Khula Sach
अन्यकारोबारताज़ा खबर

अमेज़न (Amazon) एसएमबी (SMB) इम्पैक्ट रिपोर्ट ने कोविड-19 के बावजूद भारतीय स्मॉल एंड मीडियम बिजनेसद्वारा हासिल की गई सफलता को दर्शाया

  • भारत में अमेज़न के साथ 10 लाख से अधिक एसएमबी (SMBs) काम करते हैं, जिनमें सेलर्स, डिलीवरी और लॉजिस्टिक्स पार्टनर्स, नेबरहुड स्टोर्स, एंटरप्राइजेज, डेवलपर्स, कन्टेंट क्रिएटर्स और लेखक शामिल हैं।
  • 4,152 भारतीय सेलर्स ने 2020 में सेल्स में 1 करोड़ रुपये को पार किया; करोड़पति सेलर्स की संख्या में 29% की साल-दर-साल वृद्धि हुई।
  • पूरे भारत से 14,000 से अधिक पिनकोड से अमेज़न डॉट इन (Amazon.in) पर 7 लाख से अधिक सेलर्स मौजूद।
  • 1.5 लाख नये सेलर्स अमेज़न डॉट इन (Amazon.in) से जुड़े; हिंदी और तमिल में 50,000 से अधिक ने रजिस्ट्रेशन कराया।
  • अमेज़न बिजनेस (Amazon Business) मार्केटप्लेस ने सेल्स में 85% साल-दर-साल की वृद्धि दर्ज की।
  • अमेज़न ग्लोबल सेलिंग (Amazon Global Selling) पर 70,000 से अधिक भारतीय एक्सपोटर्स ने कुम्यूलेटिव ई-कॉमर्स एक्सपोर्ट्स में 2 बिलियन अमरीकी डॉलर को पार कर लिया।
  • केडीपी (KDP) पर भारतीय लेखक – अमेज़न की स्वयं-प्रकाशन सेवा ने 45 करोड़ से अधिक की आय प्राप्त की जो साल-दर-साल में दोगुना से अधिक है।
  • भारत के 1 लाख से अधिक डेवलपर वैश्विक स्तर पर एलेक्सा (Alexa) के लिए निर्माण कर रहे हैं।

बेंगलुरू : आज Amazon.in ने 2020 स्मॉल एंड मीडियम बिजनेस (SMB) इम्पैक्ट रिपोर्ट प्रकाशित की, जिसमें बताया गया है कि सेलर्स, डिलीवरी और लॉजिस्टिक्स पार्टनर्स, नेबरहुड स्टोर्स, एंटरप्राइजेज, डेवलपर्स, कन्टेंट क्रिएटर्स और भारत के लेखकों सहित कंपनी10 लाख से अधिक एसएमबी (SMB) को लाभ कैसे पहुंचाती है। बदले में ये एसएमबी (SMB) लाखों लोगों को आजीविका प्रदान करते हैं। रिपोर्ट में अमेज़न के साथ काम करने वाले एसएमबी द्वारा हासिल की गई कुछ प्रमुख उपलब्धियों के बारे में बताती है और सभी सेक्टर्स में एन्टरप्रेन्योर्स और बिजनेस पर डिजिटलीकरण के प्रभाव को विशेष रूप से दर्शाती है।

अमित अग्रवाल, सीनियर वीपी और कंट्री हेड – अमेजन इंडिया, ने कहा कि “भारत में अमेज़न से जुड़े 10 लाख से अधिक छोटे बिजनेस को देखना हमें विनम्र बनाता है। यह वर्ष अभूतपूर्व रहा है और इसने हमारे काम करने और जीवन जीने के तरीके पर असर डाला है। फिर भी, हम चुनौतियों से उबरने और विकसित होने के लिए बिजनेस, क्रिएटर्स, लेखकों आदि की उद्यमशीलता की भावना, रचनात्मकता, संकल्प और हम पर किया गया भरोसा हमें हमेशा प्रेरित करता है। एसएमबी को विस्तारित पहुंच प्रदान करने और अवसरों की पेशकश करने में टेक्नोलॉजी और डिजिटलीकरण की भूमिका बनी रहेगी, और हम एसएमबी (SMBs) में निवेश करने और उनकी सफलता में साझेदारी करने के लिए प्रतिबद्ध हैं।

मनीष तिवारी, वीपी – अमेज़न इंडिया ने कहा, “चाहे अपनी जरूरत की चीजों को खरीदना हों, प्राइम वीडियो और किंडल से डिजिटल सामग्री का उपभोग करना हो, अपनी रोजमर्रा की ज़िन्दगी में एलेक्सा (Alexa) का उपयोग करना हो, यह देखना सुखद है कि पिछले साल में पूरे भारत में उपभोक्ताओं ने अमेज़न के साथ कैसे काम किया है। इस चुनौतीपूर्ण वर्ष के माध्यम से, हमने अपने एसएमबी (SMB) पार्टनर्स की मदद करने के लिए कई इनोवेशन और उपाय बताये ताकि वे ग्राहकों की सेवा कर सकें, और यह अमेज़न में ग्राहकों का विश्वास और जुड़ाव है जो इस रिपोर्ट में शामिल लाखों एन्टरप्रेन्योर्स, छोटे बिजनेस और कन्टेंट क्रिएटर्स की सफलता में दिखता है।”

इस साल की शुरुआत में, अमेज़न ने 10 मिलियन एसएमबी (SMBs) को डिजिटाइज़ करने के लिए 1 बिलियन अमरीकी डॉलर का निवेश करने, 10 बिलियन अमरीकी डॉलर के ई-कॉमर्स एक्सपोर्ट्स को सक्षम करने और 2025 तक 1 मिलियन इन्क्रिमेंटल रोज़गार निर्माण करने का वादा किया था।

एसएमबी इम्पैक्ट रिपोर्ट 2020 की मुख्य बातें

एसएमबी इम्पैक्ट रिपोर्ट 2020 भारत में अमेज़न के साथ काम करने वाले 10 लाख से अधिक स्मॉल और मीडियम बिजनेस की सफलता को लेकर अंतर्दृष्टि प्रदान करता है। अमेज़न उन्हें Amazon.in पर अपने प्रॉडक्ट्स की ऑनलाइन सेलिंग करके अपने बिजनेस को बनाने और विकसित करने के विभिन्न अवसर प्रदान करता है, जिसमें विश्व स्तर पर ‘मेड इन इंडिया’ प्रॉडक्ट्स का निर्यात करना, डिलीवरी और लॉजिस्टिक्स कंपनियों को चलाना, अपने बिजनेस को लॉन्च करने और बड़े पैमाने पर ले जाने के लिए क्लाउड का उपयोग करना और वॉयस ऐप बनाना, या अपनी स्वयं की पुस्तकें प्रकाशित करना।

Amazon.in पर भारतीय बिजनेस बढ़ते जा रहे हैं
– 4,152 भारतीय सेलर्स ने 2020 में सेल्स में 1 करोड़ रुपये को पार किया; करोड़पति सेलर्स की संख्या में 29% की साल-दर-साल वृद्धि हुई।
– अमेज़न लॉन्चपैड पर उभरते ब्रांड्स ने अपने बिजनेस को 135% तक बढ़ाया; सहेली प्रोग्राम के तहत महिला एंटरप्रेन्योर्स ने देखा कि उनका बिजनेस लगभग 15 गुना बढ़ गया है; और कारीगर प्रोग्राम के बुनकरों और कारीगरों ने अपने बिजनेस में 2.8 गुना वृद्धि देखी
o अमेज़न ग्रेट इंडियन फेस्टिवल के दौरान, भारत भर में 6,542 पिन-कोड के 1,24,000 से अधिक सेलर्स को आर्डर मिला
 66,000 से अधिक सेलर्स को अब तक का सबसे बड़ा सिंगल डे ऑर्डर मिला।

अमेज़न के बी2बी मार्केटप्लेस ने सेल्स में 85% साल-दर-साल वृद्धि दर्ज की।
– 2020 में मासिक ऑर्डर वॉल्यूम में 64% की बढ़ोतरी हुई है।
– बी2बी मार्केटप्लेस पर 3.7 लाख से अधिक सेलर्स 20 करोड़ से अधिक जीएसटी-इनेबल्ड प्रॉडक्ट्स उपलब्ध।

अमेज़न ग्लोबल सेलिंग (Amazon Global Selling) प्रोग्राम लोकल को वोकल बनाने में मदद कर रहा है।
– अब दुनिया भर में 15 अंतर्राष्ट्रीय अमेज़न वेबसाइटों पर लाखों ‘मेड इन इंडिया’ प्रॉडक्ट्स की सेलिंग करने वाले 70,000 से अधिक भारतीय एक्सपोर्टर्स मौजूद हैं।
– प्रोग्राम में भारतीय एसएमबी और ब्रांड ने 15000 करोड़ रुपये से अधिक का कुम्यूलेटिव एक्सपोर्ट्स कर लिया है; 2019 में, ग्लोबल सेलिंग पर 800 से अधिक भारतीय छोटे बिजनेस ने 1 करोड़ रुपये की सेल्स को पार कर लिया।
– विश्व स्तर पर वार्षिक ब्लैक फ्राइडे, साइबर मंडे की सेल के दौरान, अमेज़न ग्लोबल सेलिंग (Amazon Global Selling) पर भारतीय एक्सपोर्टर्स ने सेल्स में 50% से अधिक की वृद्धि दर्ज की।
o भारतीय सेलर्स ने उत्तरी अमेरिका, यूरोपीय यूनियन, मिडिल-ईस्ट और उत्तरी अफ्रीका में मांग में लगभग 3गुना की वृद्धि दर्ज की।

केडीपी (KDP) भारतीय लेखकों को कई भाषाओं में स्व-प्रकाशन करने और दुनिया भर में लाखों पाठकों तक पहुंचने में सक्षम बनाता है।
– 30 नवंबर, 2020 को समाप्त होने वाले वर्ष में, भारतीय लेखकों ने कुम्यूलेटिव रूप से केडीपी पर प्रकाशित पुस्तकों के माध्यम से 45 करोड़ रुपये से अधिक की कमाई की, जो साल-दर-साल 2गुना से अधिक है।
– 30 नवंबर, 2020 को समाप्त होने वाले वर्ष में सैकड़ों स्वतंत्र लेखकों में से प्रत्येक ने 1 लाख से अधिक की रॉयल्टी हासिल की है

अमेज़न, डिलीवरी और लॉजिस्टिक्स प्रोग्राम के जरिये अपना बिजनेस बनाने के लिए नये अवसर पैदा कर रहा है।
– लगभग 280 डिलीवरी सर्विस पार्टनर हैं जो 750 शहरों में 1500 से अधिक स्टेशन संचालित कर रहे हैं।
– देशभर में ग्राहकों को पैकेज की डिलीवरी सुनिश्चित करने के लिए अमेजन इंडिया के मिडिल माइल नेटवर्क से करीब 240 ट्रकिंग पार्टनर जुड़े हुए हैं।
– आई हैव स्पेस प्रोग्राम के माध्यम से 350 से अधिक शहरों में 28,000 से अधिक नेबरहुड स्टोर लास्ट-माइल डिलीवरी देते हैंऔर औसत रूप से 12,000 – 15,000 रुपये प्रति माह की सप्लिमेंटल इन्कम करते हैं।

अमेज़न ईज़ी (Amazon Easy) नये-ई-कॉमर्स ग्राहकों के लिए खरीदारी में मदद करता है। भारत भर में 55,000 से अधिक स्थानीय स्टोर आज अमेज़न ईज़ी से जुड़े हैं।
– 2020 में अमेज़ॅन ईज़ी के साथ जुड़े नए स्टोर्स में 565% की साल-दर-साल वृद्धि।
– गैर-मेट्रो शहरों में 45,500 से अधिक अमेज़ॅन ईज़ी स्टोर्स लॉन्च किये गये।
– उत्तर प्रदेश में अमेज़न ईज़ी से जुड़े 11,567 स्टोर हैं, इसके बाद पश्चिम बंगाल में 4,263 और महाराष्ट्र मं0 3,887 हैं।

एलेक्सा SMB बिल्डरों, डेवलपर्स और एंटरप्रेन्योर्स को वॉयस-फर्स्ट कसटमर एक्स्पीरियंस प्राप्त करने में सक्षम बनाता है।
– विश्व स्तर पर एलेक्सा के लिए काम करने वाले भारत के 1 लाख से अधिक डेवलपर हैं, जिन्होंने एलेक्सा स्किल्स किट के लिए 30,000 से अधिक स्किल्स का निर्माण किया है।
– अमेज़न एलेक्सा के साथ तालमेल रखने वाले हजारों स्मार्ट होम डिवाइस, और 100 से अधिक एलेक्सा बिल्ट-इन डिवाइस हैं जैसे स्मार्ट स्पीकर, फिटनेस ट्रैकर, और स्मार्ट टीवी।

अमेज़न वेब सीरीज़ (AWS) भारत में लाखों सक्रिय ग्राहकों को अपना बिजनेस शुरू करने और उसे बड़े पैमाने पर लाने में मदद कर रहा है।
– जून 2019 से, अमेज़न ने स्टार्टअप्स को अपनी प्रगति और विकास में तेजी लाने में मदद करने के लिए एडब्ल्यूएस क्रेडिट्स में 1 बिलियन अमरीकी डालर से अधिक प्रदान किये हैं।
– भारत में, एडब्ल्यूएस सैकड़ों सक्रिय ग्राहकों के साथ काम करती है।

एसएमबी इम्पैक्ट रिपोर्ट 2020 के एक हिस्से के रूप में, Amazon.in ने शीर्ष 10 राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों में अधिकतम सेलर्स के साथ काम किया है, और 110,000 से अधिक सेलर्स के साथ; दिल्ली में देश में सबसे ज्यादा Amazon.in सेलर्स हैं, इसके बाद महाराष्ट्र (87,000) और गुजरात (79,000) आता है।

Related posts

Mirzapur : स्वीप कार्यक्रम के अन्तर्गत दिव्यांग क्रिकेट प्रतियोगिता का किया गया आयोजन

Khula Sach

पेटीएम ने तीसरी तिमाही में भी जारी रखा वृद्धि का सिलसिला

Khula Sach

जिया साहित्य मंच पर ऑनलाइन राष्ट्रीय काव्य सम्मलेन का शानदार आयोजन- कवियों ने अपनी रचनाओं से बांधा समाँ

Khula Sach

Leave a Comment