Khula Sach
ताज़ा खबरमीरजापुरराज्य

Mirzapur : अपना दल (एस) कार्यकर्ताओं ने संविधान निर्माता भारत रत्न भीमराव अम्बेडकर की मनाई जयंती

रिपोर्ट : तपेश विश्वकर्मा

मिर्ज़ापुर, (उ.प्र.) : अपना दल (एस) ने संविधान निर्माता भारत रत्न भीमराव अम्बेडकर की मनाई 130 वीं जयंती। बुधवार को पार्टी कार्यालय रेलवे दक्षिणी गेट के सामने पथरिया रोड मिर्जापुर में बाबा साहेब डॉ. भीमराव अंबेडकर की जयंती मनाई। जिसमें पार्टी के जिलाध्यक्ष इ० रामलौटन बिन्द ने बाबा साहब के चित्र पर माल्यार्पण किया। जयंती समारोह में श्री बिन्द ने कहा कि बाबा साहेब ने विश्व का सबसे बड़ा संविधान बनाया। उन्होंने संविधान में वंचित तबके का खास ध्यान रखा। उनकी ही देन है कि आज दलित व पिछड़े समाज के लोग हक की बात कर ले रहे हैं। उन्होंने कहा कि बाबा साहेब की विद्वत्ता के कारण ही उनको प्रथम विधि एवं न्याय मंत्री बनाया गया। उन्होंने दलित बौद्ध आंदोलन को प्रेरित किया और अछूतों (दलितों) से सामाजिक भेदभाव के विरुद्ध अभियान चलाया था। श्रमिकों, किसानों और महिलाओं के अधिकारों का समर्थन भी किया था। और भारत रत्न डॉ० भीमराव अम्बेडकर जी की जयंती आज हम मना रहें है। बाबा साहेब के माता-पिता कबीर पंथी थे। परिवार शाकाहारी होने के कारण उन्होने कभी मांस,मछली,अंडे शराब का सेवन नहीं किया। पिता रामजी सकपाल के 14 संतानों में डॉ० भीमराव अम्बेडकर सबसे छोटे थे। बचपन से ही छुआछूत के भेदभाव का भयंकर दंश झेलने वाले डाॅ अम्बेडकर प्रतिभा के धनी, इतिहास-विधि-अर्थ-समाज-शास्त्र में निष्णात,स्वतंत्र भारत के संविधान के निर्माता,जीवन भर दलित समाज के कल्याण के लिए जूझने वाले,मानव को समता का अधिकार दिलाने वाले भारतरत्न डाॅ भीमराव अम्बेडकर भारत के महान सपूतों में से एक हैं। वर्तमान में कोविड-19 वैश्विक महामारी से बचाव के लिए हम सभी को कोरोना गाइडलाइन का ध्यान रखना चाहिए और लोगों से उचित दूरी और सैनिटाइजर व मास्क का इस्तेमाल करते रहें। कार्यक्रम के दौरान अनुसूचित मंच जिलाध्यक्ष श्री ज्ञान चंद कनौजिया, आई टी मंच जिला अध्यक्ष श्री हेमंत बिंद, कार्यवाहक नगर अध्यक्ष श्री अशोक पटेल, मनोज बिंद, श्रीमती पिंकी सिंह, जिला मीडिया प्रभारी शंकर सिंह चौहान आदि लोग उपस्थित रहे।

Related posts

Poem : आ गले लग जा

Khula Sach

क्विक हील ने थ्रेट प्रेडिक्शंस 2021 रिपोर्ट जारी की

Khula Sach

Mirzapur :’’एक मुटठी आसमां थीम गरीबों तथा समाज के हाशिए पर रहने वाले वर्गों के लिए भरोसा,

Khula Sach

Leave a Comment