Khula Sach
कारोबारताज़ा खबर

क्या आपको रियल एस्टेट क्षेत्र में नए और अनूठे निवेश अवसरों की तलाश है? तो इन विकल्‍पों पर जरूर विचार करें

✍️  अनपू भार्गव, डायरेक्टर और सीईओ, एम्‍पायर सेंट्रम

मुंबई : निवेश के मामले में रियल एस्टेट लंबे समय से शीर्ष पर रहा है। इसमें लोगों को स्थिरता के साथ आय और पूंजी में वृद्धि के लाभ मिलते हैं। हालांकि, लगातार विकसित होते बाजार और निवेशकों की बदलती प्राथमिकताओं के साथ, रियल एस्टेट क्षेत्र में नए अवसरों की तलाश निरंतर बनी हुई है। जहां पारंपरिक विकल्प अभी भी लाभ दे रहा है, वहीं बुद्धिमान निवेशक तेजी से ऐसे अनूठे विकल्पों की तलाश कर रहे हैं, जिसमें वित्तीय रिटर्न के साथ रणनीतिक विविधीकरण का लाभ भी शामिल हो। यहां, हम रियल एस्टेट क्षेत्र में निवेश के उन कई नए अवसरों पर गौर करेंगे, जिन पर विचार किया जा सकता है।

को-लिविंग स्पेसेस: शहरीकरण के बढ़ने और जीवनशैली में बदलाव के साथ, लचीले और समुदाय-आधारित निवास वाले जगहों की मांग बढ़ रही है। को-लिविंग स्पेस साझा सुविधाओं और सामुदायिक क्षेत्रों के साथ पूरी तरह से तैयार घर मुहैया कराकर इस मांग को पूरा करते हैं। निवेशक को-लिविंग डेवलपमेंट्स या ऐसे प्लेटफार्म्‍स में निवेश करके इस ट्रेंड का लाभ उठा सकते हैं, जो ऐसी संपत्तियों के आंशिक स्वामित्व की सुविधा प्रदान करते हैं। पारंपरिक आवासीय अचल संपत्ति से परे, को-लिविंग स्‍पेसेस आकर्षक किराया और पूंजी में वृद्धि की संभावना प्रदान करते हैं, जो मिलेनियल्स और युवा पेशेवरों के बीच एक्सपेरिमेंटल लिविंग अरेंजमेंट्स के प्रति बढ़ती प्राथमिकता से प्रेरित है।

व्यावसायिक दुकान: व्यावसायिक दुकान में निवेश करने से स्थिरता और विकास की संभावना मिलती है। खुदरा दुकानों और रेस्तरां जैसे विश्वसनीय किरायेदारों के साथ, वाणिज्यिक संपत्तियां लगातार किराये से होने वाले आय की सुविधा देती हैं। व्यस्त वाणिज्यिक जगहों में प्रमुख स्थान अधिक संख्या में लोगों के आने की संभावना से भरे होते हैं, जिससे किराये में वृद्धि और संपत्ति के मूल्य में इजाफा होता है। आवासीय संपत्तियों के विपरीत, वाणिज्यिक पट्टे आम तौर पर दीर्घकालिक स्थिरता प्रदान करते हैं, जिससे वाणिज्यिक दुकानें अप्रत्‍यक्ष रूप से आमदनी करने और दीर्घकालिक पूंजी निर्माण के लिए एक आकर्षक अवसर बन जाती हैं।

इंडस्ट्रियल यूनिट्स: ई-कॉमर्स, एमएसएमई और आपूर्ति श्रृंखला वैश्वीकरण की तेज वृद्धि ने टियर 2 और टियर 3 शहरों में औद्योगिक इकाइयों की मांग में इजाफा किया है। औद्योगिक अचल संपत्ति में निवेश, विशेष रूप से रणनीतिक रूप से स्थित औद्योगिक केंद्रों और पूर्ति केंद्रों में, ई-कॉमर्स बूम को भुनाने का एक आकर्षक अवसर देता है। इन संपत्तियों में अक्सर साख योग्य किरायेदारों के साथ दीर्घकालिक पट्टे, स्थिर नकदी प्रवाह और ई-कॉमर्स दिग्गजों और थर्ड पार्टी लॉजिस्टिक्स प्रदाताओं के तेजी से विस्तार से प्रेरित पूंजी वृद्धि की संभावना होती है। आधुनिक कॉमर्स की बुनियाद के रूप में, औद्योगिक वेयरहाउसिंग निवेशकों को निरंतर विकास और इनोवेशन के लिए तैयार क्षेत्र में निवेश की सुविधा देता है।

ग्रीन रियल एस्टेट: स्थिरता और पर्यावरण के प्रति जागरूकता तेजी से रियल एस्टेट निवेश निर्णयों को प्रभावित कर रही है। ग्रीन रियल एस्टेट में पर्यावरणीय स्थिरता, ऊर्जा दक्षता और संसाधन संरक्षण पर ध्यान देने के साथ डिजाइन और संचालित संपत्तियां शामिल हैं। ग्रीन रियल एस्टेस में निवेश न केवल नैतिक और पर्यावरणीय विचारों के मुताबिक है, बल्कि कम परिचालन लागत, बढ़ी हुई संपत्ति मूल्य और पर्यावरण के प्रति जागरूक किरायेदारों के लिए आकर्षण जैसे वित्तीय लाभ भी प्रदान करता है। नियामक प्रोत्साहनों, बढ़ती उपभोक्ता जागरूकता और कार्बन फुटप्रिंट में कमी की अनिवार्यता के साथ, ग्रीन रियल एस्टेट एक आकर्षक निवेश अवसर लेकर आता है, जो वित्तीय रिटर्न के साथ सामाजिक प्रभाव को जोड़ता है।

प्रॉपटेक निवेश: प्रॉपटेक इन्वेस्टमेंट एक प्रमुख उपकरण है जहां कोई व्यक्ति विभिन्न तरीकों से निवेश कर सकता है। वे स्टॉक एक्सचेंज पर सार्वजनिक रूप से कारोबार करने वाली प्रॉपटेक कंपनियों के शेयर खरीद सकते हैं, रियल एस्टेट या प्रौद्योगिकी क्षेत्रों में विशेषज्ञता वाले वेंचर कैपिटल फंड में भाग ले सकते हैं, या क्राउड फंडिंग प्लेटफार्म्‍स के माध्यम से निवेश कर सकते हैं। रियल एस्टेट इन्वेस्टमेंट ट्रस्ट (आरईआईटी) रियल एस्टेट परिसंपत्तियों में निेवेश की पेशकश करते हैं, जिनमें से कुछ में प्रॉपटेक समाधान शामिल हैं। इसके अतिरिक्त, व्यक्तियों के पास निजी प्लेसमेंट या एंजेल निवेश के माध्यम से प्रॉपटेक स्टार्टअप में सीधे निवेश के अवसर हो सकते हैं। निवेश करने से पहले, व्यक्तियों को अपने निवेश लक्ष्यों, जोखिम उठाने की क्षमता का आकलन करना चाहिए और उपलब्ध निवेश अवसरों को लेकर जरूरी जांच पड़ताल करनी चाहिए। किसी वित्तीय सलाहकार से परामर्श इस मामले में बेहद मददगार हो सकता है।

रियल एस्टेट क्षेत्र का विकास जारी रहेगा, जो निवेशकों को पारंपरिक तरीकों से परे अनूठे निवेश के असीमित अवसर प्रदान करता है। को-लिविंग स्पेसेस और मेडिकल रियल एस्टेट से लेकर इंडस्ट्रियल गाला, ग्रीन रियल एस्टेट और आंशिक स्वामित्व प्लेटफार्मों तक, नई सीमाओं का पता लगाने के इच्छुक लोगों के लिए यह परिदृश्य संभावनाओं से भरा हुआ है। निवेशकों के रियल एस्टेट बाजार की जटिलताओं से निपटने के साथ ही इनोवेशन और विविधीकरण को अपनाने से उन संभावनाओं का इस्तेमाल करने का मौका मिल सकता है, जो अभी तक अनछुआ है और आने वाले वर्षों में स्थायी धन सृजन का विकल्प तैयार कर सकता है।

Related posts

ओरिफ्लेम ने द वन ‘लिप स्पा लिप बाम’  पेश किया

Khula Sach

पांडेय बेचन शर्मा ‘उग्र’ का जन्म एवं लेखन

Khula Sach

Varanasi : एक दिवसीय नि:शुल्क परीक्षा तनाव प्रबंधन एवं सफलता के उपाय विषयक कार्यशाला का किया गया आयोजन

Khula Sach

Leave a Comment