Khula Sach
अन्य ताज़ा खबर मनोरंजन

Poem : बहिन बिन सूनी कलाई

✍️  प्रतिभा दुबे (स्वतंत्र लेखिका), ग्वालियर, मध्य प्रदेश

है रौनक कलाई की,
बहन की ये जो राखी है,
पहन लेना प्यार से तुम,
कि ये बंधन तोड़ न देना।
ये खट्टा मीठा रिश्ता है,
रूठने का मानने का,
बहन की जान है मायका,
भैया तुमसे ही उम्मीद लगाती है।।

ससुराल मैं रहकर भी मायके का
वो हर वचन को निभाती है।
वह तुमसे प्रेम चाहती है,
वो सब पर जा लुटाती है।।
कि रोशन है जहां सारा
यह बहनों की दुआओं से
की तुम कुलदीपक कहाते हो
वो रोशनी फैलाती है।।

रेशम की कच्ची डोर से
बंधा हुआ, मजबूत ये बंधन
मां के आंचल, पिता के प्यार
मैं पनपा हुआ हमारा ये बचपन।
माना कि तुम्हारे नखरे हैं बहुत
और वह घर को सर पर उठाती है।
बहन है प्यारी वह तुम्हारी ही,
तुम्हें दिलो जान से चाहती है।।

Related posts

Mirzapur : दो सौ मीटर लंबे राष्ट्रीय ध्वज के साथ निकली भव्य तिरंगा यात्रा

Khula Sach

इंडोस्टार सरिया द्वारा आर्किटेक्ट व इंजीनियर्स का सम्मान समारोह

Khula Sach

‘मेरे प्यारे प्राइम मिनिस्टर’ के वर्ल्ड टेलीविजन प्रीमियर में एक दमदार संदेश के साथ एक दिल छू लेने वाली कहानी दिखा रहा है एंड पिक्चर्स

Khula Sach

Leave a Comment