Khula Sach
ताज़ा खबर देश-विदेश राज्य

देश भर में चार राष्ट्रीय लोक अदालतों में कुल 127,87,329 मामलों का निपटारा किया गया

रिपोर्ट : तपेश विश्वकर्मा

मिर्ज़ापुर, (उ0प्र0) : लोक अदालतों का एक वर्ष राष्ट्रीय लोक अदालत विवादों के समाधान में प्रभावी उपकरण त्वरित और सस्ता न्याय देने की प्रतिबद्धता को पूरा करने की अपनी खोज में राष्ट्रीय कानूनी सेवा प्राधिकरण ने भारत के मुख्य संरक्षक और मुख्य न्यायाधीश द्वारा निर्देशित न्यायमूर्ति एन.वी. रमना ने लोक पर जोर दिया है। वैकल्पिक विवाद तंत्र के माध्यम से लंबित मामलों की संख्या को प्रभावी ढंग से कम करने में अदालते।

न्यायमूर्ति उदय उमेश ललित, कार्यकारी अध्यक्ष के नेतृत्व में नालसा ने परिणामोन्मुखी दृष्टिकोण अपनाने और राष्ट्रीय लोक अदालतों में मामलों के निपटान को अधिकतम करने के लिए सभी राज्य कानूनी सेवा प्राधिकरणों के साथ परामर्श और समीक्षा बैठकें शुरू की। प्रत्येक राष्ट्रीय लोक अदालत के आयोजन से पहले नालसा ने तैयारियों का जायजा लेने और सभी हितधारकों के मनोबल को बढ़ाने के लिए सभी राज्य कानूनी सेवा प्राधिकरणों के कार्यकारी अध्यक्षों और सदस्य सचिवों के साथ कई बार बातचीत की।

नालसा के तत्वावधान में कानूनी सेवा प्राधिकरणों ने लोक अदालतों के आयोजन के लिए अपनी रणनीतियों को बदल दिया। तकनीकी प्रगति और वर्चुअल प्लेटफॉर्म का उपयोग करते हुए कानूनी सेवा प्राधिकरण पार्टियों के दरवाजे तक पहुंचने लगे। परिणामस्वरूप, पार्टिया अपने घरों या कार्यस्थलों से तैयारी की बैठकों के साथ साथ लोक अदालत की कार्यवाही में शामिल होने में सक्षम हुई, जिससे उन्हें यात्रा की परेशानी से मुक्ति मिली अधिकारी इस प्रकार देख सकते हैं कि बड़ी संख्या में व्यक्ति अपने भौतिक स्थानों से सैकड़ों किलोमीटर दूर बैठे आभासी कार्यवाही में शामिल हुए।

इस प्रकार नालसा द्वारा लोक अदालतों के पर्यवेक्षण और निगरानी के प्रभावी तरीके विकसित करने के लिए प्रौद्योगिकी का उपयो सभी आधारभूत उपायों के संचयी प्रभाव के परिणाम स्वरूप वर्ष 2021 के दौरान असाधारण निपटान के आंकड़े प्राप्त हुए। देश भर में चार राष्ट्रीय लोक अदालतों में कुल 127,87,329 मामलों का निपटारा किया गया, जिसमें लंबित मामलों की एक रिकॉर्ड संख्या शामिल है। 55,81,117 और बड़ी संख्या में पूर्व मुकदमे के मामले यानी 72.06,2121 यह गर्व की बात है कि विधिक सेवा प्राधिकरण कानूनी लड़ाई को समाप्त या रोक कर जाम नागरिकों को राहत की सांस देते हुए इतनी बड़ी संख्या में मामलों की निपढ़ाने में मदद करने में सक्षम थे।

चल रही महामारी के दौरान लंबित मामलों की संख्या में वृद्धि हुई है, जिससे व्यवस्था पर अतिरिक्त बोझ पड़ रहा है। हालांकि लोक अदालतों के माध्यम से बड़ी संख्या में निपटान के सार्थ न्यायिक प्रशासन पर इस तरह के बोझ को कम करने में कानूनी सेवा प्राधिकरणों द्वारा एक महत्वपूर्ण योगदान दिया गया है। इसमें कोई दो राय नहीं है कि लोक अदालतों ने किसी भी अन्य विवाद समाधान तंत्र की तुलना में अधिक संख्या में मामलों का निपटारा किया है और वैकल्पिक विवाद समाधान तंत्र के सबसे प्रभावशाली उपकरण के रूप में उभरा है।

इन अभूतपूर्व आँकड़ों को प्राप्त करना कोई आसान काम नहीं था और यह मुख्य रूप से निर्णायक रणनीतियों के निर्माण और सभी स्तरों पर हितधारकों के महान योगदान और प्रयासों के कारण संभव हुआ। एक नमूना अध्ययन के माध्यम से महाराष्ट्र राज्य के संबंध में विश्व बैंक समूह में विकास प्रभाव मूल्यांकन टीम में आधारित एक इकाई की हालिया रिपोर्ट ऐसे प्रयासों और परिणामों की गवाही देती है। आजादी का अमृत महोत्सव मनाते हुए और देश में कानूनी सेवाओं के पच्चीस साल पूरे होने पर भीए नालसा की झांकी में लोक अदालतों के माध्यम से विवादों के समाधान पर जोर दिया जाता है। संदेश टकराव को खत्म करने के लिए सुलह हासिल करना है और इस तरह शांति और स। उक्त आशय जानकारी अमित कुमार यादव प्रथम, पूर्ण कालिक सचिव जिला विविध सेवा प्राधिकरण मीरजापुर ने दी हैं।

Related posts

बारह दिनों से अपहृत 2 बच्चियों का पता न लगा पाने से विश्वकर्मा समाज आक्रोशित

Khula Sach

Mirzapur : टेढे मेढ़े पंजों से खराब नहीं होगा बच्चों का बचपन, पिछले वर्ष 65 बच्चें हुए लाभान्वित 

Khula Sach

बूमिंग बुल्स अकादमी की पांच हाइब्रिड सेंटर शुरू करने की योजना

Khula Sach

Leave a Comment