Khula Sach
कारोबारताज़ा खबर

82% छात्र स्कूलों में लौटने को लेकर उत्साहित: ब्रेनली

मुंबई : भारत सरकार ने स्कूलों को आंशिक रूप से फिर से खोलने को हरी झंडी दिखाई है। भारत में ब्रेनली छात्रों का बहुमत (82%) अब ऑफलाइन मोड में स्कूलों में लौटने को लेकर उत्साहित है। इस बात का खुलासा ब्रेनली द्वारा किए गए सर्वेक्षण में हुआ। यह सर्वेक्षण स्कूलों को फिर से खोलने और महामारी के बाद के परिदृश्य में ऑनलाइन शिक्षा के भविष्य के संबंध में छात्रों की भावनाओं पर प्रकाश डालता है। इस सर्वेक्षण में 1731 छात्र शामिल हुए।

ब्रेनली के सीपीओ राजेश बिसानी ने कहा, “भारतीय छात्रों ने खुद को घर से पढ़ाई के लिए ढाल लिया था। अब उन्हें फिर से स्कूल लौटने की उम्मीद है। इससे साफ दिखता है कि कोई भी तकनीक साथियों से दोस्ती और बातचीत की जगह नहीं ले सकती है। 61% छात्रों ने यह भी दावा किया कि उनके माता-पिता उन्हें शारीरिक कक्षाओं में भेजने में सहज महसूस कर रहे हैं, और स्कूलों के खुलने को पॉजिटिव रूप से में देख रहे हैं।”

स्कूल उचित सुरक्षा सावधानी बरत रहे हैं: सर्वेक्षण में शामिल 79 प्रतिशत छात्रों को लगता है कि वे स्कूल लौट रहे हैं तो उनके स्कूल इमारतों में आवश्यक एहतियाती कदम उठा रहे हैं। आधे से अधिक छात्रों (55%) ने कहा कि उनके स्कूल के अनुसार ऑफलाइन क्लासेस में भाग लेना अनिवार्य हो गया है। इसका मतलब यह है कि कई स्कूल अभी भी ऑनलाइन सीखने का रास्ता अपना रहे हैं क्योंकि वे सावधानी बरत रहे हैं जबकि देश के कई क्षेत्रों में महामारी प्रतिबंध अभी भी जारी है। वास्तव में 82% छात्रों ने कहा है कि उनके स्कूल अभी भी सीखने के लिए ऑनलाइन प्लेटफॉर्म का उपयोग करते हैं।

छात्र और स्कूल एडटेक पर निर्भर हैं: अब छात्र न केवल ऑनलाइन प्लेटफॉर्म के अभ्यस्त हो गए हैं बल्कि इस माध्यम में भी आगे बढ़ रहे हैं। यह कोई आश्चर्य की बात नहीं है कि 77% छात्र अपने स्कूल फिर से खुलने के बाद भी ब्रेनली जैसे ऑनलाइन लर्निंग प्लेटफॉर्म से सहायता लेना जारी रखने की बात कर रहे हैं। इसके अलावा, अधिकांश छात्र (75%) चाहते हैं कि उनके स्कूल निकट भविष्य में सीखने के हाइब्रिड मॉडल को अपनाएं।

महामारी से प्रेरित लॉकडाउन के दौरान ऑनलाइन प्लेटफॉर्म छात्रों के लिए घर से सीखना जारी रखने का एकमात्र विकल्प था। अब, जैसे ही स्कूल फिर से खुलेंगे, यह साफ है कि शिक्षा का ऑनलाइन मीडियम कायम रहेगा। सर्वेक्षण में कहा गया है कि जहां बड़ी संख्या में छात्र स्कूल लौटना चाहते हैं, वहीं समान रूप से एक बड़ा समूह सीखने के मिश्रित तरीके को स्थायी रूप से अपनाना चाहता है। एक प्लेटफॉर्म के रूप में जो ऑनलाइन सीखने को प्रोत्साहित और सक्षम बनाता है।

Related posts

अलर्ट : महाराष्ट्र में कोरोना के बढ़ते संकर्मण को देखते हुये राज्य के अलग-अलग जिलों में क्या नए नियम बनाए गए है, देखिये…

Khula Sach

Dombivli : युवक की पिटाई करने वाले तीनों आरोपियों को पुलिस ने किया गिरफ्तार

Khula Sach

उत्पादक-केंद्रित प्राकृतिक कृषि कार्यक्रम ‘एगोरो कार्बन एलायंस’ भारत में लॉन्च

Khula Sach

Leave a Comment