Khula Sach
खेलताज़ा खबर

आईएनएफएस का बिगिनर्स के लिए ऑनलाइन बैंडमिंटन कोर्स

मुंबई : देश के सबसे बड़े फिटनेस सर्टिफिकेशन इंस्टीट्यूट्स में से एक इंस्टीट्यूट ऑफ न्यूट्रिशन एंड फिटनेस साइंसेज (आईएनएफएस) ने नाटेकर स्पोर्ट्स और फिटनेस के साथ मिलकर बैडमिंटन के लिए एक संरचित ऑनलाइन कोचिंग प्रोग्राम शुरू करने की तैयारी की है। भारत में डिजिटल रूप से सक्षम खेल क्रांति लाने के उद्देश्य से, डिजिटल कोर्स में प्रोफेशनल कोचिंग सभी के लिए सुलभ बनाई जाएगी। बिगिनर्स को अनुभवी कोचों के अनुभव और ज्ञान से काफी कुछ सीखने को मिलेगा और वे अपने खेल में सुधार कर सकेंगे। कोर्स के लिए एनरोलमेंट 22 दिसंबर से शुरू हुआ है।

डिजिटल कोर्स के लिए नामांकन करने पर छात्र एक ऑनलाइन डैशबोर्ड का उपयोग कर सकेंगे, जहां वे लगातार आठ हफ्तों तक आठ अलग-अलग मॉड्यूल देखेंगे। कोर्स को इस तरह डिज़ाइन किया गया है कि यह बिगिनर्स को वीडियो और लिखित सामग्री की मदद से अपने खेल कौशल को सुधारने में मदद करेगा। मॉड्यूल में खेल के बारे में व्यापक ज्ञान, आवश्यक उपकरण, वार्म-अप और बुनियादी मूवमेंट ड्रिल्स, एडवांस मूवमेंट स्किल्स, गेमप्ले प्लान, रिकवरी और हाइड्रेशन टिप्स सहित अन्य चीजें शामिल हैं।

आईएनएफएस की संस्थापक सुश्री ज्योति डबास ने कहा, “हम आईएनएफएस में उत्साही लोगों को फिटनेस और खेल शिक्षा प्रदान करने में विश्वास करते हैं। जब हमने ऑनलाइन स्पोर्ट्स कोर्स शुरू करने के बारे में सोचा, तो हमें पता था कि इसे अपने काम में सर्वश्रेष्ठ होना होगा, तभी यह कारगर रहेगा। तब हमने एनएसएफ (NSF) को साथ में जोड़ा। अंतरराष्ट्रीय बैडमिंटन कोच जोस जॉर्ज द्वारा प्रस्तुत डिजिटल कोर्स का लाभ यह है कि प्रतिभागियों को अपनी गति से खेल सीखने की स्वतंत्रता है।“

भारत के पूर्व नंबर-1 टेनिस खिलाड़ी गौरव नाटेकर ने कहा, “हम भारत में अधिक से अधिक लोगों को खेल सीखने में मदद करने के लिए इस अनूठी और अभिनव पहल के लिए आईएनएफएस के साथ भागीदारी करने को लेकर उत्साहित हैं। एनएसएफ में हमारा मानना है कि हमेशा ‘एक उद्देश्य के साथ लाभ’ होना चाहिए और इस प्रयास के माध्यम से हम उन लाखों भारतीयों तक पहुंचने की उम्मीद करते हैं, जो खेल सीखना चाहते हैं, लेकिन उनके पास उचित कोचिंग और मार्गदर्शन नहीं है।”

Related posts

Mirzapur : सड़क हादसे में श्रमिक व बाइक सवार गम्भीर रूप से घायल, ट्रैक्टर ट्रॉली से दबकर ड्राइवर की मौत

Khula Sach

आ गयी आप सभी की चहेती, अनिता भाबी! सूरत नई पर सीरत वही!

Khula Sach

Mirzapur : प्रदेश की लड़कियां स्कूल कालेज सड़कों के साथ अस्पताल में भी सुरक्षित नहीं – आयुष प्रियदर्शी

Khula Sach

Leave a Comment