Khula Sach
अन्यकारोबारताज़ा खबर

एकमुश्त निवेश या एसआईपी : शुरुआत के लिए बेहतर विकल्प

मुंबई : दुनिया भारत की जनसांख्यिकीय क्षमता की ओर उत्सुकता से देख रही है और देश के मिलेनियल्स और जनरेशन ज़ी अपने सपनों के निर्माण के लिए शुरुआती निवेश को लेकर उत्साह दिखा रही है। बेहतर इंटरनेट पहुंच और बाजारों के बारे में जागरूकता की वजह से पूंजी बाजारों में नए निवेशकों की संख्या तेजी से बढ़ रही है। अधिक से अधिक भारतीय सिस्टमेटिक इन्वेस्टमेंट प्लान (एसआईपी) से जुड़ रहे हैं और म्यूचुअल फंड्स के माध्यम से एकमुश्त निवेश कर रहे हैं। और फिर भी वे अपने पोर्टफोलियो को संरचित करने के लिए सर्वोत्तम संभव निवेश विकल्प के बारे में मार्गदर्शन मांग रहे हैं। यदि निवेशक अपने म्यूचुअल फंड निवेश विकल्पों के बारे में निश्चित नहीं है तो बाजार में आज उपलब्ध विकल्पों की अधिकता अनिर्णय का कारण बन सकती है।

नए और शुरुआती निवेशकों के लिए एक बारहमासी प्रश्न रहता है और उनके लिए यह निर्णय चिंता का विषय रहता है कि शुरू में किस टूल को चुनना है। कई निवेशकों में भ्रम रहता है कि एकमुश्त निवेश करना बेहतर है या एसआईपी के विकल्प को चुनना? एंजल ब्रोकिंग लिमिटेड के इक्विटी स्ट्रैटेजिस्ट-डीवीपी ज्योति रॉय बताते हैं कि यह दोनों कई उद्देश्यों को पूरा करते हैं, और निर्णय उन उद्देश्यों के आधार पर किया जाना चाहिए जिन्हें वे प्राप्त करना चाहते हैं।

एकमुश्त निवेश को समझना : जो लोग किसी प्लान के प्रति आवधिक या मासिक योगदान को लेकर अनिश्चित होते हैं, वे आमतौर पर एकमुश्त निवेश को एक बार के लेनदेन के रूप में देखते हैं। इस तरह के निवेश के लिए पूंजी की एक बड़ी राशि की आवश्यकता होती है ताकि बाजार से बड़ा लाभ मिल सकें।

एकमुश्त विकल्प आमतौर पर उन निवेशकों द्वारा चुना जाता है जो जोखिम का सामना नहीं करते हैं, क्योंकि वे रिटर्न का अधिक अनुपात उत्पन्न करने के लिए बाजारों की ओर देखते हैं। सिस्टम की गतिशीलता को समझने के लिए एक स्तर का ज्ञान चाहिते होता है क्योंकि सूचकांक के कम होने पर लोग अपने एकमुश्त पैसे को म्यूचुअल फंड में डालना पसंद करते हैं। यह उन निवेशकों के लिए एक आदर्श विकल्प माना जाता है जो उच्च लेकिन अनियमित आय प्राप्त करते हैं। व्यवसायों और परामर्श भूमिकाओं के प्रबंधन में शामिल पेशेवर अक्सर फीस और अनुबंध के मामले में एकबारगी भुगतान प्राप्त करते हैं, और एसआईपी उनके हितों को पूरा नहीं करती है। नतीजतन, इस तरह के अनियमित साइकिल वालों के लिए एकमुश्त निवेश अधिक उपयुक्त हैं।

एसआईपी के मामले में : बात जब एसआईपी की आती है तो यह तो साधन एक वृद्धिशील निवेश प्रक्रिया को फॉलो करता है जो निवेशक की औसत क्षमताओं को ध्यान में रखता है। मासिक आय वाले व्यक्ति नियमित रूप से निर्धारित अवधि में एसआईपी में योगदान करने का निर्णय ले सकते हैं। यह 500 रुपए की बेस राशि से शुरू होकर दैनिक, साप्ताहिक और मासिक आधार पर हजारों रुपए तक हो सकती है। यह प्रक्रिया एक बैंकिंग सेवा का चयन करने के समान है, जहां लोग जानते हैं कि वह सेवा में कितना योगदान दे रहा है। वे पूर्व-निश्चित अवधि के लिए उससे जुड़ते हैं। समय के साथ परिसंपत्ति मूल्य जमा होता जाता है क्योंकि यह पहले निवेश के समय से बढ़ने लगता है।

पहली बार निवेशकों के बहुमत के रूप में युवा पेशेवर और हाल ही में स्नातक आते हैं, और उनके लिए एसआईपी फॉलो करना एक बढ़िया विकल्प है। वित्तीय प्रतिबद्धता के बुनियादी स्तर की आवश्यकता के कारण उनका निवेश कम रहता है। इसके अलावा उन्हें बाजार में उतार-चढ़ाव की चिंता किए बिना, एक टारगेट-ओरिएंटेड समय-सीमा पर आयोजित किया जा सकता है। इस योजना में एसआईपी से उत्पन्न ब्याज को वापस जोड़ने का विकल्प चुनें, जो निवेशकों को बेहतर रिटर्न देने की संभावना बढ़ाने में मदद करता है।

निवेश करने से पहले किन बातों का ध्यान रखें और इसे कैसे आजमाएं : जैसा कि पहले ही उल्लेख किया गया है, निवेशक को एक से दूसरे विकल्प पर जाने से पहले कुछ लक्ष्य निर्धारित करना आवश्यक है। उदाहरण के लिए, यह इस बात पर निर्भर करता है कि निवेशक कितनी पूंजी निवेश करने को तैयार है, हर महीने प्रत्येक व्यक्ति द्वारा अर्जित आय का स्वरूप क्या होगा, एक निवेशक के रूप में कितना रिस्क सहन कर सकता है, और बाजार के डायनामिक्स को समझने में उनकी विशेषज्ञता कितनी है।

एक स्थिर आय वाले व्यक्तियों के लिए यह माना जाता है कि एसआईपी एक उतार-चढ़ाव वाले सूचकांकों को समझने में एक भूमिका निभाते हैं। एक निवेशक के तौर पर थोड़ा ध्यान देने की आवश्यकता होती है। यह नियमित आय वाले शुरुआती लोगों के लिए एक आदर्श प्रस्ताव है, क्योंकि वे इसे कभी भी बंद करने का विकल्प चुन सकते हैं। इसके अलावा, बैंक अपने ग्राहकों को डिजिटल केवाईसी और अन्य माध्यमों से प्रक्रिया को तेज करने में मदद कर रहे हैं, और मोबाइल ऐप पर आपकी शुरुआत के जरिए आपके द्वारा चुनी गई योजना के आधार पर व्यवस्थित रूप से निवेश संभव है। दूसरी ओर, बाजार में चढ़ाव के दौरान एकमुश्त निवेश भविष्य के रिटर्न को महत्वपूर्ण रूप से प्रभावित कर सकता है और जोखिम फेक्टर प्रमुख भूमिका निभाता है। चाहे वह एसआईपी हो या एकमुश्त पैसा हो, यह विचार लोगों के पोर्टफोलियो में विविधता लाने के लिए है, ताकि जोखिम अंततः खत्म हो जाए।

Related posts

बजट के लिए स्टॉक लेते समय देखने वाले कारक

Khula Sach

सोनी सब के ‘तेरा यार हूं मैं’ में जान्हवी का होगा दु:खद अंत!

Khula Sach

एंजल ब्रोकिंग ने फ़रवरी-2021 में रिकॉर्ड वृद्धि दर्ज की

Khula Sach

Leave a Comment