Khula Sach
कारोबारताज़ा खबर

पेटीएम यूपीआई लाइट के यूजर्स की संख्या 2 मिलियन से ज्यादा हुई

मुंबई : भारत के घरेलू पेटीएम पेमेंट्स बैंक ने आज यह घोषणा की है कि पेटीएम यूपीआई लाइट पर अब इसके यूजर्स की संख्या 2 मिलियन से ज्यादा हो गई है। पेटीएम ऐप के माध्यम से बैंक ने पेटीएम यूपीआई लाइट के लिये रोजाना के आधा मिलियन से ज्यादा ट्रांजैक्शंस दर्ज किये हैं, जोकि इसकी बढ़ती लोकप्रियता दिखाते हैं।

पेटीएम यूपीआई लाइट से एक बार क्लिक करने से पेमेंट्स हो जाते हैं, जो कभी फेल नहीं होते है, चाहे बैंकों को ट्रांजैक्शन के पीक आवर्स में सक्सेस रेट की समस्या हो। लोड होने के बाद यूपीआई लाइट के द्वारा यूजर 200 रुपये तक के पेमेंट्स तुरंत कर सकता है और उसका पूरा अनुभव परेशानी से रहित रहता है। यूपीआई लाइट में एक दिन में अधिकतम 2000 रुपये दो बार डाले जा सकते हैं और इस तरह 4000 रुपये तक का डेली यूज हो सकता है।

पेटीएम यूपीआई सफल पेमेंट्स के लिये नवीनतम यूपीआई लाइट टेक्नोलॉजी से पावर्ड है और 3-लेवल बैंक-ग्रेड सुरक्षा देती है। इसके अलावा, यूपीआई लाइट के इस्तेमाल से होने वाले भुगतान पासबुक में नहीं दिखेंगे और यूजर का बैंक स्टेटमेंट आसान रहेगा। यूपीआई लाइट बैलेंस में पैसा डालने पर ही एंट्री होती है।

पेटीएम पेमेंट्स बैंक अग्रणी रेमिटर बैंकों में से एक होने के अलावा सबसे बड़े अधिग्राहक और लाभार्थी बैंक के रूप में यूपीआई में नंबर #1 है। यूपीआई लाइट को लॉन्च करने वाले पहले पेमेंट्स बैंक के तौर पर यह बैंक अपने यूजर्स के लिये टेक्नोलॉजी से संचालित अभिनव समाधान तैयार करने की अपनी परंपरा जारी रखे हुए है और रोजमर्रा के लेन-देन में क्रांति कर रहा है।

पेटीएम यूपीआई लाइट को कैसे सेटअप करें?

  • पेटीएम ऐप खोलें और ‘UPI LITE’ पर क्लिक करें
  • यूपीआई लाइट के लिये योग्य ‘Bank Account’ को चुनें और ‘Proceed’ पर टैप करें
  • ‘Add Money to Activate UPI LITE’ पेज पर यूपीआई लाइट में डाली जाने वाली राशि अंकित करें
  • इसके बाद यूजर्स पेटीएम यूपीआई लाइट का इस्तेमाल शुरू कर सकते हैं

Related posts

सी वार्ड में अवैध निर्माणकर्ताओं के हौसले बुलंद बगैर मनपा परमिशन के अवैध निर्माण किया जा रहा है।

Khula Sach

शिक्षकों द्वारा शिक्षक सम्मान के सरकारी कार्यक्रमों का किया गया बहिष्कार

Khula Sach

Mirzapur : तूल पकड़ता जा रहा है जनता इंटर कॉलेज बरगवां कूबा का मामला

Khula Sach

Leave a Comment