Khula Sach
ताज़ा खबरमीरजापुरराज्य

Mirzapur : साहित्य-समृद्धि के प्रति सचेष्ट दिखे तो MLC आशुतोष सिन्हा

नगर-भ्रमण के दौरान विशिष्ट जनों के निधन पर दी श्रद्धांजलि

रिपोर्ट : सलिल पांडेय

मिर्जापुर, (उ.प्र.) : वाराणसी स्नातक क्षेत्र से अभी हाल में निर्वाचित MLC आशुतोष कुमार सिन्हा का साहित्य के प्रति लगाव दिखा और वे वाराणसी मण्डल के शताब्दी पूर्व के गौरवशाली साहित्यिक परिदृश्य को पुन: प्रतिष्ठापित करना चाहते हैं।

इसी क्रम में वे रविवार, 21 मार्च को मिर्जापुर में भ्रमण के दौरान नगर के तिवराने टोला स्थित डॉ भवदेव पांडेय शोध संस्थान में आए, जहां उन्हें जिले की साहित्यिक समृद्धि की जानकारी भी हुई। श्री सिन्हा को जिले के लोक-साहित्य से अवगत कराते हुए डॉ पांडेय का ‘लोकपर्व’ का प्रथम संस्करण दिया गया, इसी के साथ ‘विंध्यप्रसाद’ की एक प्रति दी गई।

इसके पूर्व श्री सिन्हा सन 1902 में स्थानीय बरियाघाट पर स्थापित 119 वर्ष प्राचीन श्री चित्रगुप्त मन्दिर जाकर दर्शन-पूजन किया तथा श्री चित्रगुप्त सभा के नवमनोनीत अध्यक्ष रजत श्रीवास्तव के लोहंदी रोड स्थित निवास “माधव कुंज” पर आयोजित “कायस्थ सम्मेलन” व रामटेक, बरियाघाट पर ताज विकलांग सेवा समिति की बैठक में भी सहभागिता की।

एम.एल.सी. श्री सिन्हा वरिष्ठ साहित्यकार प्रोफेसर प्रभुनारायण श्रीवास्तव के यहां शोक प्रकट करने गए, प्रो. श्रीवास्तव का निधन जनवरी महीने में हो गया था। इसी कड़ी में नगरपालिका के पूर्व अध्यक्ष स्व. अरुणकुमार दुबे के घर जाकर उनके चित्र पर माल्यार्पण किया। शोक के क्रम में सेल्स टैक्स के ख्यातिलब्ध अधिवक्ता विनोद श्रीवास्तव के निधन पर उनके निवास पर शोक व्यक्त किया, साथ ही वरिष्ठ अधिवक्ता अधिवक्ता प्रमोद श्रीवास्तव की गम्भीर लकवा की बीमारी तथा अखिल भारतीय चित्रांश महासभा के जिलाध्यक्ष राजेश सिन्हा के ऑपेरशन पर उनके निवास पर पहुंच कर स्वास्थ्य लाभ हेतु कामना की। साथ ही गुदड़ी के लाल, देशरत्न, अब तक की राजनीति में सबसे बेदाग ईमानदार राजनेता स्व. लाल बहादुर शास्त्री जी के ससुराल गैबी घाट पर जाकर उन्हें श्रद्धा-सुमन अर्पित किया गया। श्री सिन्हा के साथ अखिल भारतीय चित्रांश महासभा के राष्ट्रीय संगठन सचिव व नीमा के पूर्व अध्यक्ष समाजसेवी चिकित्सक डॉ. शक्ति श्रीवास्तव एवं डिस्ट्रिक्ट बार एसोसिएशन के सदस्य एड. सुशील श्रीवास्तव भी साथ में थे।

Related posts

Mirzapur : जान को जोखिम मे डालकर रेलवे टैक पार करना बन गई है मजबूरी

Khula Sach

Mirzapur : नये साल में बाल विकास विभाग के लिये सौगात, 18 आंगनबाड़ी केन्द्र मिल

Khula Sach

Chhatarpur : कोविड आपदाकाल में पुलिस महकमें ने निभाया सामाजिक धर्म सबसे अधिक शहादत भी हुए पुलिसकर्मी: गृहमंत्री

Khula Sach

Leave a Comment