Khula Sach
कारोबारताज़ा खबरमनोरंजन

खंटी-मानसिस्क में आयोजित स्पिरिट ऑफ फायर फिल्म फेस्टिवल में उत्तरी फिल्म उद्योग के विकास की हुई चर्चा

खंटी : मानसिस्क में 3-6 मार्च के दौरान आयोजित हुए स्पिरिट ऑफ फायर फिल्म फेस्टिवल में प्रतिभागियों ने उत्तरी रूस में संजातीय सिनेमा और फिल्म उद्योग के विकास की संभावनाओं पर चर्चा की. व्यापार कार्यक्रम कार्यक्रम 2021-2023 में आर्कटिक परिषद की रूस की अध्यक्षता का हिस्सा थे, जिनका प्रबंधन रोसकांग्रेस फाउंडेशन द्वारा किया जाता है.

रूसी राष्ट्रपति के सलाहकार एवं आर्कटिक परिषद की रूस की अध्यक्षता के लिए आयोजन समिति के कार्यकारी सचिव एंटोन कोबायाकोव ने कहा, “द स्पिरिट ऑफ फायर फेस्टिवल सबसे बड़ी रूसी फिल्म स्क्रीनिंग में से एक है. इस प्रतियोगिता कार्यक्रम में पूरे रूस और अन्य 16 देशों की फिल्में शामिल हैं. फेस्टिवल का एक प्रमुख हिस्सा एक निश्चित जातीय विशिष्टता वाला सिनेमा है. इस साल स्पिरिट ऑफ फायर के पास एक व्यावसायिक मंच था, जहां फिल्म उद्योग में सामयिक मुद्दों पर चर्चा की गई और जातीय सिनेमा सही मायने में व्यावसायिक ब्लॉक के ध्यान का केंद्र बन गया.”

फिल्म महोत्सव का मुख्य लक्ष्य फिल्म उद्योग में उत्तर के मूलनिवासियों की सांस्कृतिक एवं ऐतिहासिक विरासत को बढ़ावा देना था. व्यापार कार्यक्रम में पूर्ण सत्र ‘द सिनेमा ऑफ टुमॉरो: इंडस्ट्री पार्टनरशिप एंड एथ्नोकल्चरल डायवर्सिटी’ और ‘एथनिक सिनेमा विद एन आर्कटिक फ्लेवर’, ए मॉडर्न मिरेकल’, ‘द आर्कटिक: न्यू ऑपर्चुनिटीज फॉर डिस्ट्रीब्यूटिंग एथनिक सिनेमा इन रशिया’, व ‘सिनेमा बियॉन्ड द आर्कटिक सर्कल: एन अर्बन हॉट स्पॉट’ जैसे सत्र शामिल थे, जो उत्तरी रूस और दुनिया भर में जातीय सिनेमा को बढ़ावा देने को लेकर अनुभवों के आदान-प्रदान पर समर्पित था. इसके अलावा, दो कार्यक्रम ‘रूस-इंडिया: ओवरलैपिंग प्वॉइंट्स ऑफ म्यूचुअल इंटरेस्ट’ और ‘रूस-यूएई: प्रोस्पेक्ट्स फॉर को-प्रोडक्शन एंड दी एक्सचेंज ऑफ एक्सपीरियंस इन क्रिएटिंग इंटरनेशनल प्रोजेक्ट्स’ उत्सव के लिए फिल्म संवादों के एक नए प्रारूप में आयोजित हुए, जिनमें भारत और संयुक्त अरब अमीरात के प्रतिनिधि प्रतिनिधिमंडलों ने भाग लिया.

रूसी विदेश मंत्रालय के एंबैसडर-एट-लार्ज एवं आर्कटिक के वरिष्ठ अधिकारियों के अध्यक्ष निकोलाई कोरचुनोव ने कहा, “आर्कटिक में रूस की मुख्य प्राथमिकता इस क्षेत्र का सतत विकास है, जिसमें उत्तर के मूलनिवासियों सहित वहां रहने वाली पूरी आबादी के हितों और जरूरतों पर निरंतर ध्यान दिया जा रहा है. हम आर्कटिक में सहयोग को लेकर गैर-आर्कटिक देशों की दिलचस्पी को देखकर खुश हैं. रूस उच्च अक्षांशों की अपनी नीति में इस बात को ध्यान में रखकर आगे बढ़ता है कि आर्कटिक प्रदेशों का सतत विकास सभी संबंधित पक्षों के बीच संवाद और रचनात्मक सहयोग के आधार पर ही सुनिश्चित किया जा सकता है.”

फेस्टिवल के व्यवसाय कार्यक्रम में एक शैक्षिक प्रयोगशाला और मास्टर कक्षाएं भी शामिल हैं, जिसका उद्देश्य फिल्म उद्योग में रूसी छात्रों के ज्ञान और कौशल का विस्तार करना है.

फेस्टिवल के बिजनेस ब्लॉक के कार्यक्रमों में 700 से अधिक लोगों ने हिस्सा लिया. व्यापार कार्यक्रम के सत्रों में 35 से अधिक वक्ताओं ने बात की. इसके अलावा, मल्टीमीडिया प्रदर्शनी ‘आर्टिस्ट्स इंस्पायर्ड बाय आर्कटिक, आर्टिस्ट्स बॉर्न इन दी नॉर्थ’ के लिए आगंतुकों की संख्या 500 से अधिक रही. यह प्रदर्शनी ऑडियो-विजुअल प्रोजेक्ट ‘सोल ऑफ रशिया: द नॉर्थ” का हिस्सा थी, जिसे रोसकांग्रेस फाउंडेशन के समर्थन के साथ 2021-2023 में रूस की आर्कटिक परिषद की अध्यक्षता से मेल खाने के लिए समयबद्ध किया गया था..

खांटी-मानसी स्वायत्त जिला – युगरा के गवर्नर नताल्या कोमारोवा ने कहा, “व्यावसायिक कार्यक्रम निश्चित तौर पर आधुनिक फिल्म उद्योग के सर्वोत्तम अनुभव का अध्ययन करने के लिए एक नया संचार मंच प्रदान करता है. इस साल, हमने भारत के साथ फिल्म संवाद पर बहुत जोर दिया, जो फिल्म निर्माण के लिए क्षेत्र के अवसरों का विस्तार करेगा, फिल्म परियोजनाओं का समर्थन करने के लिए एक प्रणाली तैयार करेगा और युवा प्रतिभाओं के विकास का समर्थन करेगा.”

व्यापार कार्यक्रम के पांच सत्रों और दो फिल्म संवादों को 3.5 मिलियन से अधिक बार देखा गया और लगभग 70,000 लोगों ने उत्सव के VKontakte पेज पर पोस्टों को पढ़ा. टेलीग्राम पोस्ट 500,000 से अधिक लोगों तक पहुंचे. सोशल नेटवर्क VKontakte फिल्म समारोह की घटनाओं के प्रसारण के पार्टनर थे.

रूस 2021-2023 में आर्कटिक परिषद का अध्यक्ष है. रूस की मुख्य प्राथमिकताओं में उत्तर के मूलनिवासियों सहित क्षेत्र में मानव पूंजी का विकास करना है. रूस उत्तर के लोगों की स्थिरता और व्यवहार्यता को बनाए रखने, उन्हें जलवायु परिवर्तन के अनुकूल बनाने के उपायों को बढ़ावा देने, लोगों की भलाई, स्वास्थ्य, शिक्षा और जीवन की गुणवत्ता में सुधार करने तथा पूरे क्षेत्र में सतत सामाजिक आर्थिक विकास सुनिश्चित करने पर विशेष ध्यान देता है।.रूसी पक्ष ने उत्तर के मूलनिवासियों की सांस्कृतिक और भाषाई विरासत को डिजिटल बनाने, नवीकरणीय ऊर्जा स्रोतों को विकसित करने, कार्बन मुक्त ऊर्जा पर चलने वाला एक अंतरराष्ट्रीय आर्कटिक अनुसंधान केंद्र बनाने और आर्कटिक में जैव सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए परियोजनाएं शुरू की हैं. इसके अलावा, रूस मूलनिवासियों की पारंपरिक चिकित्सा व आर्कटिक में रचनात्मक उद्योगों के विकास पर मसौदा प्रस्ताव तैयार कर रहा है और आर्कटिक का डिजिटल संग्रहालय बनाने की पहल पर काम कर रहा है.

Related posts

Mirzapur : उत्तर प्रदेश की जनता मुख्यमंत्री के रूप में पुनः योगी आदित्यनाथ को देखना चाहती है – जितेंद्र तिवारी

Khula Sach

Mirzapur : करीब ₹ 2.1 लाख कीमत की चोरी की 35 अदद बैटरी के साथ 3 अभियुक्त गिरफ्तार

Khula Sach

प्रदेश में कोविड टीकाकरण का ग्राफ बढ़ाने पर बनेगी खास रणनीति

Khula Sach

Leave a Comment