Khula Sach
ताज़ा खबर व्यापार

दीवाली से पहले सोना होगा सस्ता : एंजेल वन

~ सोने के दाम 45000/10 ग्राम तक घटने की उम्मीद

मुंबई : सोने की कीमतें जून के मध्य से लेकर अब तक 200 डॉलर के दायरे में $1680-$1840 के बीच कारोबार कर रही हैं। एंजेल वन लिमिटेड के नॉन एग्री कमोडिटी एंड करेंसी रिसर्च एवीपी श्री प्रथमेश माल्या ने बताया कि मजबूत डॉलर, बढ़ा हुआ आशावाद, बढ़ती अमेरिकी ट्रेजरी यील्ड, बांड खरीद प्रोग्राम के समापन जैसे कुछ फेक्टर सोने की कीमतों में सुधार की गुंजाइश दिखा रहे हैं। हम उम्मीद करते हैं कि एक महीने के नजरिए से सोने की कीमतें 45000 रुपये/10 ग्राम के निशान की ओर बढ़ेंगी।

सोने के बाजार में इस समय कई फेक्टर हावी हैं। इनमें फेड की ओर से क्यूई कार्यक्रम को बंद करने से लेकर कोविड-19 वायरस की वजह से अब भी ग्लोबल फाइनेंशियल मार्केट्स पर पड़ रहे असर तक, बहुत कुछ आता है। इसके अलावा, अमेरिकी ट्रेजरी की बढ़ती यील्ड और मजबूत डॉलर भी पीली धातु की ट्रेजेक्टरी को तय करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहे हैं।

सोने की कीमतों को कम करने वाले फेक्टर:

सोने के बाजार में बहुत सारे फेक्टर अपना असर दिखा रहे हैं। डॉलर से शुरू करते हैं तो सूचकांक हाल के हफ्तों में (93.60) पर एक महीने के उच्च स्तर पर पहुंच गया, जबकि बेंचमार्क यूएस 10-वर्षीय ट्रेजरी यील्ड ने तीन महीनों (1.48%) में अपने उच्चतम स्तर को छू लिया है। इससे ब्याज रहित बुलियन को होल्ड करने में अवसर लागत बढ़ गई है। इसके अलावा अमेरिका के केंद्रीय बैंक के अधिकारियों ने फेड की मासिक बांड खरीद में कमी को नई नौकरियों में वृद्धि के साथ जोड़ दिया है, इससे सितंबर की रोजगार रिपोर्ट अब केंद्रीय बैंक के बांड ‘टेपर’ के लिए संभावित ट्रिगर हो सकती है। फेड के अध्यक्ष जेरोम पॉवेल ने भी कहा है कि सितंबर में अगर अमेरिका में नौकरियों की स्थिति मजबूत रही तो केंद्रीय बैंक अपनी नवंबर की पॉलिसी बैठक के बाद संपत्ति की खरीद को वापस लेना शुरू कर सकता है।

एसपीडीआर गोल्ड ट्रस्ट से इन्वेस्टमेंट आउटफ्लो भी सोने की कीमतों पर दबाव बना रहा है, जिस पर दुनिया के सबसे बड़े गोल्ड-समर्थित एक्सचेंज-ट्रेडेड फंड का कहना है कि 24 सितंबर 2021 को इसकी होल्डिंग 0.8% गिरकर 992.65 हो गई, जो अप्रैल 2020 के बाद का सबसे निचला स्तर है।

स्पेकुलेटिव पोजिशन – सोने में मंदी के संकेत:

हाल के सप्ताहों में सीएफटीसी की पोजिशन से संकेत मिलता है कि हेज फंड और मनी मैनेजर इस प्रकार पीली धातु में जोखिम को कम कर रहे हैं। 1 अगस्त 2021 को नेट लॉन्ग 1,06,662 कॉन्ट्रेक्ट्स थे, जो 21 सितंबर 2021 को नेट लॉन्ग घटकर 21954 कॉन्ट्रेक्ट्स पर रह गए थे। यह आने वाले हफ्तों में सोने की कीमतों में मंदी का स्पष्ट संकेत है।

सोने की कीमतें $1740/0z के ब्रेक पर एक आयत बना रही हैं और यह टूटने वाला है। इस स्तर के टूटने से $1680 के निशान की ओर करेक्शन हो सकता है, यानी $1740 के मौजूदा स्तर से लगभग $80 डॉलर की गिरावट। एमसीएक्स पर यह 28 सितंबर 2021 को 46,000 रुपये के मौजूदा स्तर से लगभग 1,200 रुपए की चाल दिख रही है।

Related posts

भारतीय डेटा सेंटर फुटप्रिंट को विस्तारित करने के लिए US $ 150 million के इक्विटी निवेश के लिए वेब वेर्कस और आयरन माउंटेन के बीच संयुक्त उद्यम समझोता

Khula Sach

आजादी के 75 साल बाद भारत में राजनैतिक पुर्नजागरण एवं सबसे बड़ा आश्चर्य देखने को मिलेगा

Khula Sach

Mirzapur : कैंप कार्यालय से प्रयागराज जिले का जारी हुआ लिस्ट

Khula Sach

Leave a Comment