Khula Sach
कारोबारताज़ा खबर

उद्यमशीलता को बढ़ावा देने के लिए ‘विरार-हब इनक्यूबेटर’ की शुरुआत

उद्यमशीलता को बढ़ावा देने के लिए ‘विरार-हब इनक्यूबेटर’ की शुरुआत

~ कंटेंटस्टैक के सह-संस्थापक निशांत पटेल की पहल ~

विरार / मुंबई : छोटे शहरों और क्षेत्रों में नवाचार और उद्यमशीलता की भावना को बढ़ावा देने के लिए महाराष्ट्र में स्थित एक अग्रणी पहल ‘विरार-हब इनक्यूबेटर’ की शुरुआत प्रसिद्ध तकनीकी व्यवसायी और कंटेंटस्टैक के सह-संस्थापक निशांत पटेल द्वारा की गई है। इस इनक्यूबेटर का उद्देश्य विशेषज्ञ सलाह, संसाधन और बुनियादी ढांचे और रणनीतिक साझेदारी की पेशकश करके शुरुआती चरण के स्टार्टअप को आवश्यक सहायता प्रदान करना है, जिससे उनका सफल कंपनियों में बदलना सुनिश्चित हो सके। टेक उद्यमी और कंटेंटस्टैक के सह-संस्थापक, निशांत पटेल द्वारा प्रोत्साहित, अग्रणी कंपोज़ेबल डिजिटल एक्सपिरियन्स प्लेटफ़ॉर्म, विरार-हब का लक्ष्य वसई-विरार क्षेत्र में उद्यमशीलता की संस्कृति की स्थापना के लिए अपनी तरह का पहला मंच प्रदान करने का है।

निशांत बताते हैं, “विरार में अपनी कंपनी का सफर शुरू करने के बाद, मैंने इस क्षेत्र की उपयोग न की गई क्षमता को प्रत्यक्ष रूप से देखा है। मैं विरार-हब इनक्यूबेटर का उद्घाटन करते हुए रोमांचित हूं, जो विरार में स्टार्टअप की आने वाली पीढ़ी को विकसित करने की आगे बढ्ने की प्रेरणा देता है। इस मिशन को आगे बढ़ाने के लिए, हमने रॉ इंजीनियरिंग अकादमी भी शुरू की है, जो प्रौद्योगिकी और उद्यमिता के बारे में प्रशिक्षण प्रदान करती है, और कॉलेज के छात्रों को प्रासंगिक कौशल से लैस करती है।”

इस उद्यम में निशांत के साथ रूट मोबाइल लिमिटेड के संस्थापक और सीईओ राजदीप गुप्ता और महाराष्ट्र राज्य विधानसभा में नालासोपारा निर्वाचन क्षेत्र का प्रतिनिधित्व करने वाले विधान सभा सदस्य क्षितिज ठाकुर शामिल हैं। जहां क्षितिज वसई-विरार क्षेत्र में स्टार्टअप के एक समर्पित संरक्षक और समर्थक हैं, वहीं राजदीप, जो खुद एक अनुभवी उद्यमी हैं, ने इस आंदोलन को अपना समर्थन देने का वादा किया है।

विरार-हब स्टार्टअप क्वेस्ट प्रतियोगिता के ग्रैंड फिनाले के कार्यक्रम में श्री क्षितिज ठाकुर मुख्य अतिथि और निर्णायक मंडल के रूप में उपस्थित थे। उन्होंने इनक्यूबेटर का औपचारिक उद्घाटन किया और प्रतियोगिता के विजेताओं को सम्मानित किया।

इस प्रतियोगिता ने ग्रेटर मुंबई क्षेत्र के छात्रों को अपने नवाचार स्टार्टअप आइडिया प्रस्तुत करने के लिए आमंत्रित किया था। 200 से अधिक टीमों में शामिल 475 प्रतिभागियों में से अंतिम दौर में केवल 10 टीमें ही पहुंचीं। इनमें से तीन टीमों को मान्यता दी गई और इनक्यूबेटर में इंक्यूबेशन के लिए उनका आगे मूल्यांकन किया जाएगा।

विरार-हब इनक्यूबेटर ग्रेटर मुंबई क्षेत्र के सभी उद्यमियों, छात्रों और कॉलेजों को सहयोग देने और ऐसे भविष्य की कल्पना करने के लिए गर्मजोशी से स्वागत करता है जहां डिजिटल नवाचार उद्योग नया प्रारूप हासिल करते हैं।

Related posts

‘छोटी सरदारनी’ में मेहर की धमाकेदार री-एंट्री

Khula Sach

Mirzapur : जिले में मचा हैं कोरोना का तांडव 38 चपेट में, हम बने हैं भष्मासुर

Khula Sach

Poem : ओ यशोदा मैया

Khula Sach

Leave a Comment