Khula Sach
ताज़ा खबर मीरजापुर

Mirzapur : तीन बच्चों का करायी सर्जरी

अप्रैल से अब तक 67 बच्चों का हुआ निःशुल्क उपचार

रिपोर्ट : तपेश विश्वकर्मा

मिर्जापुर, (उ.प्र.) : राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम के तहत नवम्बर माह में 03 बच्चों का वाराणसी स्थित हेरीटेज चिकित्सालय में कटे होठ का निःशुल्क सर्जरी कराया। अप्रैल 2021 से अब तक इस प्रकार के 67 बच्चों का उपचार किया जा चुका है, इस आशय की जानकारी कार्यक्रम के प्रबन्धक राकेश तिवारी ने दी।

अपर मुख्य चिकित्सालय डाक्टर अरूण कुमार ने बताया कि जिले के 8 सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र, 44 प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों के अलावा 263 सबसेन्टरों पर भी राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम के तहत लगातार बच्चों का उपचार किया जा रहा है।

नवम्बर माह में सामुदायिक स्वास्थ्य गुरूसण्डी दो बच्चे व अर्बन प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र के एक बच्चे का कटे होठ के मिले, जिनकी उम्र 3.5 वर्ष का दो व एक 4 वर्ष तक के हैं। राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम के तहत ऐसे बच्चों का उपचार बिल्कुल निःशुल्क कराया जाता है। इन बच्चों को लेकर राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम के तहत टीम के डाक्टर हिमांशु चतुर्वेदी ने सरकारी खर्चे पर वाराणसी स्थित हेरीटेज चिकित्सालय में ले जाकर इनकी सर्जरी करायी व दो दिनों के बाद 16 नवम्बर को डाक्टरों के परामर्श के बाद ही लौटे और आज बच्चें बिल्कुल स्वस्थ्य है और अच्छे ढंग से खेल कूद रहे हैं।

मुख्य चिकित्साधिकारी डाक्टर प्रभु दयाल गुप्ता का कहना है कि इन डाक्टरों की जितनी प्रशंसा की जाये उतनी कम है क्योंकि ये रात दिन काम करके ऐसे बच्चों को खोजकर उनका उपचार करा रहे हैं। मण्डलीय चिकित्सालय से लेकर ग्रामीण स्तर तक बैनर लगाने के साथ ही टीम द्वारा लगातार घर.घर व केन्द्र पर आने वाले लोगों जागरूक करने का काम किया जा रहा है। स्वास्थ्य विभाग लगातार लोगों से अपील किया है कि यदि किसी बच्चें का इस प्रकार से जन्म से शिकायत है तो राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम के तहत निःशुल्क उपचार करा सकता है।

सरैया ग्राम निवासी सुरेश ने कहा कि मेरा 4 वर्ष का पुत्र आशु का होठ बचपन से ही कटा होने के कारण हम व हमारा परिवार काफी परेशान था, फिर क्षेत्र की आशा ने बताया कि केन्द्र पर लगने वाले आरोग्य मेला में अपने लड़के को लेकर आइये जब मैं आरोग्य मेला में गया, तो आरबीएसके की टीम के डाक्टर हिमांशु ने कहा कि बिल्कुल डरने की आवश्यकता नही है इनको केन्द्र पर भर्ती करा दे इनका उपचार टीम के द्वारा किया जायेगा। उसके बाद टीम के डाक्टरों की मदद से बच्चे का सफल आपरेशन हुआ और आज मेरा बच्चा पहले की तर खेल कूद रहा है व पूर्णत स्वस्थ्य है।

Related posts

Delhi : सिरफिरे-आशिक ने एकतरफा प्यार में नाबालिग युवती पर कुल्हाड़ी से किया घातकनुमा वार,पीड़िता की हालत गम्भीर

Khula Sach

ग्रामोफ़ोन से फसल बेचना हुआ आसान, लॉकडाउन में हजारों किसानों ने उठाया लाभ

Khula Sach

डॉलर कमजोर होने से सोना चढ़ा, जबकि बेस मेटल्स दबाव पर बना रहा

Khula Sach

Leave a Comment