Khula Sach
कारोबार ताज़ा खबर

एमजी मोटर विंड सोलर हाइब्रिड एनर्जी अपनाने वाली पहली पैसेंजर कार कंपनी बनी

हलोल में एमजी की विनिर्माण सुविधा को 50 प्रतिशत बिजली क्लीनमैक्स के विंड सोलर हाइब्रिड पार्क से मिलेगी

मुंबई : एमजी मोटर इंडिया ने एशिया के सबसे भरोसेमंद सस्टेनेबिलिटी पार्टनर क्लीनमैक्स एनवाइरो एनर्जी सॉल्यूशंस प्रा. लि. (क्लीनमैक्स) के साथ भागीदारी की है। यह भागीदारी हलोल में एमजी की विनिर्माण सुविधा को 4.85 एमडब्‍ल्‍यू विंड -सोलर हाइब्रिड पावर देने के लिये हुई है। इस भागीदारी से एमजी 15 वर्षों में लगभग 2 लाख एमटी कार्बन-डाइ-ऑक्साइड कम करेगा, जो 13 लाख से ज्यादा पेड़ लगाने के बराबर होगी।

सस्टेनेबल भविष्य के लिये क्लीनमैक्स का विचार एमजी की प्रतिबद्धता से मेल खाता है। यह कारनिर्माता भारत की पहली प्योर इलेक्ट्रिक इंटरनेट एसयूवी ‘एमजी जेडएस ईवी’ को लॉन्च कर भारत में ईवी को अपनाया जाना बढ़ाने में सबसे आगे रहा है। यह इलेक्ट्रिक एसयूवी ‘चेंज व्हाट यू कैन’ पहल के साथ लॉन्च हुई थी, जिसने लोगों को शून्य उत्सर्जन वाले वाहन अपनाने के लिये प्रोत्साहित किया था।

क्लीनमैक्स पहली रिन्यूवेबल एनर्जी कंपनी है, जिसने गुजरात में निजी उपभोक्ताओं और कॉर्पोरेट्स को स्वच्छ ऊर्जा की बिक्री के लिये एक विंड सोलर हाइब्रिड पार्क की स्थापना की है। उसकी योजना इसे साल 2022 तक 150 एमडब्ल्यू तक बढ़ाने की है। एमजी की हलोल फैसिलिटी क्लीनमैक्स के राजकोट स्थित हाइब्रिड पार्क से फरवरी 2022 में बिजली लेना शुरू करेगी और बिजली लेने का यह काम 15 सालों तक जारी रहेगा।

एमजी मोटर इंडिया के प्रेसिडेंट और मैनेजिंग डायरेक्टर राजीव चाबा ने कहा, “हमने एक सस्टेनेबल भविष्य के लिये अपनी प्रतिबद्धता सुनिश्चित की है, जिससे कई लोग शून्य–उत्सर्जन वाले वाहनों को अपनाने और पर्यावरण संरक्षण में योगदान देने के लिये प्रोत्साहित हुए हैं। क्लीनमैक्स के साथ हमारा गठजोड़ स्वच्छ विनिर्माण का एक इकोसिस्टम बनाने की दिशा में एक अन्य कदम है। इस कदम के साथ, हम अपनी ऊर्जा लागत को कम करते हुए एक स्थायी पर्यावरण बनाने में अपनी भूमिका को और बेहतर बनाने की उम्‍मीद करते हैं।”

क्लीनमैक्स के फाउंडर और एमडी कुलदीप जैन ने कहा, “इस बात से हम सम्मानित हुए हैं कि एमजी मोटर इंडिया ने क्लीनमैक्स को अपने सस्टेनेबिलिटी पार्टनर के रूप में चुना है। उनकी 50% बिजली की जरूरत अपने हाइब्रिड फार्म से पूरी कर हम उनके परिचालन की लागत को काफी कम करेंगे और साथ ही उनका कार्बन-डाइ-ऑक्साइड का उत्सर्जन भी प्रभावी ढंग से कम होगा। एमजीआई को हमारे समाधान के हिस्‍से के रूप में, वे न्यूनतम जोखिम और परेशानी के साथ इन फायदों का लाभ उठायेंगे, क्योंकि पूरा कैपेक्स और परिचालन क्लीनमैक्स द्वारा जनित है। केवल सोलर या विंड पावर के विपरीत, विंड सोलर हाइब्रिड पावर चौबीसों घंटे बिजली की आपूर्ति करता है, ताकि उपभोक्ताओं की रोजाना की बिजली जरूरतों का एक बड़ा प्रतिशत रिन्युबल एनर्जी से मिल सके।”

Related posts

Mirzapur : विंध्य कॉरिडोर के शिलान्यास के लिए प्रगतिकार्य का मण्डलायुक्त ने किया निरीक्षण 

Khula Sach

कोविड-19 के खिलाफ लड़ने के लिए मैनकाइंड फार्मा और अनिल कपूर साथ आए

Khula Sach

स्वास्थ्य ही सबसे बड़ी पूंजी है

Khula Sach

Leave a Comment