Khula Sach
ताज़ा खबरमनोरंजन

Poem : शुचि काव्य में ढलती गई

✍️ शुचि गुप्ता
°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°
नव रूप लेकर मौन अंतस भावना छलती गई।
निर्झर द्रवित उर वेदना शुचि काव्य में ढलती गई।
°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°
सब बंद होते ही गए जो द्वार स्वप्निल थे सुखद।
सम रेणुका फिसले मृदुल क्षण रिक्त हाथों से दुखद।
प्रस्तर प्रहारों से मृदा ये स्वर्ण बन गलती गई।
निर्झर द्रवित उर वेदना शुचि काव्य में ढलती गई।
°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°
अंतर्मुखी व्यक्तित्व की मृदु दीप्ति कोमल कांत सी।
फिर क्रूर झंझावात में वो कँपकपाती क्लांत सी।
संघर्ष से घृत ताप ले वो लौ बनी जलती गई।
निर्झर द्रवित उर वेदना शुचि काव्य में ढलती गई।
°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°
दायित्व पथ एकल बढूं बस धैर्य से मन साध कर।
हो दैव इतना तो सदय विश्वास मम निर्बाध कर।
सद लक्ष्य का संकल्प ले कर्तव्य पथ चलती गई।
निर्झर द्रवित उर वेदना शुचि काव्य में ढलती गई।।

Related posts

नई ऑडी क्यू7 अब भारत में लॉन्च

Khula Sach

Delhi : वरिष्ठ पत्रकार जितेन्द्र बच्चन राष्ट्रवादी विकास पार्टी के राष्ट्रीय सचिव बनाये गए

Khula Sach

Mirzapur : विंध्याचल दर्शन करने आए दर्शनार्थी की हार्ट अटैक होने से हुई मौत

Khula Sach

Leave a Comment