Khula Sach
ताज़ा खबरराज्य

Bhadohi : 1900 टीबी रोगियों को विभाग ने दी 28-76 लाख की आर्थिक सहायता

भदोही, (उ.प्र.) : टी0बी0 की बीमारी असाघ्य बीमारी नहीं है जागरूकता न होने के कारण इस रोग से लोग घबराते हैं। जबकि इलाज द्वारा टीबी रोग से मुक्ति सम्भव है। इसलिए कोरोना के इस दौर में टीबी के मरीजों की अनदेखी नहीं करना चाहिए। ये बाते जिला कार्यक्रम समन्वयक मनीष एक बैठक के दौरान कही।

जिला क्षय रोग अधिकारी डाक्टर एच0पी0सिंह ने बताया कि जिले में क्षय रोग से पीड़ित लोगों को इलाज व उपचार करवाने के लिए बीमारी के दौरान समय-समय पर पौष्टिक आहार लेने के लिए सरकार ने निक्षय पोषण योजना को शुरू किया है। इस योजना के तहत सभी टीबी रोगियों को पांच सौ रूपये प्रति माह देने का प्रावधान रखा गया है। जिले में 1 अप्रैल 2020 से फरवरी 2021 तक 1900 रोगियों को कुल 28-76 लाख की धनराशि उनके खाते में भेज दिया गया है। 2025 तक क्षय रोग को जड़ से समाप्त करने का लक्ष्य रखा गया है। यदि शुरूआत के दौरान ही इलाज कराया जाये तो इस रोग को पूरी तरह खत्म किया जा सकता है। यदि कोई रोगी समय रहते ठीक हो जाये तो वह 10 व्यक्तियों को इस बीमारी से बचाया जा सकता है। वर्ष में समय-समय पर रोगियों को खोजने का अभियान चलाया जाता रहा है। अभियान के दौरान स्वास्थ्य कर्मी डोर-टू-डोर जाकर लोगों से बात कर उनकी जांच करने का काम करते है। जांच में टीबी रोग की पुष्टि होने पर उनको नजदीकी स्वास्थ्य केन्द्र पर ले जाकर उनका निशुल्क इलाज किया जाता है। इसी के साथ ही लोगों को रोग के प्रति जागरूक भी विभाग की टीम करती है। इससे लोगों के संक्रामक बीमारियों की चपेट में आने की कम आशंका बन जाती है।

जिला कार्यक्रम समन्वयक मनीष ने बताया कि जिले में बेहतर स्वास्थ्य सेवा उपलब्ध कराये जाने के साथ ही विभाग के माध्यम से दी जाने वाली प्रोत्साहन धनराशि को भी ससमय उपलब्ध करा दिया जा रहा है। इससे मरीज खान-पान व पौष्टिक आहार लेने हेतु किसी भी प्रकार की कोई आर्थिक रूकावट भी नही होगी।

बताया कि जिले में इस समय संचारी रोग नियंत्रण व दस्तक अभियान भी चलाया जा रहा है। इस अभियान के दौरान जिले में तैनात 643 आशा 14 दिनों तक घर-घर जाकर टीबी रोगियों को खोजने का काम कर रही है और लोगों को इस बीमारी के प्रति जागरूक करने के साथ ही अन्य संक्रामक बीमारियों के प्रति भी विस्तारपूर्वक जागरूक करने का काम करेगी।

बीमारी के मुख्य लक्षण : यदि दो सप्ताह से ज्यादा समय से लगातार खांसी आनाए दो हफ्ते से ज्यादा समय से बुखार आनाए खासकर शाम को बुखार आना एखांसी के साथ बलगम में खून आनाए भूख न लगना एवजन कम होनाए सीने में दर्द रहनाए टीबी का लक्षण है।

Related posts

Mirzapur : साहित्य-समृद्धि के प्रति सचेष्ट दिखे तो MLC आशुतोष सिन्हा

Khula Sach

“हीरो-गायब मोड ऑन में मेरी भूमिका के साथ मेरे बचपन की कल्पना सच हो रही है” : येशा रुघनी

Khula Sach

आभासी कविता की कक्षा-१ का सफल आयोजन संपन्न

Khula Sach

Leave a Comment