Khula Sach
कारोबारताज़ा खबर

वर्ष 2021 होगा 14 महीनों का : अतुल मलिकराम, फाउंडर, PR 24×7 (पीआर 24×7)

इंदौर : जैसा कि हम सभी जानते हैं कि हमारा जीवन कालचक्र के इर्द-गिर्द घूमता रहता है, जो सदियों से अपना कार्य करता आ रहा है। कालचक्र का अर्थ समय का चक्र होता है, जहाँ समय को परिवर्तन के माप के रूप में देखा जाता है। बाहरी तौर पर इसे ग्रहों की कक्षाओं के चक्र, महीने और वर्ष की ऋतुओं, चन्द्रमा की कलाओं, दिन के घंटों आदि के रूप में मापा जा सकता है। जबकि आतंरिक तौर पर इसे जीवन की अवधियों के रूप में देखा जाता है, जैसे: शैशव, बाल्यावस्था, युवावस्था, प्रौढ़ता और वृद्धावस्था। ये बाहरी और आन्तरिक चक्र एक-दूसरे के समानान्तर चलते रहते हैं।

यदि हम बाहरी कालचक्र की बात करें, तो सेकंड, मिनट, घंटे, दिन, सप्ताह, महीने और साल इसमें पूर्णतः समाहित होते हैं। इतिहास गवाह है कि एक दिन के 24 घंटों और एक साल के 12 महीनों में कभी फेर-बदल नहीं हुआ है। लेकिन इतिहास के पन्नों पर स्वर्ण अक्षरों से एक वर्ष के लिए 12 नहीं, बल्कि 14 महीने लिखा गया है, यह वर्ष और कोई नई, 2021 है। इसलिए वर्ष 2021, 12 महीनों का नहीं, बल्कि 14 महीनों का होगा। जी हाँ, 14 महीनों का। कैसे? जानना चाहेंगे? तो सुनिए। आम आदमी को सोने के लिए मानक समय कम से कम 8 घंटों का चाहिए होता है। यदि हम अपने जीवन का मोल जानकर अपनी नींद में से 2 घंटे प्रतिदिन कम कर दें, तो हम अपने 30 दिनों के महीने से सीधे तौर पर 60 घंटे बचा लेंगे। अब यदि हम 12 महीनों तक ऐसा करने में समर्थ हो पाए, तो समझो कि हमने पूरे साल में से 720 घंटों पर जीत हासिल कर ली है। एक दिन के 24 घंटे से इसे विभाजित करने पर हम सीधे-सीधे 30 दिन यानि 1 महीना अपने नाम कर लेंगे, जिसका नाम है नाईट हसलरी।

हमारी रोजमर्रा की जिंदगी में अपने गंतव्य पर आने-जाने, तैयार होने में लगा समय प्रतिदिन लगभग 2 घंटे व्यर्थ करता है। यदि हम वर्ष 2020 से मिले वर्क फ्रॉम होम को कल्चर की तरह फॉलो करें, तो अपनी निजी जिंदगी से प्रतिदिन के 2 घंटे और उपरोक्त सूत्रों के अनुसार 1 और महीना सिर्फ हमारा होगा, जिसका नाम है होमवरी। इस प्रकार आपका आने वाला वर्ष 2021, 12+2=14 महीनों का होगा। तो सूत्र कंठस्थ कर लें : 2×30=60×12=720/24=30 दिन। इन दो महीनों में वो काम करें, जिन्हें करने के लिए आपको 12 महीने कम पड़ जाते हैं, क्योंकि इन पर सिर्फ और सिर्फ आपका अधिकार है। वर्ष 2020 में कोरोना के कारण न हो सके कामों को पूरा करने का अवसर आपके लिए वर्ष 2021 लेकर आ रहा है, तो खुली बाँहों से स्वागत कीजिए इस अद्भुत वर्ष तथा दो नए महीने नाईट हसलरी और होमवरी का।

Related posts

Mumbai : लोकल ट्रेन आम लोगों के लिए कब से शुरु होंगे?

Khula Sach

Poem : प्यार तो तुझसे आज भी हैं

Khula Sach

रब्बी गुरूजी के एक्जामिनर (परीक्षक) बनने से क्या येशु को मिल पायेगा स्कूल में दाखिला ?

Khula Sach

Leave a Comment