Khula Sach
ताज़ा खबरदेश-विदेश

Rohtas : महिला दिवस पर किया गया महिला जनजागरण कार्यक्रम

रोहतास, ( बिहार) : जिला के सासाराम प्रखड के दरिगाव गाँव आँल इंडिया रेलवे शु-शाईन वर्कस यूनियन के द्वारा महिला दिवस पर महिला जनजागरण कार्यक्रम किया गया। इस महिला दिवस पर दरिगाव की सैकडो महिलाओं ने भाग लिया। कार्यक्रम मे आए महिला को सासाराम लोकसभा के पूर्व प्रत्याशी रामएकबाल राम ने फूल देकर सम्मानित किया और कहा की आज भी महिला हर मामले में आत्मनिर्भर और स्वतंत्र हैं और पुरुषों के बराबर सब कुछ करने में सक्षम भी हैं।

आज अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस हर वर्ष 8 मार्च को विश्व भर में मनाया जाता है यह दिन महिलाओं को उनकी क्षमता सामाजिक राजनीतिक व आर्थिक तरक्की दिलाने तथा उन महिलाओं को याद करने का दिन है। जिन्होंने महिलाओं को उनके अधिकार दिलाने के अथक प्रयास किए। महिला दिवस पर विभिन्न क्षेत्रों से जुड़ी महिलाओं के विचार जागरण की तरफ से बताए जा रहे हैं। घर के साथ समाज को चलाने का दम रखती हैं महिलाएं।

महिलाओं का पिछड़ना मनुष्य के विकास में सबसे बड़ी रुकावट है, जिन देशों में महिलाओं की योग्यता तथा सामर्थ को निखारने के अवसर प्रदान किए वह सामाजिक तथा आर्थिक पक्ष से मजबूत हैं। महिलाएं अपने घर के साथ साथ एक समाज को चलाने का दम रखती है, इससे समाज तरक्की की राह पर जाएगा। देश की तरक्की में महिला की भूमिका अहम है। स्त्री सभी रिश्तों को बड़ी अच्छी तरह संभालती है आज महिला का योगदान प्रत्येक क्षेत्र में विशेष है।

महिला किसी देश के विकास का मुख्य आधार होती हैं। महिलाएं परिवार समाज देश की तरक्की में अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। महिलाओं को मिला समानता का अधिकार और महिलाओं की स्वतंत्रता को लेकर सवाल खड़े होते है और महिला समानता के अधिकारों से काफी दूर है। लेकिन वर्तमान समय में महिलाओं के संघर्ष के कारण अपनी हिस्सेदारी एवं अधिकारों को हासिल करने के रास्ते पर आगे बढ़ रही है। महिलाओं की स्थिति अब भी चिंताजनक है।

उन्होंने कहा कि महिलाओं के संघर्ष की कहानी 8 मार्च 1857 को शुरू होती है। जब अमेरिका के न्यूयार्क सिटी में टैक्सटाइल फैक्टरी में काम करने वाली महिलाओं ने अपने हकों के लिए पहली बार आवाज उठाई। लेकिन कई वर्ष बीत जाने के बाद भी दुनिया के बहुत सारे देशों में आज भी महिला की स्थिति में कोई सुधार नहीं हुआ, जो एक चिताजनक विषय है। महिलाओं को दिए जाएं उनके अधिकार है। महिलाओं को अधिकार देने के लिए सभी सरकारें प्रयासरत हैं, लेकिन कई बार अधिकार फाइलों में दबकर रह जाते हैं। इन अधिकारों के लिए उपयोगी व पारदर्शी सोच बने एवं समाज में रहने वाली महिलाएं खुद को सुरक्षित और मजबूत समझें। हर क्षेत्र में महिलाओं ने नाम चमकाया है।

महिला हर क्षेत्र में शिखर तक पहुंच गई है। चाहे देश की प्रधानमंत्री हों, अंतरिक्ष यात्रा हो, सेहत, शिक्षा एवं वैज्ञानिक क्षेत्र में अपना नाम कमाया है। वही उत्क्रमिक प्राथमिक विद्यालय दरिगाव के प्रवेशोत्सव मे प्रवेश के लिए हरी झंडी दिखाकर शोभायात्रा निकाली निकाली। जिसमे सभी स्कूली बच्चो ने भाग लिया। इस दौरान रीता देवी, शांति देवी, राजमुना देवी, लखमुनीया देवी इत्यादि मौजूद रही।

Related posts

Poem : फौजी मेंटल

Khula Sach

लाख तरक्की के बावजूद हम बुजुर्गों का ख्याल रखने में पीछे हैं : अतुल मलिकराम

Khula Sach

परिवहन का ‘डिजिटल वॉलेट’ के रूप में फास्टैग होगा विकसित: व्हील्सआई

Khula Sach

Leave a Comment