Khula Sach
कारोबारताज़ा खबर

लॉकडाउन के बाद वाहनों की ऑनलाइन बिक्री 300% बढ़ी: ड्रूम

मुंबई : सबसे बड़े ऑनलाइन ऑटोमोबाइल मार्केट ड्रूम (Droom) ने हाल ही में अपनी वार्षिक ऑटोमोबाइल इंडस्ट्री ट्रेंड रिपोर्ट जारी की है। जबकि यह रिपोर्ट इंडस्ट्री की अंतर्दृष्टि और अनेकों ट्रेंड के उल्लेख से भरी हुई है, लेकिन वाहनों की ऑनलाइन बिक्री में 300% की वृद्धि का उल्लेख 2020 के सबसे उल्लेखनीय ट्रेंड में से एक है। कोविड-19 महामारी ने इस डिजिटल एडॉप्शन को काफी तेज कर दिया है और नई कारों के विपरीत इस्तेमाल की गई कारों और 2-पहिया वाहनों में यह बदलाव अधिक स्पष्ट है।

रिपोर्ट में उल्लेख हुए कुछ अन्य प्रमुख ट्रेंड इस प्रकार हैं :

व्हाइट एंड सिल्वर कलर के लिए भारत के लोगों के जुनून की फिर पुष्टि हुई है और इन 2 रंगों की बिक्री पुरानी कारों की कुल बिक्री के 50% से अधिक है। भारत में लोगों द्वारा डीजल चालित कारों के चुनाव में वृद्धि होना जारी है, जो 2015 में बेची गई कुल पुरानी कारों के 35% से बढ़कर 2020 तक 65% हो गई थी। कार की मालिकाने की औसत अवधि 6 वर्ष, बाइक और स्कूटर की 5 वर्षऔर सुपर बाइक की लगभग 3 वर्ष के आसपास है। प्रत्यक्ष रूप से, कार के मालिकाने की औसत अवधि कम हो रही है (2019 में 66 महीने 2020 में 60 महीने)।

भारतीय और जापानी कारों की ओईएम (OEMs) का हिस्सा पूर्व स्वामित्व वाली कारों की कुल बिक्री का 55% है और यह संख्या सीमित बनी रही है। हालांकि, जर्मन कारों ने सड़कों पर अपनी उपस्थिति बढ़ा ली है और इनकी पूर्व स्वामित्व वाली कारों की बिक्री 10% से बढ़कर 18% तक हो गई है और कोरियाई कारों की बिक्री 20% से घटकर 12% हो गई है। ऑटो ट्रांसमिशन का एडॉप्शन वर्ष 2020 में और अधिक बढ़ गया और पिछले 6 वर्षों में 20% से बढ़कर 35% हो गया है। 2-व्हीलर्स में, पूर्व-स्वामित्व वाले कुल 2-व्हीलर्स में मार्केट हिस्सेदारी भारतीय ओईएम (OEMs) की 54% और जापानी ओईएम की 42% है और शेष विश्व के खाते में केवल 4% हिस्सा आता है। मारुति सुजुकी स्विफ्ट डिजायर सबसे अच्छी बिकने वाली पूर्व स्वामित्व वाली कार और हीरो स्प्लेंडर प्लस सबसे अच्छी बिकने वाली 2-व्हीलर बनी हुई है।

ड्रूम सभी खरीददारों और विक्रेताओं की ऑनलाइन गतिविधि और उसके मालिकाना कार्यप्रणाली के आधारपर भारत का वार्षिक ऑटोमोबाइल इंडस्ट्री ट्रेंड रिपोर्ट प्रकाशित करता है। यह रिपोर्ट 1.1 बिलियन से अधिक आगंतुकों, 20 हजार से अधिक ऑटो डीलर्स, 1086 शहरों, 3 मिलियन लिस्टिंग, ड्रूम  पर सूचीबद्ध इन्वेंट्री में $25 बिलियन और 315 हजार बेचे गए वाहनों और बेचे गए जीएमवी में $ 3.1 बिलियन पर आधारित है।

ड्रूम के संस्थापक और सीईओ, संदीप अग्रवाल ने कहा, “ड्रूम में हम ऑटोमोबाइल खरीदने और बेचने के लिए 21  वीं सदी के डिजिटल प्लेटफ़ॉर्म और इकोसिस्टम का निर्माण कर रहे हैं। स्पष्ट है कि हम एक प्योर-प्ले ऑनलाइन कंपनी हैं और हमारे पास ऑटोमोबाइल के खरीदारों, विक्रेताओं, लिस्टिंग, ब्रांडों, वर्षों और शहरों का कई पेटाबाइट्स डाटा है। इस डेटा से ऑटोमोबाइल उद्योग बिरादरी के साथ शीर्ष अंतर्दृष्टि साझा करना हमेशाही एक बड़ी खुशी की बात होती है।

Related posts

भारत का पहला वीडियो कॉलिंग सुविधा वाला एंड्रॉइड टीवी लॉन्च

Khula Sach

Mirzapur : दबंगों द्वारा रास्ते से बुलाकर किया गया मारपीट युवक की हालत गंभीर

Khula Sach

kalyan : 6 महीने के मासूम बच्चे के अपहरण करने वाले पांच लोगों को किया गिरफ्तार

Khula Sach

Leave a Comment