Khula Sach
कारोबारताज़ा खबर

कॉइन डीसीएक्स ने भारत में क्रिप्टो के विकास के लिए बिट्स पिलानी के साथ साझेदारी की

कॉइन डीसीएक्स की व्यापक क्रिप्टो शिक्षा पहल के बाद हुई साझेदारी, भारत में क्रिप्टो के बारे में अधिक समझ पैदा करेगी और इसे अपनाने को प्रोत्साहित करेगी

नई दिल्ली : भारत के पहले क्रिप्टो यूनिकॉर्न और देश के सबसे सुरक्षित क्रिप्टो एक्सचेंज, कॉइन डीसीएक्स ने आज भारत के एक अग्रणी उच्च शिक्षा संस्थान, बिट्स पिलानी, पिलानी कैंपस के कंप्यूटर साइंस डिपार्टमेंट के साथ अपने महत्वपूर्ण रिसर्च प्रोजेक्ट पार्टनरशिप की घोषणा की, ताकि भारत के छात्र समुदाय में क्रिप्टो अनुसंधान, विकास और इनोवेशन में मदद मिल सके। यह साझेदारी 2020 में भारत के सबसे व्यापक लर्निंग रिसोर्स प्लेटफॉर्म – डीसीएक्स लर्न के लॉन्च के बाद हुई है, ताकि भ्रामक सूचनाओं का मुकाबला किया जा सके और विशेष तौर पर जब क्रिप्टो मुख्यधारा में आ रहा है और इसका महत्व बढ़ रहा है, उभरती टेक्नोलॉजी और इनोवेशन को लेकर जागरूकता पैदा की जा सके।

कॉइनडीसीएक्स के सीईओ और सह-संस्थापक सुमित गुप्ता ने कहा कि “ब्लॉकचेन और क्रिप्टो उच्च प्रगति के लिए, और भारत जैसी डिजिटल रूप से विकसित हो रही अर्थव्यवस्थाओं के विकास की गति को सुपरचार्ज करने के लिए के लिए महत्वपूर्ण भूमिकाएं निभाती हैं। यदि इसे फलने-फूलने का अवसर मिले तो यह टेक्नोलॉजी लोगों और व्यवसायों के जीवन में सुधार लाकर वास्तविक सामाजिक-आर्थिक परिवर्तन लाने की व्यापक क्षमता रखती है। बिट्स के पिलानी कैंपस में कंप्यूटर साइंस डिपार्टमेंट के साथ अपनी रिसर्च पार्टनरशिप के जरिए हम भारत में क्रिप्टो इनोवेशन को आगे बढ़ाना चाहते हैं और देश के ब्लॉकचेन इकोसिस्टम में वैल्यू एड करना चाहते हैं, जिसमें एकेडेमिया की बड़ी भूमिका रहेगी।”

अनुसंधान पहल में कॉइन डीसीएक्स और कंप्यूटर सांइस डिपार्टमेंट स्मार्ट कॉन्ट्रैक्ट्स और डीएप्स डेवलपमेंट सहित ब्लॉकचेन और क्रिप्टो के क्षेत्र में अनुसंधान और शिक्षा परियोजनाओं पर सहयोग करेंगे। अनुसंधान और विकास के क्षेत्र में बिट्स पिलानी, पिलानी कैंपस की फैकल्टी की साख और ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी में कॉइन डीसीएक्स की तकनीकी जानकारी और विशेषज्ञता से लाभ उठाते हुए, संयुक्त पहल दो प्रमुख मुद्दों यानी ब्लॉकचेन साक्षरता और अनुसंधान में विकेंद्रीकृत प्रणाली पर ध्यान केंद्रित करेगी। यह पहल भारत में क्रिप्टो और ब्लॉकचेन तकनीक की समझ और जानकारी को बढ़ाने के लिए कॉइन डीसीएक्स के समग्र रणनीतिक फोकस के साथ भी जुड़ी हुई है। एक वर्ष की अवधि में ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी क्षेत्र में 100 से अधिक छात्रों को प्रशिक्षित किए जाने की उम्मीद हैए और इसके अलावा पारस्परिक रूप से सहमत विषयों पर श्वेतपत्र के रूप में शैक्षिक सामग्री भी तैयार की जाएगी।

कॉइनडीसीएक्स के साथ सहयोग के लिए रिसर्च के लिए नियुक्त, फैकल्टी-इन-चार्ज और बिट्स पिलानी, पिलानी कैंपस में कंप्यूटर साइंस के असिस्टेंट प्रोफेसर डॉ अमित दुआ ने कहा कि “रिसर्च लैब ब्लॉकचेन और क्रिप्टो के अधिक उपयोग के मामलों की पहचान करने और भारत को इस फिनटेक क्रांति में सबसे आगे रखने में मदद करेगी। हमें खुशी है कि यह साझेदारी हमारे छात्रों को ब्लॉकचेन और क्रिप्टो के बारे में अधिक जानकारी प्रदान करने में मदद करेगी।”

कॉइन डीसीएक्स के सह-संथापक नीरज खंडेलवाल ने कहा कि “वर्तमान में भारतीय बाजार में क्रिप्टो उद्योग के लिए एक अद्वितीय अवसर मौजूद है, फिर भी इसकी पूरी क्षमता का दोहन नहीं किया गया है। भारत में क्रिप्टो के प्रमुख पैरवीकार के रूप में, कॉइन डीसीएक्स ब्लॉकचेन और संबंधित वेब 3 टेक्नोलॉजी के विकास और परिपक्वता का समर्थन करने के लिए प्रतिबद्ध है। डीसीएक्स लर्न के साथ हमारे प्रयास और रेग्यूलेटर्स के साथ नीति के लिए की जा रही हमारी पैरवी के अलावा, बिट्स पिलानी, पिलानी कैंपस के साथ हमारी अभी हाल में हुई साझेदारी, क्रिप्टो को व्यापक मुख्यधारा में लाने के मामले में, भारत में डिजिटल एसेट इनोवेशन को मजबूती प्रदान करेगी।”

Related posts

चन्द्र शेखर आजाद सामाजिक न्याय का बेमिसाल योद्धा कैसे हैं ?

Khula Sach

Mirzapur : अधिकारियो कर्मचारियो की डाटा फीडिंग 30 जनवरी तक सुनिश्चित कराये

Khula Sach

Mirzapur : कोविड प्रभावित अनाथ बालिकाओं के हाथ पीले कराने में सरकार पहुंचाएगी मदद

Khula Sach

Leave a Comment