Khula Sach
ताज़ा खबरमीरजापुरराज्य

Mirzapur : देख रेख के अभाव में उपेक्षित है महापुरुष बाबा साहब भीमराव अंबेडकर की प्रतिमा

रिपोर्ट : बृजेश गोंड

मीरजापुर, (उ.प्र.) : सिटी ब्लाक क्षेत्र के ग्रामसभा अमोई मौजा टेढ़वा स्थित स्थापित की गई देश के संविधान देकर शोषित पीड़ित वंचित के जीवन मे रोशनी लाने वाले महापुरुष बाबा साहब भीमराव अंबेडकर जी की प्रतिमा आज भी साफ-सफाई के लिये उपेक्षित हैं। समुचित देख-रेख के अभाव में प्रतिमा के आसपास व बाउंड्रीवाल की हालत दिन व दिन खस्ता होती जा रही है। अगर उनकी समुचित देख रेख नहीं की गई तो वह दिन दूर नहीं जब यह प्रतिमा व बाउंड्री नष्ट हो जाएंगी।

यह प्रतिमा टेढ़वा हरिजन बस्ती मे ग्रामीणो के बीचो-बीच स्थापित की है। जो साफ सफाई की उपेक्षा का दंश झेल रही हैं। प्रतिमा के उपर धूल जमा होने के साथ-साथ आस-पास कुत्ते गन्दा कर रख्खे है।  जिसको साफ कराने के लिये स्थानीय प्रशासन ध्यान नहीं दे रहा है। प्रतिमाओं के पास मवेशियों को बाधा जा रहा है। साथ ही आसपास अवैध रूप से कुडा करकट भी फेका जा रहा है,  जिससे आस-पास गंदगी का साम्राज्य कायम है।

प्रतिमा के उपर उपर छत तो लगवा दिया गया है,  लेकिन उसकी पेंटिंग की खर्च ग्राम पंचायत नही उठा पा रही है। जो की इसकी जिमेदारी ग्राम पंचायत की होनी चाहिये। अगर ग्रामसभा की बात की जाये तो गाँव मे लगभग 4/5 सफाई कर्मीयो की नियूक्ति की गई है जो आकर क्या करते है। इसकी खोज करने वाला कोई नही है। गाँव के सार्वजनिक जगहो पर गंदगी का साम्राज्य फैला रहता हैै, लेकिन ना तो ग्राम प्रधान को दिखाई देता है ना ही सफाई कर्मचारियो को। बिकना रोड पर अमोई नई बस्ती के पास महीनो से नाली जाम होने से सड़क पर पानी जमा हैै। उसी रास्ते से सफाई कर्मी प्रतिदिन जा रहे है ग्राम प्रधान के घर हाजिरी लगाने के लिये, लेकिन इनको जाम नाली दिखाई नही दे रही है। जिस वजह से आये दिन लोग गिरकर चोटिल हो रहे है।  मार्च से छोटे बच्चो का स्कूल भी खुलने वाला है। अब उस जमे गंदे पानी से उन स्कूली बच्चो को गिरते पड़ते गुजरना होगा। समुचित व्यवस्था ब्लाक अधिकारियो को करानी चाहिये जो सिर्फ सफाई कर्मचारियो से हाजिरी लगवाकर हर महीने शासन को मास्टर रोल भेज कर तनख्वाह दिलवा रहे है।

Related posts

Mirzapur : अवैध शराब बनाने वालों के विरुद्ध कार्यवाही

Khula Sach

यूनिवर्सिटी लिविंग का सोशल स्कॉलरशिप्स प्रोग्राम, विद्यार्थियों को मिलेगी 5000 यूरो की छात्रवृत्ति

Khula Sach

एनडीएमसी विकास में क्यों भेदभाव करती है ?

Khula Sach

Leave a Comment