Khula Sach
ताज़ा खबर व्यापार

सोने में आई तेज, वहीं तेल अब भी दबाव में

संपत्ति खरीद कार्यक्रम के शुरुआती टेपरिंग और चीन की अर्थव्यवस्था में मंदी पर दांव कम करने से सोने की कीमतों को समर्थन मिला, जबकि सऊदी ने एशिया के लिए तेल की कीमतों में गिरावट के बीच तेल की कीमतों में कमी की।

गोल्ड (सोना) :  सोमवार को सोना करीब 0.64 फीसदी की तेजी के साथ 1823.1 डॉलर प्रति औंस पर बंद हुआ। एंजेल ब्रोकिंग लिमिटेड के नॉन एग्री कमोडिटी एंड करेंसी रिसर्च एवीपी श्री प्रथमेश माल्या ने बताया कि सराफा मेटल्स ने पिछले सप्ताह से कम अमेरिकी डॉलर के रूप में लाभ बढ़ाया क्योंकि यूएस फेडरल रिजर्व द्वारा विस्तारवादी नीति को कम करने में देरी की उम्मीद की। इसके अलावा, चीन की अर्थव्यवस्था में स्पष्ट मंदी के संकेत, बढ़ते भू-राजनीतिक तनाव और हाल ही में कोविड 19 वायरस के नए संस्करण के प्रकोप ने सोने को समर्थन देने के लिए बाजार की भावनाओं को बाधित करना जारी रखा। यूएस सेंट्रल बैंक ने ब्याज दरों को कम रखने की घोषणा की और पहले के हफ्तों में आर्थिक समर्थन वापस लेने पर कोई समयसीमा नहीं प्रदान की, सराफा मेटल्स के लिए अपील को बढ़ावा मिला। हालांकि, अमेरिका से किसी भी प्रकार का सकारात्मक डेटा सेट मौद्रिक नीति में कमी और सोने पर भार की ओर संकेत करेगा। अमेरिकी श्रम बाजार में धीमी वृद्धि ने संपत्ति(एसेट) खरीद कार्यक्रम के शुरुआती टेपरिंग में दांव को कम कर दिया, जो सोने की कीमतों का समर्थन करने के बदले डॉलर पर तौला गया।

कच्चा तेल (क्रूड ऑयल) : मजदूर दिवस के कारण सोमवार को अमेरिकी बाजार बंद रहे। एमसीएक्स पर तेल की कीमत कल 0.6 प्रतिशत की गिरावट के साथ 5034 रुपये प्रति बैरल पर बंद हुई थी। दुनिया के शीर्ष निर्यातक सऊदी अरब ने सप्ताहांत में एशिया के लिए कच्चे तेल की कीमतों में गिरावट के साथ कच्चे तेल का कारोबार किया। इसके अलावा, चीन की अर्थव्यवस्था में धीमी वृद्धि आैर ओपेक की उत्पादन बढ़ाने की योजना के बीच महामारी के व्यापक प्रभाव ने वैश्विक बाजारों में कच्चे तेल की अधिकता की चिंताएं बढ़ा दीं। हालांकि, कमजोर अमेरिकी मुद्रा ने डॉलर की कीमत वाली इंडस्ट्रियल मेटल के नुकसान को सीमित कर दिया। पहले सप्ताह में तेल की कीमतों में तेजी बनी रही क्योंकि अमेरिकी कच्चे तेल के शेयरों की अपेक्षा से अधिक निकासी से ईंधन की मांग में वृद्धि की उम्मीद बढ़ गई थी। एनर्जी इंफॉर्मेशन एडमिनिस्ट्रेशन की रिपोर्ट के अनुसार, यूएस क्रूड इन्वेंटरी में 7.2 मिलियन बैरल की गिरावट आई, जो बाजार की 2.5 मिलियन बैरल गिरावट की उम्मीद को पार कर गया। बढ़ती महामारी की चिंता, चीन में मंदी और सऊदी की कीमतों में कटौती से तेल की कीमतों पर असर पड़ सकता है।

बेस मेटल :  सोमवार को इंडस्ट्रियल मेटल्स, एल्युमीनियम पैक में सबसे अधिक बढ़त के साथ मिश्रित रूप से बंद हुईं। चीन में लगाए गए कठोर पर्यावरणीय प्रतिबंधों ने वैश्विक बाजारों में एल्युमीनियम की संभावित कमी की चिंताओं को जन्म दिया है, जिसने 2021 में कीमतों को ऊंचा रखा है। बाकी इंडस्ट्रियल मेटल्स दबाव में रहीं क्योंकि चीन की अर्थव्यवस्था में स्पष्ट मंदी के संकेतों से बाजार की धारणा प्रभावित हुई। चीन के निजी सर्वेक्षण में कहा गया है कि उनका सेवा क्षेत्र अगस्त ’21 में संकुचन में फिसल गया वो भी कोविड-19 डेल्टा संस्करण के व्यापक रूप से आर्थिक गतिविधियों में बाधा के बाद नए प्रतिबंधों के कारण। कैक्सिन सर्विसेज परचेजिंग मैनेजर्स इंडेक्स (पीएमआई) जुलाई’21 में 54.9 से घटकर अगस्त’21 में 46.7 पर आ गया, जो 50 के स्तर से नीचे फिसल गया। माना जाता है कि यह विकास को संकुचन से अलग करता है। वह, चीन के औद्योगिक क्षेत्र में मंदी के साथ मिलकर सबसे बड़ी धातु खपत वाली अर्थव्यवस्था में मंदी की ओर इशारा करता है।

निजी क्षेत्र का सर्वेक्षण चीन में छोटी और मध्यम आकार की फर्मों पर केंद्रित है। जबकि चीन ने वायरस के प्रकोप को सफलतापूर्वक नियंत्रित कर लिया है, उनकी अर्थव्यवस्था में एक स्पष्ट मंदी औद्योगिक धातु की कीमतों के लिए काफी प्रतिकूल बनी रह सकती है।

तांबा (कॉपर) : सोमवार को, एलएमई कॉपर 0.2 प्रतिशत की तेजी के साथ समाप्त हुआ क्योंकि डॉलर के निचले स्तर ने लाल धातु की कीमतों के लिए कुछ समर्थन लगाया। हालांकि, चीन की अर्थव्यवस्था में मंदी की चिंताओं और आपूर्ति के खतरों में कमी ने तांबे की कीमतों को बंद रखा। चीन की अर्थव्यवस्था में मंदी की चिंता औद्योगिक धातु के स्पेक्ट्रम के लिए काफी प्रतिकूल बनी रह सकती है। बाद में दिन में होने वाले चीनी मासिक व्यापार डेटा पर निवेशकों की गहरी नजर हो सकती है।

Related posts

“सशस्त्र सेना झण्डा दिवस‘‘ एवं ‘‘विजय दिवस‘‘ समारोह अत्यन्त हर्षोल्लास एवं परम्परागत तरीके से मनाया गया

Khula Sach

‘मातृ दिवस‘ पर देखिये एण्डटीवी के ऑन-स्क्रीन माँ-बच्चों का खट्टा-मीठा रिश्ता

Khula Sach

फेडरेशन ऑफ सिने टेक्नीशियंस एंड वर्कर्स ऑफ ईस्टर्न इंडिया’ ने किया एलान…. 30 मई तक बंद रहेगा काम…

Khula Sach

Leave a Comment