Khula Sach
अन्य ताज़ा खबर मनोरंजन

Poem : कहानी घर के रिश्तों की

✍️  अंशिता त्रिपाठी, लंदन

आजकल हर बहू एक बेटी ही बनना चाहती है,
ससुराल से रोक-टोक और शिकायत नहीं सुनना चाहती है,
बहू बन सिर्फ़ तारीफ़ और इज्जत पाना चाहती है,
न जाने फिर वो बहु से बेटी का कैसा अरमान बुनना चाहती है,

सहनशीलता रखों बेटी बन सुनने की भी,
अगर ख़्वाहिश है बहू से बेटी बनने की,
जब बेटी बहू का फर्क नहीं चाहती,
तो तारीफ के संग शिकायत का मौका दो,

रिश्ते मिले है अलग-अलग बहू बेटी सास माँ ससुर पिता दामाद बेटा,
घुल जाते जो एक में, इसलिये चलते नहीं लम्बे समय में आज,
इसलिए दामाद कभी नहीं कहते वो बेटे बनेगें,
दामाद बन ही बस कर्तव्य पूरा करेगें,

अगर बन जाये वो भी बेटे तो रिश्तें अवश्य हो जायेंगे खट्टे,
कर्तव्य सबसे ऊपर है, न करता है किसी रिश्तें में बटंवारा,
निष्ठा कर्तव्य से निभाओ अगर रिश्तें तो न चाहोगे,
बहु से बेटी, दामाद से बेटा, सास से माँ, ससुर से पिता कभी बनना,

जब कर्तव्य इबादत है, तो पूज्यनीय वंदनीय है, मानवता का हर रिश्ता।

Related posts

Daily almanac & Daily Horoscope : आज का पंचांग व दैनिक राशिफल और ग्रहों की चाल 20 दिसंबर 2020

Khula Sach

Mirzapur : साहित्य-समृद्धि के प्रति सचेष्ट दिखे तो MLC आशुतोष सिन्हा

Khula Sach

फाइनेंशियल प्लानिंग के लिए 2020 से मिले सबक और प्रमुख सीख

Khula Sach

Leave a Comment