Khula Sach
कारोबारताज़ा खबर

लोढ़ा ग्रुप ने बिना किसी रुकावट के पढ़ाई जारी रखने के लिए स्कालरशिप प्रोग्राम शुरू किया

मुंबई : लोढ़ा ग्रुप ने अपने 6 स्कूलों में 10,000 स्‍टूडेंट्स के लिए जरूरत पर आधारित वन टाइम स्कॉलरशिप प्रोग्राम शुरू किया है। ग्रुप ने उन बच्चों की पढ़ाई में कोई रुकावट न आने देने के लिए यह स्कॉलरशिप देना सुनिश्चित किया है, जिनके माता-पिता कोविड-19 महामारी के कारण आर्थिक संकट से गुजर रहे हैं। ग्रुप की ओर की गई यह पहल उन परिवारों के बच्चों की फीस को स्पॉन्सर करने का ऑफर देती है, जिनके माता-पिता की आमदनी में वित्तीय वर्ष 2020-21 में तीन महीने या अधिक समय से कमी आई है।

इन स्कूलों में पढ़ने वाले करीब 80 परिवारों के बच्चों को इस स्कॉलरशिप से लाभ मिला है। वेरिफिकेशन प्रोसेस के लिए आवेदकों को अपने परिवार की आमदनी में कमी आने के समर्थन में जरूरी दस्तावेज जमा कराने होंगे। अलग-अलग मामलों में परिवार की स्थिति को देखकर स्कॉलरशिप देने का फैसला किया गया है। सबसे ज्यादा स्कॉलरशिप का ऑफर उन परिवारों के बच्चों को दिया गया, जिनके पेरेंट्स की महामारी के कारण एक साल में जॉब चली गई या बिजनेस ठप पड़ गया। इसकी तुलना में थोड़ी कम राशि उन परिवारों के बच्चों को दी जाएगी, जिस परिवार में बच्चों के माता-पिता को 3 महीनों तक नौकरी के बिना रहना पड़ा।

लोढ़ा ग्रुप में मार्केटिंग और कॉरपोरेट कम्युनिकेशंस की प्रेसिडेंट रौनिका मल्होत्रा ने कहा, “लोढ़ा में हम हमेशा की तरह समाज और समुदाय की मदद के लिए तत्पर हैं। हम मानते हैं कि अच्छी और बेहतरीन पढ़ाई एक बड़ा आवश्यक तत्व है, जिससे बच्चों का उचित दिशा में विकास सुनिश्चित होता है और उनके जीवन स्तर में सुधार आता है। हालांकि लोढ़ा प्रॉपर्टीज में स्थित हमारे स्कूलों में बेहतरीन और गुणवत्तापूर्ण शिक्षा दी जाती है, जिससे बच्चों की आगे आने वाली जिंदगी में बड़ा अंतर देखने को मिल सकता है। इससे हरेक बच्चे को पढ़ाई में अपना बेहतरीन प्रदर्शन करने के लिए प्रेरित किया जा सकता है। आजकल के मुसीबत से भरे समय में भी हमारा विश्वास है कि हर बच्चे को बिना किसी रुकावट के पढ़ाई जारी रखने का हक है। इस बात को ध्यान में रखते हुए हमारा स्कॉलरशिप प्रोग्राम उन परिवारों की आर्थिक मदद देने के लिए प्रतिबद्ध है, जिन्हें इस महामारी के दौरान अपनी नौकरी गंवानी पड़ी या आमदनी में कमी का सामना करना पड़ा।“

लोढ़ा वर्ल्ड स्कूल में पढ़ने वाले एक बच्चे के अभिभावक ने कहा, “मैं लोढ़ा के उदार एंडोमेंट फंड के लिए उन्हें धन्यवाद करना चाहता हूं, जिससे मुझे अपने बच्चे की स्कूल फीस भरने के लिए रकम मिली। मैं यह जानकर काफी खुश हूं कि इस स्कॉलरशिप के लिए मेरे नाम का चयन किया गया। इस स्कॉलरशिप ने मेरे आर्थिक संकट को कम कर दिया है। अब मुझे अपने बच्चे की स्‍कूल फीस भरने के लिए कोई चिंता करने की जरूरत नहीं है। “

Related posts

Poem : यूंही नहीं कोई मर्द कहलाता हैं !

Khula Sach

Ghaziabad : भाजपा युवा मोर्चे के नवनियुक्त प्रदेश अध्यक्ष प्रांशुदत्त द्विवेदी का हुआ भव्य स्वागत

Khula Sach

U.P. : अखिलेश सरकार में विकास का नहीं परिवारवाद और अपराध का एजेंडा चलता था: योगी

Khula Sach

Leave a Comment