Khula Sach
अन्यताज़ा खबर

क्या कसूर था मेरा !

– मनीषा कुमारी, (मुम्बई)

क्या कसूर था मेरा जो आज इतना दर्द मिला।
जिसे अपना समझा उससे ही आज गिला मिला।।

ना कभी कोई झूठ बोला ना कोई सच छिपाया।
फिर भी आज सबने सही को ही गलत बताया।।

हर किसी को अपना मानना क्या कसूर हैं अब।
हर किसी को मदद करना क्या कसूर हैं अब।।

माना कि आज सब मतलब के यार हैं यहाँ।
फिर भी सच के साथ जीना गलत है कहाँ।।

हर किसी के चेहरे पे खुशी दिया हमनें।
हर किसी के जिंदगी में हँसी दिया हमनें।।

हर किसी से वफ़ा करना भी कसुर हैं इस जहां में।
हर किसी के लिए खो दिया खुद को इस जहां में।।

नसीब में नही था इस जीवन मेरा साथ लिखा तुझे।
तभी तो मेरी हर अच्छाई में बुराई ही दिखा तुझे।।

बहुत जी लिया दूसरों के लिए इस जीवन में।
अब खुद के लिए जीना है इस जीवन में।।

Related posts

Mirzapur : चुना दरी फाल में एक सैलानी डूबा

Khula Sach

Mirzapur : गृहमंत्री एवं मुख्यमंत्री ने मां विन्ध्यवासिनी कारीडोर शिलान्यास एवं रोप-वे का किया लोकार्पण

Khula Sach

सेंट विल्फ्रेड कॉलेज आफ लॉ में राष्ट्रीय मूट कोर्ट का आयोजन

Khula Sach

Leave a Comment