Khula Sach
ताज़ा खबरमनोरंजन

Poem : कितना अच्छा होता…

♦ लेखिका, कवियत्री मनीषा झा, विरार, महाराष्ट्र

बचपन के वो दिन काश लौट आते तो कितना अच्छा होता।
बीते हुए पल फिर से जी पाते तो कितना अच्छा होता।।

पहले के जैसे सब एक समान होते तो एक दूजे के साथ होते।
मिट्टी के खिलौने से बच्चे खुश हो जाते कितना अच्छा होता।।

नफरत की आंधियाँ सी थम जाती प्यार की हवाएं बहने लगती।
हर तरफ काश प्यार ही प्यार होता तो कितना अच्छा होता।।

हर रिश्ते में विश्वास होता एक अटूट प्यार का बंधन होता।
सब सुख-दुख में एक दूजे के साथ होते तो कितना अच्छा होता।।

ना किसी को अपनी अमीरी का घमंड होता न गरीबी का दुख:।
हर एक दूसरे को सम्मान देते तो कितना अच्छा होता।।

खुशी के पल फिर से जी पाते अपनो से जब चाहें मिल पाते।
किसी को खोने का कभी गम नही होता तो कितना अच्छा होता।।

सबको दो वक्त की रोटी नसीब होती न कोई प्यासे सोता।
न किसी को भूख से तड़पना होता तो कितना अच्छा होता।।

न किसी से कोई बैर होता न कोई साजिश करते।
ना किसी बेगुनाह की खून होती तो कितना अच्छा होता।।

केवल पानी की प्यास होती, लक्ष्य पाने की आश होती।
मेहनत से सब कमाते आगे बढ़ते तो कितना अच्छा होता।।

संघर्ष से ज़िंदगी जीते ना कभी किसी से छल करते।
ईमानदारी की एक दुनियां होती तो कितना अच्छा होता।।

Related posts

Mirzapur : कोरोना महामारी से अनाथ हुए बच्चों का लालन-पालन, शिक्षा दीक्षा होगी मुफ्त : मनोज श्रीवास्तव 

Khula Sach

डॉ मनोज तिवारी को विश्व पुस्तक मेला, दिल्ली में किया गया सम्मानित

Khula Sach

एण्डटीवी के शो ‘हप्पू की उलटन पलटन‘ में दिखा क्रिसमस का जबर्दस्त जोश

Khula Sach

Leave a Comment