Khula Sach
अन्य ताज़ा खबर मनोरंजन

Poem : “मेरी गौरेया”

✍️ प्रतिभा दुबे (स्वतंत्र लेखिका), ग्वालियर, मध्य प्रदेश

मेरी छोटी सी गौरेया
रोज सबेरे आती है वो,
ची ची करके दाना मांगे
मोहक शोर मचाती है।।

चहचहाट से उसकी रोज़
पूरा घर जीवित हो उठता है ,
प्यारी सी बोली से वो सबके
मन को बहुत लुभाती है ।।

छत पर अपनी मैं रखती हूं
पानी भरा सकोरा निश दिन,
मेरी प्यारी सी गौरेया उसमें
फुदक फुदक कर नहाती है।।

दाना पानी खाकर बस वो
फिर फुर करके उड़ जाती है,
मेरी प्यारी सी गौरेया घर मेरे
रोज सुबह सबेरे आती है।।

मेरा यही निवेदन है सबसे
हर घर में संदेश ये पहुंचना है,
छोटी सी गौरेया को हमको
तपती इस गर्मी में बचाना है।।

Related posts

बुंदेली शेफ : अब देश चखेगा बुंदेली महिलाओं के हाथ का स्वाद, जल्द बुंदेलखंड ट्रूपल पर

Khula Sach

पॉजिटिव नोट पर बंद हुए सूचकांक

Khula Sach

Hordoi : कोरोना मरीजों की मदद के लिए शिवम द्विवेदी ने उत्तर प्रदेश के सभी जनपदों के लिए जारी किया अपना ही वीआईपी हेल्पलाइन नंबर

Khula Sach

Leave a Comment