Khula Sach
कारोबार ताज़ा खबर देश-विदेश

12 से 15 साल के बच्चों के टीकाकरण के लिए ‘कोर्बेवैक्स’ वैक्सीन के 30 करोड़ डोज तैयार

~ बायोलॉजिकल ई. लिमिटेड की सालाना 1 बिलियन वैक्सीन डोज की उत्पादन क्षमता 

मुंबई : बायोलॉजिकल ई. लिमिटेड ने राष्ट्रीय टीकाकरण दिवस के अवसर पर देश को कोविड-19 से बचाने के लिए सरकार के प्रयासों में मदद करते हुए 12 से 15 साल के बच्चों के टीकाकरण के पहले चरण के लिए अपनी वैक्सीन कोर्बेवैक्सटीएम के साथ बिल्कुल तैयार है। भारत सरकार से की गई प्रतिबद्धता के तहत 30 करोड़ वैक्सीन की डोज का उत्पादन किया गया है।

बायोलॉजिकल ई-लिमिटेड ने कोर्बेवैक्स TM वैक्सीन बनाने के लिए टेक्सास में बच्चों के अस्पताल और बेलर कॉलेज के साथ साझेदारी की है। अमेरिका द्वारा समर्थित डायनावैक्स इंक ने कोर्बेवैक्स TM के वैक्सीन के निर्माण में सहायक औषधि प्रदान की है। समग्र रूप से क्लिनिकल ट्रायल विकास योजना के तहत दिल्ली के ट्रांसलेशनल हेल्थ साइंस एंड टेक्नोलॉजी इंस्टिट्यूट (टीएचएसटीआइ) ने इस वैक्सीन की रोग प्रतिरोधक क्षमता का प्रमुख रूप से परीक्षण किया है।

बायोटेक्नोलॉजी विभाग के एक प्रभाग, बीआईआरएसी, बिल एंड मेलिंडा गेट्स फाउंडेशन और कोएलेशन फॉर एपिडेमिक प्रिवेंशन एंड प्रोटेक्शन (सीईपीआई) ने इस वैक्सीन के क्लिनिकल विकास के लिए आंशिक रूप से फंड उपलब्ध करवाया। कोबर्वेक्स TM रिकॉम्बिनेंट प्रोटीन सब यूनिट वैक्सीन है। इसे 12 से 18 साल के बच्चों और 18 से 80 साल के वयस्कों को लगाया जाता है। कोर्बेवैक्स TM को मांसपेशियों में लगाया जाता हैं। 28 दिन के अंतर पर इसकी 2 डोज दी जाती हैं। इसे 2 से 8 डिग्री सेल्यियस पर सुरक्षित रखा जाता है।

बायोलॉजिकल ई-लिमिटेड ने अनुकूल क्लिनिकल साक्ष्यों और विशेषज्ञों की समीक्षा के आधार पर मंजूरी मिलने के बाद स्टॉक रखने के लिए कोर्बेवैक्स TM वैक्सीन का निर्माण किया। हैदराबाद में बायोल़ॉजिकल ई-लिमिटेड के कई प्लांट वैक्सीन का उत्पादन कर रहे हैं और आगे भी वैक्सीन बनाते रहेंगे। यह ग्रुप देश भर में अपनी सशक्त मौजूदगी का फायदा उठाएगा। बायोलॉजिकल ई-लिमिटेड कोविड-19 की वैक्सीन कार्बोवैक्स TM की बिना किसी रोकटोक के सप्लाई सुनिश्चित करने में कोई कसर नहीं छोड़ रहा है। इसके लिए कंपनी ने राज्य सरकारों, अस्पताल और मेडिकल संस्थानों के साथ साझेदारी की है।

बायोलॉजिकल ई. लिमिटेड की प्रबंध निदेशक महिमा दातला ने इस अवसर पर कहा, “जब पूरा देश 12 से 15 साल तक के बच्चों के लिए टीकाकरण अभियान के नए चरण की शुरुआत करने की बेसब्री से प्रतीक्षा कर रहा है। बायोलॉजिकल ई. लिमिटेड अपनी कोर्बेवैक्स TM वैक्सीन के माध्यम से कोविड-19 से जंग में भारत सरकार के इस साहसिक अभियान में सहयोग प्रदान कर अपने को सौभाग्यशाली महसूस कर रहा है। हम अपने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बहुत आभारी है, जिन्होंने कोरोना वायरस के खिलाफ जंग में हमें शामिल होने का अवसर दिया।”

सार्स कोव2 ने थोड़े ही समय में अपने कई रूप बदले हैं। क्लिनिकल परीक्षण में कोर्बेवैक्स TM ने सार्स कोव2 के पुराने स्ट्रेन के खिलाफ रोग प्रतिरोधक क्षमता का प्रदर्शन किया है। कोरोना वायरस के दूसरे चिंताजनक वैरिएंट्स, जैसे बीटा, डेल्टा और ओमिक्रॉन के खिलाफ भी यह बेहद प्रभावी है। भारत में कोविड-19 के खिलाफ जंग में कारगर वैक्सीन का उत्पादन बढ़ाने के प्रयास के लिए मैं अपनी समर्पित टीम का बेहद आभारी हूं। हमारी टीम ने कोर्बेवैक्स TM वैक्सीन को विकसित करने के लिए अथक परिश्रम किया। यह उन्हीं प्रयासों की नतीजा है कि अब यह वैक्सीन तैयार हो चुकी है।

बायोलॉजिकल ई. लिमिटेड समुदायों और सभी लोगों की किफायती स्वास्थ्य रक्षा सुविधाओं तक पहुंच उपलब्ध कराने के लिए लगातार प्रयास कर रहा है। हमें गर्व है कि कोर्बेवैक्स TM भारत सरकार के लिए सबसे किफायती वैक्सीन है। क्योंकि भारत सरकार सभी योग्य और हकदार नागरिकों को मुफ्त वैक्सिनेशन की सुविधा उपलब्ध करा रहा है। प्राइवेट मार्केट में कोर्बेवैक्स टीएम की कीमत 990 रुपये होगी। इसमें सभी टैक्स और वैक्सीन लगाने का चार्ज शामिल है।

कोर्बेवैक्स TM वैक्सीन के मुख्य अंश:

  • यह पहली स्वदेशी वैक्सीन है, जिसे 12 से 80 साल के आयु वर्ग में इमरजेंसी इस्तेमाल के रूप में अधिकृत (ईयूए) किया गया है।
  • कोरोना वायरस के नए वैरिएंट के लिए कोर्बेवैक्स TM रिकॉम्बिनेंट प्रोटीन सबयूनिट वैक्सीन है।
  • कोर्बेवैक्स TM की रोग प्रतिरोधक क्षमता कोरोना के पुराने स्ट्रेन के खिलाफ 90 फीसदी तक प्रभावी रहने का संकेत दिया है। कोरोना के डेल्टा वायरस के खिलाफ यह 80 फीसदी तक प्रभावी है। इसका आधार ब्लड में एंटीबॉडीज की निष्क्रियता है।
  • कोर्बेवैक्स TM वैक्सीन से एंटीबॉडीज की प्रतिक्रिया उत्पन्न होती है। वैक्सिनेशन के 6 महीने के बाद से ज्यादा समय तक यह वैक्सीन काफी दृढ़ता से कोरोना वायरस से शरीर का बचाव करती है।
  • बायोलॉजिकल ई. लिमिटेड कंपनी की कोर्बेवैक्स TM की उत्पादन क्षमता सालाना स्तर पर 1 बिलियन डोज तक पहुंच गई है।
  • कोर्बेवैक्सटीएम TM भारत और दुनिया की सबसे किफायती कोरोना वैक्सीन होगी।

Related posts

ग्लेनमार्क भारत में टाइप 2 डायबिटीज के लिए टेनेलिग्लिप्टिन+पायोग्लिटाज़ोनफिक्स्ड-डोज़ कॉम्बिनेशन ड्रग लॉन्च करने वाली पहली फार्मास्युटिकल कंपनी बनी

Khula Sach

सोनी सब के आगामी शो ‘वागले की दुनिया’ में दर्शकों को क्या देखने को मिलेगा ?

Khula Sach

उ०प्र० महिला शिक्षक संघ ने बी०एस०ए० मुलाकात कर शिक्षकों से जुड़ी समस्याओं को कराया अवगत

Khula Sach

Leave a Comment