Khula Sach
कारोबारताज़ा खबर

कोविड-19 के बढ़ते मामलों ने क्रूड और मेटल कीमतों को नुकसान पहुंचाया

मुंबई : एंजल ब्रोकिंग लिमिटेड के नॉन एग्री कमोडिटी एंड करेंसी रिसर्च एवीपी प्रथमेश माल्या ने बताया कि दुनिया भर में कोरोनोवायरस के मामलों में खतरनाक वृद्धि ने पीली धातु की मांग को बढ़ाया और क्रूड ऑयल और बेस मेटल की कीमतों को नुकसान पहुंचाया। यू.एस. क्रूड इन्वेंट्री में गिरावट और सऊदी अरब की ओर से अतिरिक्त कटौती की वजह से क्रूड की कीमतों में और गिरावट आई है। एक मजबूत अमेरिकी डॉलर ने औद्योगिक धातु की कीमत पर दबाव डाला।

क्रूड ऑयल: डब्ल्यूटीआई क्रूड 0.6% की गिरावट के साथ 52.9 डॉलर प्रति बैरल पर बंद हुआ और वैश्विक मांग संकट के कारण तेल की कीमतों में बाधा बनी रही। ऊर्जा सूचना प्रशासन की हालिया रिपोर्ट के अनुसार अमेरिकी के क्रूड भंडार में 3.2 मिलियन बैरल की गिरावट आई है। महत्वपूर्ण तेल उत्पादकों में से एक सऊदी अरब ने महामारी से ग्रस्त परिदृश्य के बीच उत्पादन को स्थिर रखने के लिए उत्पादन में फरवरी-21 और मार्च-21 में प्रतिदिन एक मिलियन बैरल अतिरिक्त कटौती की घोषणा की। इससे कच्चे तेल की कीमतों को कुछ समर्थन मिला।

हालांकि, कोविड-19 संक्रमित मामलों में खतरनाक वृद्धि हुई और यूके, चीन और जर्मनी जैसी कुछ प्रमुख अर्थव्यवस्थाओं में नए सिरे से प्रतिबंध लगे, जिन्होंने कच्चे तेल की मांग को प्रभावित किया और कीमतों को नीचे की ओर धकेल दिया। महामारी के व्यापक प्रभाव से कच्चे तेल की कीमतों में गिरावट जारी रहने की संभावना है।

बेस मेटल्स: कोरोनोवायरस के मामलों में खतरनाक वृद्धि के बीच एलएमई पर बेस मेटल्स लाल रंग में बंद हुई। मजबूत अमेरिकी डॉलर ने कीमतों को और कम कर दिया। हालांकि, महामारी के प्रभाव से निपटने के लिए वैश्विक केंद्रीय बैंकों द्वारा जारी अतिरिक्त प्रोत्साहन सहायता ने औद्योगिक धातुओं की कीमत में नुकसान को सीमित कर दिया।

न्यू कैलेडोनिया में पर्यावरण संबंधी चिंताओं और विरोध के कारण फिलीपींस में माइनिंग प्रतिबंध ने निकेल के लिए आपूर्ति की चिंताओं को गंभीर रूप से बढ़ा दिया और कीमतों को अधिक बढ़ा दिया। सबसे बड़े धातु उपभोक्ता चीन ने कोरोनावायरस मामलों में खतरनाक उछाल की सूचना दी, जिसके कारण कुछ क्षेत्रों में लॉकडाउन लगा और औद्योगिक धातु की कीमतों में बाधा आई।

सोना: स्पॉट गोल्ड 0.7% की गिरावट के साथ 1,843.4 डॉलर प्रति औंस पर बंद हुआ। अतिरिक्त प्रोत्साहन सहायता प्राप्त करने पर दांव लगाने से अमेरिकी ट्रेजरी की यील्ड में बढ़ोतरी हुई, जिसने अमेरिकी डॉलर को ऊपर उठाया। हालांकि, मजबूत अमेरिकी डॉलर ने अन्य मुद्रा धारकों के बीच डॉलर-मूल्य वाले गोल्ड के लिए अपील को नुकसान पहुंचाया।

राष्ट्रपति जो बाइडेन के प्रशासन से यह उम्मीद है कि वह अमेरिकी अर्थव्यवस्था को पुनर्जीवित करने के लिए काफी स्टिमुलस इंफ्यूज कर सकता है। इसके विपरीत अतिरिक्त प्रोत्साहन सहायता के कारण मुद्रास्फीति की दर में कमी की वजह से पीली धातु की कीमत में कमी हुई। अधिकांश निवेशक गोल्ड की ओर शिफ्ट हो गए – जो मुद्रा में कमजोरी और मुद्रास्फीति के खिलाफ एक बचाव माना जाता है।

इसके अलावा, वैश्विक आर्थिक परिदृश्य के बिगड़ने और नए वायरस के स्ट्रेन को लेकर बढ़ती चिंताओं ने सेफ हेवन- गोल्ड में निवेश की मांग को बढ़ावा दिया।

Related posts

2020 : अनिश्चितताओं को गले लगाने का एक साल

Khula Sach

Poem : हम अपनों के बिन अधूरे हैं

Khula Sach

रांची में शुरू हुआ अपनी तरह का पहला गॉमे डेस्टिनेशन, ऊना-द वन

Khula Sach

Leave a Comment