Khula Sach
अन्यताज़ा खबर

तलाश अभी बाकी है…

  • प्रतिभा दुबे (स्वतंत्र लेखिका), ग्वालियर, मध्य प्रदेश

क्यों अजनबी सा है शहर
किसका इंतजार बाकी है
धू धू करके जल रहा मन
तलाश अभी बाकी है।।

कहने को तो सब अपने है
आसमान साथ है लेकिन
मेरे हिस्से की जमीं बाकी है
तलाश अभी बाकी है।।

हलचल सी कुछ है कहीं
उठ रहा तूफान धीमे धीमे
सुकून है की जिंदा हूं पर
तलाश अभी बाकी है।।

बहुत कुछ कर गुजरने को
रफ्ता रफ्ता कदम उठाए हैं
हालत हुए अब तो ये खुद की
तलाश अभी बाकी है ।।

ना शिकवा है मुझे किसीसे
ना शिकायत है अब कोई भी
मैं मशरूफ हूं खुदा की बंदगी मैं
तलाश अभी बाकी है।।

देकर मुझे परेशानियां इतनी
तजुर्बे का हर पाठ पड़ा दिया
वो खुदा है कहां करना है शुक्रिया
तलाश अभी बाकी है।।

Related posts

होलिका दहन कैसे किया जाए ?

Khula Sach

ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ टेस्ट सीरीज में ‘बेकार’ की चीजों से दूर रहेंगे विराट कोहली

Khula Sach

डॉ मनोज तिवारी को विश्व पुस्तक मेला, दिल्ली में किया गया सम्मानित

Khula Sach

Leave a Comment