदाबाद : अदाणी पोर्ट्स एंड स्पेशल इकोनॉमिक ज़ोन (एपीएसईज़ेड) लिमिटेड ने बीस्कोर हासिल किया, जो जलवायु परिवर्तन पर सीडीपी स्कोर फ्रेमवर्क के अनुसार मैनेजमेंट बैंड में है। यह इंटरमोडल ट्रांसपोर्ट एंड लॉजिस्टिक्स सेक्टर के औसत डी, एशिया क्षेत्र के औसत डी और वैश्विक औसत सी से अधिक है। यह उपलब्धिए जलवायु परिवर्तन के प्रभाव को कम करने की दिशा में प्रतिबद्धता को पूरा करने के लिए, प्रतिस्पर्धी बेंचमार्क स्थापित करने में एपीएसईज़ेड की नेतृत्व्कारी भूमिका को दर्शाता है। पोर्ट्स और लॉजिस्टिक्स सेक्टपर में, 22% कंपनियां डिस्क्लोजर बैंड में,17% अवेयरनेस बैंड में, 41% मैनेजमेंट बैंड में और 20% लीडरशिप बैंड में हैं। एपीएसईज़ेड का परफॉरमेंस वैल्यू चेन एंगेजमेंट, टारगेट्स, स्कोप 1 एवं 2 उत्सर्जन, जोखिम प्रबंधन प्रक्रिया, अवसर प्रकटीकरण, शासन और ऊर्जा के क्षेत्रों में वैश्विक औसत के मुकाबले अच्छा रहा।

यह भी उल्लेखनीय है कि एपीएसईज़ेड ने सीडीपी – जल सुरक्षा में बी स्कोर प्राप्त किया है। यह इंटरमोडल ट्रांसपोर्ट और लॉजिस्टिक सेक्टर के औसत बी, एशिया क्षेत्रीय औसत बी और वैश्विक औसत बी के समान है। एपीएसईज़ेड ने जल जोखिम मूल्यांकन, जल नीतियों, टारगेट्स और गोल्स,पर्यावरणीय चुनौतियों, व्यापारिक रणनीति और व्यापारिक प्रभावों के लिए एकीकृत दृष्टिकोण के क्षेत्रों में अच्छा प्रदर्शन किया।

यह दर्शाता है कि एपीएसईज़ेड जोखिम को कम करने, जोखिम वाले स्थानों पर एनवायरनमेंटल अकाउंटिंग को आगे बढ़ाने, जोखिम आकलन को अधिक मजबूत और व्यापक बनाने, पर्यावरण नीति लागू करने और पर्यावरण की समस्याओं को व्यापारिक रणनीति में एकीकृत करने काप्रयास कर रही है। इस तरह जलवायु परिवर्तन के लिए मैनेजमेंट स्कोरिंग, एक मैनेजमेंट एक्शन के रूप में इसे प्रोत्साहित करता है।

सीडीपी अपने पर्यावरणीय प्रभावों का प्रबंधन करने के लिए निवेशकों, कंपनियों, शहरों, राज्यों और क्षेत्रों के लिए वैश्विक प्रकटीकरण प्रणाली का उपयोग करता है। सीडीपी स्कोर जलवायु परिवर्तन, वन और जल सुरक्षा के मानदंडों पर संगठनों के ईएसजी क्रेडेंशियल्स को पूरा करते हैं। 2020 में, 9,600से अधिक कंपनियों ने सीडीपी के जरिये खुलासा किया कि 2015 में पेरिस समझौते पर हस्ताक्षर किए जाने के बाद से 70% की वृद्धि और पिछले साल 14% की वृद्धि हुई।

एपीएसईज़ेड अक्षय ऊर्जा का उपयोग कर रहा है और यह वित्त वर्ष 2025 तक सभी पोर्ट कार्गो हैंडलिंग का 100%संचालन अक्षय ऊर्जा से करने की स्थिति में है। इसके अलावा, एपीएसईज़ेड ने पहले ही 2,889 हेक्टेयर क्षेत्र में मैंग्रोव अफोरेस्टेशन किया है, और वित्त वर्ष 2025 तक अतिरिक्त 1,000 हेक्टेयर को इसमें शामिल करने का लक्ष्य रखा है।

Related posts

‘प्यार निभाना सजना’ का होली गीत जारी

Khula Sach

Mirzapur : सफाई-व्यवस्था के प्रति नपा अध्यक्ष की सजगता

Khula Sach

आ गयी आप सभी की चहेती, अनिता भाबी! सूरत नई पर सीरत वही!

Khula Sach

Leave a Comment