Khula Sach
अन्य कारोबार ताज़ा खबर

युवाओं का जिम्मेदारी और दवाब से भागना, भारत में ‘द ग्रेट रेजिग्नेशन’ का सबसे बड़ा कारण- अतुल मलिकराम (लेखक व राजनीतिक विश्लेषक)

जिस देश में 5 करोड़ से अधिक युवा बेरोजगार हों, वहां ‘द ग्रेट रेजिग्नेशन’ जैसी प्रवत्ति का तेजी से बढ़ना, काम पर आराम हावी होने का संकेत समझा जा सकता है।

वक़्त आराम का नहीं मिलता, काम भी काम का नहीं मिलता…इन दिनों ज्यादातर वर्किंग क्लास युवाओं की सोच मुज़्तर ख़ैराबादी के इस शेर से वाबस्ता रखती है। भारत में ऐसा माना जाता है कि लोग, विदेशी चीजों को लेकर काफी उत्साहित रहते हैं, और ऐसा साबित तब हो जाता है जब कोई बाहरी मुल्क का सोशल मीडिया कैम्पेन, एक प्रवत्ति बनकर, भारतीय युवाओं के भविष्य का निर्णय लेने लगता है। देश में पिछले दो बरसों से द ग्रेट रेजिग्नेशन का चलन तेजी से बढ़ा है। जिसके बैनर तले अमेरिका में पिछले साल 3.4 करोड़ लोगों ने अपनी नौकरियां छोड़ दी। अब जो पहली दफा इस शब्द का इस्तेमाल देख रहे हैं, उनके लिए तो ये समझना बहुत जरुरी है कि दुनियाभर में कामकाजी या कर्मचारी वर्ग के नौकरी छोड़ने की आदत में अति तीव्र बढ़ोतरी हुई है, और यदि आप भी इसी आदत का शिकार हो चले हैं तो इतना मान लें, खतरा आपके आस-पास ही मंडरा रहा है।

रैंडस्टैड एनवी की एक ताजा सर्वे रिपोर्ट के अनुसार कोविड-19 के बाद से दुनियाभर के कर्मचारी वर्ग की सोच में क्रन्तिकारी बदलाव आया है वो भी नौकरी छोड़ने को लेकर, फिर भारत इससे अछूता रह जाये, ऐसा होना अमावास में चांद दिखने जैसा है। जहां तक इस सर्वे का हिस्सा बनाने वाले भारतीय युवाओं की बात है, उनमें से 63% का मानना है कि वे नौकरी में नाखुश होने के बजाय बेरोजगार होना पसंद करेंगे। जबकि 68% ने माना कि वे नौकरी छोड़ देंगे यदि यह उन्हें अपने जीवन का आनंद लेने से रोक रही होगी। वहीं लगभग आधे यानि 49 फीसदी लोगों ने कहा कि यदि उनकी नौकरी उन्हें जीवन की मौज मस्ती से दूर रखती है तो वह ऐसी नौकरी को अलविदा कहना मंजूर करेंगे। इस सर्वे में भाग लेने वाले लगभग 70% प्रतिभागियों ने इस बात पर भी सहमति जताई कि उनका निजी जीवन उनके कार्य-जीवन से अधिक महत्वपूर्ण है और उनमें से 61% ने कहा कि यदि पैसा कामना ऑब्जेक्ट न हो तो वह कभी काम न करना पसंद करेंगे। फिर जिस देश में 5 करोड़ से अधिक युवा बेरोजगार हों, वहां ‘द ग्रेट रेजिग्नेशन’ जैसी प्रवत्ति का तेजी से बढ़ना, काम पर आराम हावी होने का संकेत समझा जा सकता है।

व्यक्तिगत अनुभव की बात करूँ तो कई सालों पहले मैंने एक बार अपने सेठ से दिवाली की छुट्टी मांगी, उन्होंने बड़ी शालीनता से पूछा, कहां की दिवाली जरुरी है? जहां से तुम्हारा घर चलता है वहां की, या जो घर तुम्हे चलना है वहां की? बात समझ आई की जहां काम कर के हमारी आवश्यकताएं पूरी हो रही है, उस जगह की अहमियत, घर और घरवालों से भी अधिक होती है। बहरहाल ये दशकों पुराना दौर था, जिसकी तुलना आज के दौर से बेशक की जा सकती है लेकिन केवल कुछ विशेष परिस्थितियों में ही। इस सर्वे का ही सहारा लें तो इसमें 95% भागीदारों ने कहा कि बेहतर काम के लिए संतुलित घंटे और कार्यस्थल का माहौल काफी मायने रखते हैं, जबकि 91% ने माना उन्हें ऐसा लगता है कि उनके पास यह विकल्प नहीं है कि उन्हें कहां काम करना है, और प्रत्येक पांच में से दो लोग अपने समय को नियंत्रित न करने की समस्या से जूझते नजर आये हैं। इसके पीछे दो परिदृश्य समझें जा सकते हैं। एक तो कोविड-19 के लगातार घटते मामलों के बीच कंपनियों ने अपने वर्क फ्रॉम होम वाले कर्मचारियों को वापस बुलाना शुरू कर दिया है। अब जो आदत 21 रोज में आपकी निशानी बन जाती है, वो 2 वर्ष पुरानी हो चुकी हो तो उससे बाहर निकल पाना काफी मुश्किल लगता है। हालांकि यह तब मुश्किल नहीं लगता जब जिम्मेदारी और दवाब की महत्ता अच्छे से समझ आती हो।

दूसरा परिदृश्य ये कि कोरोना काल में जागरूकता के साथ वर्क स्पेस भी बड़े पैमाने पर बढ़ा है। डिजिटल दुनिया ने इसमें अहम भूमिका निभाते हुए, काम के दायरे और अवसरों, को बड़ी मात्रा में पेश किया है। जिसने ऐसे लोगों को अधिक प्रभावित किया, जो कोरोना काल में अपनी नौकरी बचा पाने में कामयाब रहे। बेशक कोरोना ने स्वास्थ्य या परिवार कल्याण को प्राथमिकता देने के बारे में सीख दी है, लेकिन इसी सीख ने अधिकतम युवाओं के भीतर कम सहनशील, अधिक बेचैन और समय से पूर्व सब हासिल कर लेने की अवधारणा को भी जन्म दिया है। जो वर्तमान समय के लिहाज से तो सही प्रतीत होती है लेकिन भविष्य के परिदृश्य से अभिशाप समान नजर आती है। यदि आप काम के साथ जीवन का आनंद लेना सीख जाते हैं तो यह इस कलयुग की सबसे बड़ी सीख साबित हो सकती है। काम में आनंद लेना और आंनद से काम करना, तब और आसान हो जाता है, जब आप अपने कौशल को लगातार बढ़ाने पर केंद्रित रहते हैं। फिर आपके पास बेहतर काम के आधार पर खुद को किसी और जगह आजमाने का कॉन्फिडेंस आता है लेकिन वहीं आप हल्की-फुल्की नोंक-झोक, सीनियर्स की डांट या ऐसे किसी अन्य कारण से नौकरी छोड़ते हैं तो आपका एक फिक्स दायरे तक ही सीमित रहना निश्चित है।

Related posts

माँ की ममता : माँ तू महान है तुझे भी जीने का अधिकार है

Khula Sach

सिने फ़लक पे उभरता सितारा शांतनु भामरे

Khula Sach

Mirzapur : कांग्रेस संगठन सृजन अभियान भाग 2 की बैठक सम्पन्न

Khula Sach

Leave a Comment